• Breaking News

    हाकी के जादुगर मेजर ध्यानचंद के गुरु मेजर बाले तिवारी पर लिखी पुस्तक थपकी का विमोचन | #NayaSaberaNetwork

    नया सबेरा नेटवर्क
    नई दिल्ली। जब भी हॉकी की बात होती है तो मेजर ध्यानचंद का नाम बरबस जुबान पर आ जाता है। मानो भारतीय हॉकी का पर्याय ही ध्यानचंद है। सच मानिए यदि ध्यानचंद नहीं होते तो सम्भवतः भारतीय हॉकी भी नहीं होती। नहीं होती से तात्पर्य है कि उसका स्वर्ण युग नहीं होता। ध्यानचंद हॉकी के स्वर्ण रहे हैं। और कहते हैं सोना जितना तपेगा वो उतना ही निखरेगा। 
    तपाने वाला जौहरी जानता है कौन सा स्वर्ण कितना तप कर कितनी चमक या दमक बिखेर सकता है। तो ध्यानचंद जैसे स्वर्ण को तपाकर निखारने वाले उसी जौहरी सूबेदार मेजर बाले तिवारी के जीवन पर आधारित ,,थपकी,, नामक पुस्तक का विमोचन शनिवार 03 सितंबर 2022 को प्रैस क्लब आफ इंडिया दिल्ली में संपन्न हुआ. इस दौरान समारोह के मुख्य अतिथि विजय गोयल ( पूर्व खेल मंत्री), अशोक ध्यानचंद ( पूर्व हॉकी ओलंपियन), विशिष्ठ अतिथि डॉ. अनीता आर्या ( पूर्व सांसद),  रमिंदर सिंह  (संस्थापक एवं सीईओ, सेलिबफी एप),  राकेश प्रजापति, शैलेंद्र कुमार, राकेश तिवारी, भोलानाथ तिवारी,  हरि प्रसाद मिश्र, अशोक पाठक, अशोक दीवान, नवीन कुमार, अरविंद छाबड़ा व अन्य गणमान्यों की मौजूदगी में संपन्न हुआ.सभी गणमान्यजनों ने दीप प्रज्जवलित कर समारोह का शुभारंभ किया। 
    इस दौरान सभा को संबोधित करते हुए विजय गोयल ने कहा कि यह हम सबके लिए गर्व की बात है कि पुस्तक के लेखक वरुण तिवारी और ब्रजबाला ने अपने पडदादा सूबेदार मेजर बाले तिवारी के व्यक्तित्व को थपकी के जरिये लोगों के सामने लाने का जो सुंदर प्रयास किया है उसके लिए मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूँ. आदरणीय बाले तिवारी जी ने हम सबको ध्यानचंद रूपी जो हीरा दिया है हम सब उसके आभारी रहेंगे. अशोक ध्यानचंद ने कहा कि आदरणीय बाले तिवारी के बिना ध्यानचंद का जीवन अधूरा है. बाले तिवारी के प्रोत्साहन रूपी थपकी से वह एक अच्छे खिलाडी के रूप में निखर कर सामने आये और उनके मार्गदर्शन में खेलते हुए एक बेहतरीन खिलाड़ी बने। ध्यान सिंह को खेल की एक-एक बारीकी से रूबरू कराया सूबेदार मेजर बाले तिवारी ने। 
    सूबेदार मेजर बाले के जीवन पर आधारित पुस्तक "थपकी" का लोकार्पण देश-दुनिया के तमाम हॉकी खेल प्रेमियों के लिए एक सौगात होगी। "थपकी" बतौर लेखक मेरी ( वरुण तिवारी) की पहली पुस्तक है। इसके लेखन को लेकर मैं जितना उत्साहित था उतना ही चिंतित भी। क्योंकि यह काम जितना आसान दिख रहा था उतना था नहीं। पाठकों के समक्ष इस पुस्तक को पहुंचाने में  रमिंदर सिंह जी का मुझे भरपूर सहयोग मिला उसके लिए मैं उनका हृदय की गहराईयों से आभार व्यक्त करता हूं।

    *Ad : जौनपुर टाईल्स एण्ड सेनेट्री | लाइन बाजार थाने के बगल में जौनपुर | सम्पर्क करें - प्रो. अनुज विक्रम सिंह, मो. 9670770770*
    Ad

    *अक्षरा न्यूज सर्विस (Akshara News Service) | ⭆ न्यूज पेपर डिजाइन ⭆ न्यूज पोर्टल अपडेट ⭆ विज्ञापन डिजाइन ⭆ सम्पर्क करें ⭆ Mo. 93240 74534 ⭆  Powered by - Naya Savera Network | https://www.youtube.com/c/NayaSaveraNetwork*
    Ad

    *एस.आर.एस. हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेन्टर स्पोर्ट्स सर्जरी डॉ. अभय प्रताप सिंह (हड्डी रोग विशेषज्ञ) आर्थोस्कोपिक एण्ड ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ऑर्थोपेडिक सर्जन # फ्रैक्चर (नये एवं पुराने) # ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी # घुटने के लिगामेंट का बिना चीरा लगाए दूरबीन  # पद्धति से आपरेशन # ऑर्थोस्कोपिक सर्जरी # पैथोलोजी लैब # आई.सी.यू.यूनिट मछलीशहर पड़ाव, ईदगाह के सामने, जौनपुर (उ.प्र.) सम्पर्क- 7355358194, Email : srshospital123@gmail.com*
    Ad

    No comments