• Breaking News

    या सकीना या अब्बास की सदा के साथ निकला छह मुहर्रम का जुलूस | #NayaSaberaNetwork


    या सकीना या अब्बास की सदा के साथ निकला छह मुहर्रम का जुलूस  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    अंजुमनों ने नौहा व मातम कर पेश किया नजराने अकीदत
    जौनपुर। नगर में छठीं मुहर्रम को हजरत अब्बास अलमदार की शहादत की याद में अलम का जुलूस निकाला गया। कटघरा इमामचौक मिर्जा अबूजाफर मरहूम में शाम को मजलिस को खिताब करते हुए मोहम्मद हसन नसीम ने कहा कि आज हम सब यहां हजरत इमाम हुसैन के छोटे भाई हजरत अब्बास अलमदार की याद में इकट्ठा हुए हैं। अब्बास अलमदार ने अपने आका इमाम हुसैन अ.स. के हर हुक्म को माना था और वे अपनी भतीजे जनाबे सकीना जो कि चार साल की थी बेपनाह मुहब्बत करते थे जब यजीदी फौजों ने सात मुहर्रम को नहरे फुरात दरिया पर पहरा बिठा दिया था कि कोई भी बिना उनकी इजाजत के पानी न ले जा सके तब हजरत अब्बास अलमदार ने अपनी चार साल की भतीजी सकीना की फरमाईश पर न सिर्फ नहरे फरात पर कब्जा किया बल्कि मश्क में पानी भरकर वे जैसे ही खैमें की तरफ बढ़ रहे थे जंग के नियम कानून को ताक पर रखकर यजीदी फौजों ने हजरत अब्बास अलमदार को घेरकर शहीद कर दिया। पहले उन्होंने उनके दो हाथों को कलम किया और उसके बाद उनके कब्जे से मश्क को लेकर पानी को बहा दिया। ये देखकर हजरत इमाम हुसैन की चार साला बेटी सकीना ने रोते हुए कहा कि मुझे पानी नहीं चाहिए बल्कि मुझे मेरे चचा अब्बास को मेरे पास बुला दें। ये सुनकर अजादारों ने या सकीना या अब्बास की सदा के साथ नौहा मातम शुरू किया और अंजुमन कौसरिया के नेतृत्व में जुलूस निकाला गया जो अपने कदीम रास्ते ओलंदगंज, नक्खास, शाही पुल होते हुए चहारसू चौराहा पहुंचा। यहां पर शहर की सभी अंजुमनें एक एक कर लगती गर्इं और नौहा मातम व जंजीरों से मातम कर अपना खून बहाकर कर्बला के शहीदों को नजराने अकीदत पेश किया। देर रात्रि जुलूस मख्दूमशाह अढ़न स्थित कल्लू मरहूम के इमामबाड़े में पहुंचा जहां डॉ.कमर अब्बास ने तकरीर करते हुए पुन: कर्बला के मंजर को बयान किया। जिसके बाद शबीहे तुर्बत जनाबे सकीना को अलम अब्बास अलमदार से मिलाया गया। इस मंजर को देखकर सभी की आंखे नम हो गर्इं। जुलूस का संचालन मेंहदी रजा एडवोकेट ने किया। इस मौके पर हजारों की संख्या में अजादार मौजूद रहे। वहीं दूसरी ओर नगर के इमामबाड़ा बसवारी तला बलुआघाट मे मजलिस को मोहम्मद अब्बास साहब ने खिताब करते हुए हजरत इमाम हुसैन व उनके 71 साथियों क ी शहादत को बयान किया जिसके बाद अंजुमन हुसैनिया के नेतृत्व मंे शबीहे अलम का जुलूस निकाला गया जो मानिक चौक होते हुए शाही किला पहुंचा जहां तकरीर के बाद शबीहे अलम को तुर्बत व दुलदुल से मिलाया गया। जुलूस पुन: बलुआघाट केरारकोट होते हुए मीर सैयद अली के इमामबाड़े इमली तले पहुंचा जहां मौलाना ने मजलिस को पुन: खिताब करते हुए कर्बला के शहीदों को नजराने अकीदत पेश किया। इस मौके पर अंजुमन हुसैनयिा के नौहे खां नवाज हसन खां व अदीब ने अपने दर्द भरे नौहे पढ़कर पूरे माहौल को गमगीन कर दिया। 

    *उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ जौनपुर के जनपदीय संगठन मंत्री संतोष सिंह बघेल की तरफ से नया सबेरा परिवार को छठवीं वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं | Naya Sabera Network*
    Ad

    *उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ जौनपुर के जिला उपाध्यक्ष राजेश सिंह की तरफ से नया सबेरा परिवार को छठवीं वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं | Naya Sabera Network*
    Ad

    *श्रीमती अमरावती श्रीनाथ सिंह चैरिटेबल ट्रस्ट के ट्रस्टी, कयर बोर्ड भारत सरकार के पूर्व सदस्य एवं वरिष्ठ भाजपा नेता ज्ञान प्रकाश सिंह की तरफ से नया सबेरा परिवार को छठवीं वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं | Naya Sabera Network*
    Ad

    No comments