• Breaking News

    सावन की बौछारों के बीच ‘फूलों की घाटी’ की छटा निखरी | #NayaSaberaNetwork

    नया सबेरा नेटवर्क
    गोपेश्वर। सावन की बौछारों के बीच उत्तराखंड स्थित विश्व प्रसिद्ध ‘फूलों की घाटी’ में हर ओर रंग-बिरंगे फूलों की निराली छटा बिखरी हुई है, जिसका दीदार करने के लिए दूर-दूर से पर्यटक पहुंच रहे हैं। सावन की हरियाली के बीच दूर तक फैले प्रकृति के सभी चटख रंगों के फूल घाटी की सुन्दरता को चार चांद लगा रहे हैं और पर्यटक इन नजारों का लुत्फ उठा रहे हैं।
    ख्याति प्राप्त छायाकार और फूलों की घाटी पर कई ‘कॉफी टेबल बुक’ के लेखक व फिल्मकार चन्द्रशेखर चौहान कहते हैं कि यहां मौजूद पीले रंग का ‘पैटिकुलस’ जिसे हल्दिया के नाम से भी जाना जाता है, अपनी छटा खूब बिखेर रहा है। उन्होंने बताया कि इन दिनों यहां हल्दिया की दोनों प्रजातियां खिली हुई हैं। इसके अलावा, अपनी सुन्दरता के लिए प्रसिद्ध ब्लू-पापी और गुलाबी रंग के ‘डांग फ्लावर’ भी खिल रहे हैं। डांग फ्लावर बालसम की प्रजाति है।
    पर्यटक भी फूलों की घाटी के नजारों से उत्साहित दिखे। शनिवार शाम को फूलों की घाटी की सैर करके लौटे चंडीगढ़ निवासी पर्यटक दीक्षित ने कहा कि उन्होंने पहले कभी देश और दुनिया में ऐसी सुन्दरता नहीं देखी। उन्होंने कहा, ‘‘घाटी के जिन नयनाभिराम नजारों से आज रूबरू हुआ, वह पहले कभी नहीं देखा था।’’ उन्होंने यहां फूलों की 70 प्रजातियों की पहचान की। हैदराबाद के कृष्णा ने कहा कि घाटी की यात्रा के अनुभव को शब्दों में बयां करना संभव नहीं है और अनोखी वनस्पति के अलावा यहां के मनमोहक दृश्य भी अकल्पनीय थे।
    वन अनुसंधान से जुड़े एक पूर्व अधिकारी हरीश नेगी बताते हैं कि बर्फ पिघलने के साथ ही फूलों की घाटी में पुष्पों का खिलना शुरू हो जाता है और जुलाई मध्य से लेकर अगस्त मध्य तक यहां की अधिकतर वनस्पतियों में पुष्प पल्लवित हो उठते हैं। इन दिनों मुख्य रूप से एनिमोन, हल्के नीले और लेवेंडर रंग का जिरेनियम, मार्शमेरी-गोल्ड, लच्छेदार नीले फूलों वाला प्राईमूला, पोटेनटिला, जियम, एस्टर, लिलियम, हिमालयन ब्लू पॉपी, एकोनाईटस, डेलिफिनियम, रैननकुलस, कार्डिएलिस, इन्यूला, ब्रह्मकमल, कैंपान्यूला आदि अनेक प्रजातियां घाटी में खिली हुई हैं।
    सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि ये सभी औषधीय गुणों से भी भरपूर हैं। कोविड-19 के चलते पिछले दो साल से घाटी पर्यटकों के लिए बंद रही। फूलों की घाटी राष्ट्रीय पार्क की प्रभारी अधिकारी चेतना कांडपाल ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि शनिवार शाम तक 6,889 पर्यटक फूलों की घाटी का भ्रमण कर चुके है जिनमें 87 विदेशी पर्यटक भी शामिल हैं। शनिवार को ही करीब 150 पर्यटकों ने फूलों की घाटी का लुत्फ उठाया।

    *प्रवेश प्रारम्भ-सत्र 2022-23 | निर्मला देवी फार्मेसी कॉलेज |(AICTE, UPBTE & PCI Approved) | Mob:- 8948273993, 9415234998 | नयनसन्ड, गौराबादशाहपुर, जौनपुर, उ0प्र0 | कोर्स - B. Pharma (Allopath), D. Pharma (Allopath) | द्विवर्षीय पाठ्यक्रम योग्यता, योग्यता - इण्टर (बायो/मैथ) And प्रवेश प्रारम्भ-सत्र 2022-23 | निर्मला देवी पॉलिटेक्निक कॉलेज | नयनसन्ड, गौराबादशाहपुर, जौनपुर, उ0प्र0 | ● इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग | ● इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग | ● सिविल इंजीनियरिंग | ● मैकेनिकल इंजीनियरिंग ऑटो मोबाइल | ● मैकेनिकल इंजीनियरिंग प्रोडक्शन | ITI अथवा 12 पास विद्यार्थी सीधे | द्वितीय वर्ष में प्रवेश प्राप्त करें। मो. 842397192, 9839449646 | छात्राओं की फीस रु. 20,000 प्रतिवर्ष | #NayaSaberaNetwork*
    Ad


    *वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर | मीडिया के क्षेत्र में बनाएं करियर | प्रवेश प्रारंभ | एम० ए० जनसंचार | ( M.A. in Mass communication and journalism ) ● राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 से आच्छादित नवीनतम पाठ्यक्रम, अनुभवी शिक्षक व आधुनिक तकनीकी से परिपूर्ण | सम्पर्क सूत्र - 7905262713, 8948732223 | अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें- www.vbspu.ac.in*
    Ad


    *Nehru Balodyan Sr. Secondary School | Toppers of CBSE Grade 10 & XII 2021-22 | 100% Students secured First Class & above | Admission Open for academic Session 2022-23 | Kanhaipur, Jaunpur | Contact us : 9450089310, 9415234111, Transport Incharge : 9554586608, 8736006564  | #NayaSaberaNetwork*
    Ad

    No comments