• Breaking News

    इसरो के पहले एसएसएलवी अभियान के लिए उलटी गिनती शुरू | #NayaSaberaNetwork

    नया सबेरा नेटवर्क
    श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश)। भारत के पहले छोटे उपग्रह प्रक्षेपण यान (एसएसएलवी) के प्रक्षेपण के लिए शनिवार देर रात दो बजकर 26 मिनट पर उलटी गिनती शुरू हो गयी। यह एसएसएलवी एक पृथ्वी अवलोकन उपग्रह और छात्रों द्वारा बनाया एक उपग्रह लेकर जाएगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने यह जानकारी दी। इसरो ने 500 किलोग्राम तक के उपग्रहों को पृथ्वी की निचली कक्षा में 500 किलोमीटर तक स्थापित करने का मिशन शुरू किया है।
    उसका उद्देश्य तेजी से बढ़ते एसएसएलवी बाजार का बड़ा हिस्सा बनना है। इसरो ने रविवार को अपनी वेबसाइट पर कहा, ‘‘एसएसएलवी-डी1/ईओएस-02 मिशन : उलटी गिनती दो बजकर 26 मिनट पर शुरू हुई।’’ एसएसएलवी का उद्देश्य उपग्रह ईओएस-02 और आजादीसैट को पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित करना है। चेन्नई से करीब 135 किलोमीटर दूर सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसएचएआर) के पहले लॉन्च पैड से सुबह नौ बजकर 18 मिनट पर रॉकेट प्रक्षेपित किया जाएगा।
    प्रक्षेपण के करीब 13 मिनट बाद रॉकेट के इन दोनों उपग्रहों को निर्धारित कक्षा में स्थापित करने की उम्मीद है। अपने भरोसेमंद ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी), भूस्थैतिक उपग्रह प्रक्षेपण यान (जीएसएलवी) के माध्यम से सफल अभियानों को अंजाम देने में एक खास जगह बनाने के बाद इसरो लघु उपग्रह प्रक्षेपण यान (एसएसएलवी) से पहला प्रक्षेपण करेगा, जिसका उपयोग पृथ्वी की निचली कक्षा में उपग्रहों को स्थापित करने के लिए किया जाएगा।
    इसरो के वैज्ञानिक ऐसे छोटे उपग्रहों के प्रक्षेपण के लिए पिछले कुछ समय से लघु प्रक्षेपण यान विकसित करने में लगे हुए हैं, जिनका वजन 500 किलोग्राम तक है और जिन्हें पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित किया जा सकता है। एसएसएलवी 34 मीटर लंबा है जो पीएसएलवी से लगभग 10 मीटर कम है और पीएसएलवी के 2.8 मीटर की तुलना में इसका व्यास दो मीटर है। एसएसएलवी का उत्थापन द्रव्यमान 120 टन है, जबकि पीएसएलवी का 320 टन है, जो 1,800 किलोग्राम तक के उपकरण ले जा सकता है।
    इसरो ने इंफ्रा-रेड बैंड्स में उन्नत ऑप्टिकल रिमोट सेंसिंग उपलब्ध कराने के लिए पृथ्वी अवलोकन उपग्रह का निर्माण किया है। ईओएस-02 अंतरिक्षयान की लघु उपग्रह श्रृंखला का उपग्रह है। ‘आज़ादीसैट’ में 75 अलग-अलग उपकरण हैं, जिनमें से प्रत्येक का वजन लगभग 50 ग्राम है। देशभर के ग्रामीण क्षेत्रों की छात्राओं को इन उपकरणों के निर्माण के लिए इसरो के वैज्ञानिकों द्वारा मार्गदर्शन प्रदान किया गया था जो स्पेस किड्स इंडिया की छात्र टीम द्वारा एकीकृत हैं। ‘स्पेस किड्ज इंडिया’ द्वारा विकसित जमीनी प्रणाली का उपयोग इस उपग्रह से डेटा प्राप्त करने के लिए किया जाएगा।

    *सखी वेलफेयर फाउंडेशन जौनपुर की अध्यक्ष प्रीति गुप्ता की तरफ से नया सबेरा परिवार को छठवीं वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं | Naya Sabera Network*
    Ad

    *वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक डॉ. राकेश कुमार यादव की तरफ से नया सबेरा परिवार को छठवीं वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं | Naya Sabera Network*
    Ad



    *नया सबेरा के स्थापना दिवस पर पूरी टीम को बधाई - आचार्य बलदेव पी.जी. कॉलेज, कोपा पतरही - जौनपुर  (उ.प्र.) | DIRECT Admission | D.El.Ed. (B.T.C.) Code : 440002, 440003 | B.Ed | B.A. I B.Sc. I M.A. I B.Ed. | B.C.A. I B.Com | B.T.C. (D.EL.Ed.) | B.A. - हिन्दी, गृहविज्ञान, भूगोल, मनोविज्ञान, अर्थशास्त्र, शिक्षाशास्त्र, समाजशास्त्र, मध्यकालीन इतिहास, राजनीतिशास्त्र, अंग्रेजी, संगीत, संस्कृत | B.Sc. - भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित, जन्तु विज्ञान, वनस्पति विज्ञान | M.A. - हिन्दी, गृहविज्ञान, भूगोल, शिक्षाशास्त्र, समाजशास्त्र | अनिल यादव (मैनेजमेन्ट गुरू ) | प्रदेश उपाध्यक्ष - उ.प्र.   स्ववित्तपोषित महाविद्यालय एसोसिएशन | 9651995200, 7755003107, 7755003109, 7755003110, 9005454777 | Naya Sabera Network*
    Ad

    No comments