• Breaking News

    इंसानियत के लिए कुर्बानी की सीख देती है ईद उल अजहा:महफूजुल | #NayaSaberaNetwork






    इंसानियत के लिए कुर्बानी की सीख देती है ईद उल अजहा:महफूजुल  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    लोभ, लालच को छोड़ना सबसे बड़ी कुर्बानी:मौलाना फैसल कमर
    शाही ईदगाह सहित जिले में सकुश हुई ईद उल अजहा की नमाज
    जौनपुर। नगर के शिया ईदगाह सदर इमामबाड़ा बेगमगंज में इमामे जुमा मौलाना महफूजुल हसन खां एवं प्रिन्सिपल जामिया इमानिया नासिरया हमाम दरवाज़ा ने ईदुल अज़हा की नमाज़ अदा कराई। उन्होंने खुतबा देते हुए कहा कि ईदुल अज़हा मुसलमानों को इन्सानियत के लिए कुर्बानी की सीख देती है। मौलाना महफूजुल हसन खां ने देशवासियों को ईदुल अज़हा की मुबारकबाद पेश की। उन्होंने देश में अमन, शान्ति  एवं जल्द बारिश होने के लिए खास दुआ की। इस मौके पर मुतवल्ली शिया जामा मस्जिद नवाब बाग़ शेख़्ा अली मंज़र ड़ेज़ी ने जि़ला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, नगर पालिका परिषद प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग प्रशासन का शुक्रिया अदा किया। दूसरी नमाज़ मौलाना सैय्यद मुबशशिर हुसैन रिज़वी गोपालपुरी अध्यापक जामिया इमानिया नासिरया ने पढ़ाई। इस मौके पर वरिष्ठ नेता सैय्यद परवेज़ हसन, सैयद अकबर हुसैन ज़ैदी एडवोकेट, सैय्यद असलम नकवी, मोहम्मद नासिर रज़ा गुड्डू,  तहसीन अब्बास सोनी, हाजी समीर अली, डाक्टर हाशिम खां ,शेख़्ा तकी हैदर काजू, अहमद हैदर पुरी ,मजनू सलमानी, ईददू सलमानी मुजाविरीन सदर इमामबाड़ा बेगमगंज इत्यादि ने देश वासियों को मुबारकबाद पेश की। इसी क्रम में शाही ईदगाह में भी नमाज अदा कराई गई। गौरतलब हो कि इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक आखरी महीना जिलहिज्जा कि 10 तारीख को ईद उल अजहा की नमाज अदा की जाती है। कोविड कॉल के 2 साल के बाद ईद उल अजहा के मौके पर शाही ईदगाह में ईद की नमाज बड़ी संख्या में लोगों ने अकीदत के साथ अदा की। ईद की नमाज मौलाना जफर के दामाद मौलाना फैसल कमर ने अदा कराई। इस मौके पर आवाम को खेताब करते हुए मौलाना ने कहा कि जब अल्लाह ने एक सपने के माध्यम से हजरत इब्रााहिम अलैहिस्सलाम जो अल्लाह के पैगंबर थे और खलीलुल्लाह कहलाए से सबसे अजीज चीज को कुर्बान करने के लिए कहा तो उन्होंने अल्लाह की राह में अपनी सबसे अजीज चीज अपनी औलाद हजरत इस्माइल को कुर्बान करने का फैसला किया जो अल्लाह को बहुत पसंद आया। बाद में अल्लाह ने फरिश्तों को भेजकर उस कुर्बानी को एक भेड़ की शक्ल में बदल दिया। तब से कुर्बानी करने का लगभग पांच हजार साल से यह सिलसिला जारी है और अल्लाह की राह में उसके बंदे उस कुर्बानी के प्रतीक के रूप में जानवर जिबह करते हैं। उन्होंने बताया कि अरबी में कूर्ब का मतलब नजदीक होता है, इसीलिए इसको ईद ए कुर्बा भी कहते हैं,और कुर्बानी करने के बाद बंदा अपने रब के नजदीक हो जाता है। उन्होंने बताया कि अल्लाह के नेक बंदों को चाहिए कि वह अल्लाह के रास्ते में अपने हर बुरे काम छोड़ दे और नेक रास्ते पर अमल करते हुए अपनी जिंदगानी गुजारे, लोभ ,लालच ,बेईमानी छोड़ना ही सबसे बड़ी कुर्बानी है। लोगों ने एक दूसरे से गले मिलकर ईद उल अजहा की मुबारकबाद दी और अपने अपने घरों पर जाकर जानवर जिब्हा कराने का काम किया। नमाज के वक्त जिला प्रशासन के लोग भी ईदगाह के इर्द-गिर्द मौजूद रहे। इस मौके पर शाही ईदगाह कमेटी के मेंबर,मो शोएब खां, नेयाज ताहरि, रियाजुल हक,हाजी इमरान, अबुजर अंसारी,जफर,आदि लोग मौजूद रहे। शाहगंज संवाददाता के अनुसार रविवार को नगर के बड़ी मस्जिद, दाता शाह मस्जिद आदि सहित क्षेत्र के बड़ागांव, भादी, सबरहद , उसरहटा, हुसैनाबाद की मस्जिद व ईदगाह में बकरीद की नमाज अकीदत के साथ अदा की गई। शांति व्यवस्था की दृष्टि से क्षेत्राधिकारी अंकित कुमार व प्रभारी निरीक्षक सुधीर कुमार आर्य पुलिस बल के साथ क्षेत्र में चक्रमण करते रहे। त्योहार पर लोग एक - दूसरे को गले लगाकर बधाई देते हुए नजर आये। जलालपुर संवाददाता के अनुसार  ईद उल अज़हा का त्योहार स्थानीय कस्बे के स्थित ईदगाह तथा जामा मस्जिद सहित ग्रामीणांचलो  के ईदगाहों  एवं प्रमुख मस्जिदों में पूरी श्रद्धा एवं अकीदत के साथ मनाया गया। सुबह से ईदगाहो व मस्जिदों में नमाज अदा करने के लिए नमाजियों के आने का सिलसिला बदस्तूर जारी रहा। निर्धारित समय पर कारी रहमत अली ने नमाजियों को नमाज पढ़ाया तथा देश में अमन-चैन कायम रखने देश की खुशहाली विकास और तरक्की तथा आपसी भाईचारा कायम रखने के लिए अल्लाह से दुआएं मांगी। कारी रहमत अली ने आवाम को पैगाम देते हुए कहा कि इस्लामिक मान्यता के अनुसार हजरत इब्रााहिम अपने पुत्र हजरत इस्माइल को इसी दिन खुदा के हुक्म पर खुदा की राह में कुर्बानी करने जा रहे थे तो अल्लाह ने उनके पुत्र को जीवनदान दे दिया। जिसकी याद में यह त्यौहार मनाया जाता है। कुरान में भी लिखा है हमने तुम्हें हौज़ ए कौसर दिया तो तुम अपने अल्लाह के लिए नमाज पढ़ो और कुर्बानी करो। उन्होंने उपस्थित आवाम से अपील किया कि  सरकार द्वारा समय-समय पर जारी गाइडलाइन का पूरा पूरा ख्याल रखें तथा उसका पूरा पूरा पालन करे। इसी क्रम में स्थानीय थाने के पास जामा मस्जिद में भी नमाजियो को अयूब खान द्वारा नमाज पढ़ाया गया।उन्होंने आवाम को ईद उल अज़हा के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दिया तथा देश में आपसी भाईचारा कायम रखने तथा देश की खुशहाली और तरक्की के लिए दुआएं मांगी। थानाध्यक्ष जितेंद्र बहादुर सिंह के द्वारा सुरक्षा व्यवस्था का पुख्ता इंतजामात किए गए थे। ईदगाहों तथा मस्जिदो पर भारी तादाद में पुलिस बल मौजूद थे और थानाध्यक्ष अपने हमराहियों तथा क्षेत्राधिकारी केराकत गौरव शर्मा के साथ समय-समय पर चक्रमण करते रहे। ईद की नमाज सौहार्द पूर्ण आपसी भाईचारा शांन्ति पूर्ण वातावरण में संपंन हो गयी। मीरगंज संवाददाता के अनुसार अल्लाह की रजा के लिए कुर्बानी का त्यौहार बकरीद (ईद-उल-अजहा) ईदगाहों, मस्जिदों में बकरीद की नमाज अदा की गई। नमाज के बाद घर पहुंचकर मुस्लिमो ने जानवरो की कुर्बानी दी। इस मौके पर लोगों ने मुल्क के अमन, चैन की खुशहाली के लिए कामना की। आस-पास के क्षेत्रों में कुर्बानी का पर्व बकरीद मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। ईद-उल-अजहा की नमाज क्षेत्र के भिदुना , जंघई , बंधवा , मीरगंज बाजार के उत्तर तरफ ईदगाह सहित अन्य स्थानों पर पूरी अकीदत के साथ अदा की गई। और अपने हैसियत के मुताबिक जानवरों की कुर्बानी दी गई। वही क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए  थानाध्यक्ष मीरगंज बृजेश कुमार गुप्ता पुलिस बल के साथ क्षेत्र में चक्रमण करते रहे। सिरकोनी संवाददाता के अनुसार ईद उल अज़हा का त्योहार कबूलपुर  स्थित ईदगाह व  ग्रामीणांचलो  के ईदगाहों  एवं प्रमुख मस्जिदों में पूरी श्रद्धा एवं अकीदत के साथ मनाया गया। सुबह से ईदगाहो व मस्जिदों में नमाज अदा करने के लिए नमाजियों के आने का सिलसिला बदस्तूर जारी रहा। निर्धारित समय पर कारी रहमत अली ने नमाजियों को नमाज पढ़ाया तथा देश में अमन-चैन कायम रखने देश की खुशहाली विकास और तरक्की तथा आपसी भाईचारा कायम रखने के लिए अल्लाह से दुआएं मांगी। कारी रहमत अली ने आवाम को पैगाम देते हुए कहा कि इस्लामिक मान्यता के अनुसार हजरत इब्रााहिम अपने पुत्र हजरत इस्माइल को इसी दिन खुदा के हुक्म पर खुदा की राह में कुर्बानी करने जा रहे थे तो अल्लाह ने उनके पुत्र को जीवनदान दे दिया। जिसकी याद में यह त्यौहार मनाया जाता है। कुरान में भी लिखा है हमने तुम्हें हौज़ ए कौसा दिया तो तुम अपने अल्लाह के लिए नमाज पढ़ो और कुर्बानी करो। उन्होंने उपस्थित आवाम से अपील किया कि  सरकार द्वारा समय-समय पर जारी गाइडलाइन का पूरा पूरा ख्याल रखें तथा उसका पूरा पूरा पालन करे। सुइथाकलां संवाददाता के अनुसार सरपतहां थाना क्षेत्र में रविवार को ईद उल अजहा का पर्व बड़े ही अकीदत के साथ सम्पन्न हुआ। लोग नमाज के बाद एक दूसरे को गले लगकर पर्व की बधाईयाँ देते नजर आए।पुलिस और प्रशासन के लोग क्षेत्र में अमन चैन के लिए मुस्तैद दिखे। कुर्बानी के इस पर्व पर क्षेत्र के पूरा असालत  खाँ, सुइथाकलां, डीहअसरफाबाद, समोधपुर, हमजापुर, जमदरा समेत दर्जन भर गाँव के मस्जिदों और ईदगाहों में शिया और सुन्नी धर्मगुरूओं के द्वारा नमाजियों को नमाज पढ़ाया गया। कोरोना काल के बाद पहली बार बड़ी तादाद में लोग मस्जिदों और ईदगाहों में सामूहिक नमाज अदा करने के लिए भाग लिए। नमाज के बाद लोग एक दूसरे से गले मिलकर बधाईयाँ देते नजर आए। इस दौरान प्रशासन और पुलिस के लोग क्षेत्र में अमन चैन के लिए मुस्तैद दिखे। बदलापुर संवादाता के अनुसार क्षेत्र के मुसलमानों ने अपने अपने करीब की मस्जिद में ईदुल अजहा की नमाज अदा कर देश मंे अमन चैन की दुआ मांगी और हिन्दुओ ने अपनी गंगा जमुनी की संस्कृति भी अदा कर उन्हे बधाई  दिया। पुरानीबाजार बदलापुर तहसील परिसर की मस्जिद मे बकरीद की नमाज शान्तिपूर्ण सद्भावना भाई  चारे के साथ अदा हुई। इस समय पुलिस बल क्षेत्र के हर कोने मे चक्रमण  करता देखा गया। केराकत संवाददाता के अनसार क्षेत्र  में  सभी ईद गाहों  व प्रमुख  मस्जिदों में ईद उल अजहा की नमाज अच्छे माहौल में अदा की गयी। नमाज के बाद मुल्क में अमन शान्ति  व सौहार्द बने रहने की खुदा से दुआएं भी  मांगी गयी। केराकत  नगर के बड़ी  ईदगाह  व नरहन के  इस्माइल  शाह बाबा की   मजार के पास स्थित  ईदगाह,  मुर्की, बंजारेपुर, डेहरी ,पेसारा ,मुफ्तीगंज,  देवकली  आदि स्थानों  पर  स्थित मस्जिदों  में बकरीद की नमाज अदा की गयी। नमाज बाद लोग एक दूसरे से गले मिलकर बकरीद  की मुबारकबाद दिया। तथा लोग अपने अपने घरों  पर  शासन के गाइडलाइन  का पालन करते हुए जानवरों की कुर्बानी दी। बकरीद को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए उपजिलाधिकारी माज़ अख्तर, सीओ गौरव शर्मा, इन्सपेक्टर संजय वर्मा, चौकी मुफ्तीगंज  प्रभारी सुनील कुमार यादव  क्षेत्र में भ्रमण करते हुए नजर आए। मडि़याहूं संवाददाता के अनुसार कस्बे में ईदुल अजहा की नमाज बड़े हर्षोल्लास के साथ अदा हुई मुस्लिम बन्धुओं ने काफी बड़ी संख्या में नमाज में शामिल रहे। ईदुल अजहा की नमाज हज़रत मौलाना जमीरूद्दीन ने शाही ईदगाह में सुबह सात बजे अदा कराई। मौलाना ने अपने दुआ में मुल्क के शान्ति खुशहाली तरक्की के लिए अल्लाह से दुआ की। ईद उल अजहा की दुसरी नमाज  जामा मस्जिद में सुबह साढ़े सात बजे मौलाना फहीम अंसारी ने अदा कराई ईदुल अजहा की नमाज के बाद मुस्लिम बंधुओं ने अल्लाह की राह में बकरा की कुर्बानी देकर हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम की सुन्नत अदा की तथा अल्लाह से अपने गुनाहों की माफ़ी तथा नेक राह पर अमल करने की दुआ मांगी। बकरीद जैसे संवेदनशील त्योहार को देखते हुए शासन के गाइड लाइन अनुसार   प्रशासन काफी मुस्तईद रहा काफी संख्या में पुलिस बल की तैनाती रही। उपजिलाधिकारी अर्चना ओझा क्षेत्राधिकारी अशोक कुमार सिंह प्रभारी निरीक्षक किशोर कुमार चौबे एसएसआई घनश्याम शुक्ला के साथ सभी प्रशासनिक अधिकारी सुबह से काफी भाग दौड़ करते नजर आए। अधिकारियों के अथक प्रयास से ईदुल अजहा का त्योहार शान्ति पूर्ण ठंग से सम्पन्न हुआ। नगर में किसी प्रकार की असुविधा नहीं हुई। नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी डॉ. संजय सरोज  द्वारा साफ सफाई पानी की समुचित व्यवस्था की गई थी मलबा गंदगी उठाने का समुचित व्यवस्था नगर पंचायत द्वारा किया गया था। ईदगाह कमेटी ने शासन के गाइड लाइन को पूरी तरह से पालन किया। इस मौके पर हाजी ईसा फारूकी, हाजी नसीम हाश्मी,  अताउल्लाह खान, शाह आलम अंसारी,ग्यासुद्दीन, जलालुद्दीन, मेराजुद्दी,न डा वकार,सिकंदर अंसारी, शहजाद आजमी, शेखू अंसारी,शहजादे, जहांगीर, असलम राईन, काजू,बबलू,जर्रार,आतिफ अंसारी ,सिबरा खान, नदीम खान,नुमान अंसारी, व्यापार मंडल अध्यक्ष राशिद हाशमी, ताबिश अंसारी, आदि लोगों ने गले मिल कर एक दूसरे को बधाई दी। मछलीशहर संवाददाता के अनुसार स्थानीय नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित ईदगाह समेत तमाम मस्जिदों में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रविवार को मुस्लिम समुदाय द्वारा बकरीद की नमाज अदा कर देश मे अमन चैन और भाईचारे के लिए दुआ मांगी। इस नगर के ईदगाह, जामा मस्जिद समेत एक दर्जन से अधिक मस्जिदों नमाज अदा की गई। ईदगाह पर अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण शैलेन्द्र कुमार सिंह, उपजिलाधिकारी ज्योति सिंह, क्षेत्राधिकारी अतर सिंह के अलावा बड़ी संख्या में महिला एंव पुरूष पुलिस बल के जवानो के अलावा पीएसी के जवान मौजूद रहे। नमाज में कोई व्यवधान न पड़े इसके लिए नमाज शुरू होने के पहले जौनपुर रायबरेली राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर दिया गया था। जो सकुशल नमाज के समाप्त होने के बाद चालू कर दिया गया।

    *अक्षरा न्यूज सर्विस (Akshara News Service) | ⭆ न्यूज पेपर डिजाइन ⭆ न्यूज पोर्टल अपडेट ⭆ विज्ञापन डिजाइन ⭆ सम्पर्क करें ⭆ Mo. 93240 74534 ⭆  Powered by - Naya Savera Network*
    Ad



    *Admission Open - LKG to IX| Harihar Singh International School (Affilated to be I.C.S.E. Board, New Delhi) Umarpur, Jaunpur | HARIHAR SINGH PUBLIC SCHOOL KULHANAMAU JAUNPUR | L.K.G. to IXth & XIth | Science & Commerce | English Medium Co-Education | Tel : 05452-200490/202490 | Mob : 9198331555, 7311119019 | web : www.hariharsinghpublicschool.in | Email : echarihar.jaunpur@gmail.com | #NayaSaberaNetwork*
    Ad

    *Mandakini Restaurants  Near-Chandra Hotel, Olandganj, Jaunpur - 02  CALL US  9839740184  # चाइनीज # साउथ इण्डियन # इण्डियन वेज नॉनवेज # Veg & Non Veg Food   #NayaSaberaNetwork*
    Ad

    No comments