• Breaking News

    सफलता के लिए कड़ी मेहनत जरूरी:हिमांशु नागपाल | #NayaSaberaNetwork

    सफलता के लिए कड़ी मेहनत जरूरी:हिमांशु नागपाल  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    टीडीपीजी कॉलेज में आयोजित हुआ प्रेराणात्मक व्याख्यान
    जौनपुर। आजकल देखा जा रहा है कि विद्यार्थी परीक्षा निकट आने पर ही पढ़ाई करते हैं लेकिन जो विद्यार्थी निरंतर पढ़ाई में सन्नद्ध रहते हैं, उन्हें सफलता जरूर मिलती है। निरंतर परिश्रम सफलता की कुंजी है। उक्त बातें ज्वाइंट मजिस्ट्रेट एवं एसडीएम सदर हिमांशु नागपाल ने तिलकधारी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में आंतरिक गुणवत्ता एवं सुनिश्चयन प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित विद्यार्थियों के लिए प्रेरणात्मक उदबोधन में कही। उन्होंने कहा कि दुनिया में कोई भी चीज असंभव नहीं है। आवश्यकता है उसे संभव बनाने के लिए सकारात्मक विचार और उसके अनुसार परिश्रम की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कालेज के प्राचार्य प्रो. आलोक कुमार सिंह ने कहा कि कालेज में ऐसे प्रेरणात्मक उदबोधन की श्रृंखला प्रारंभ की गई है। इस श्रृंखला के अंतर्गत प्रत्येक सप्ताह में एक विशिष्ट व्यक्ति का व्याख्यान आयोजित किया जाएगा। महाविद्यालय में इस वर्ष नैक द्वारा निरीक्षण होने वाला है। इसके लिए भी आंतरिक तैयारी चल रही हैं। उन्होंने कहा कि परिश्रम एक ऐसी ताकत है जिसके बल पर हम सफलता प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमारे और सफलता के बीच में दृढ़ वि·ाास से युक्त प्रयास की आवश्यकता होती है। जो व्यक्ति पूर्ण वि·ाास के साथ प्रयास करता है वह जरूर सफल होता है। ''कौन कहता है कि आसमां में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों'' के माध्यम से विद्यार्थियों का आह्वान किया कि वह मन लगाकर सफलता के लिए आगे बढ़ें। बी.एड. विभागाध्यक्ष प्रोफेसर विनय कुमार सिंह ने कहा कि परिश्रम का कोई शॉर्ट कट नहीं है। यदि सफलता प्राप्त करनी है तो परिश्रम करना पड़ेगा। अंग्रेजी विभाग के प्रो. जीडी. दुबे ने कहा कि आज के दौर में जीवन बड़ा कठिन है लेकिन हमें कठिनाई से घबराना नहीं है बल्कि डट कर के उसका मुकाबला करते हुए सफलता प्राप्त करना है। यदि हम हिम्मत और दृढ़ वि·ाास के साथ प्रयत्न करते हैं तो दुनिया में कोई ऐसी चीज नहीं जो हमें आगे बढ़ने से रोक सके। कार्यक्रम में बोलते हुए मनोविज्ञान विभाग के प्राध्यापक डॉ राजेंद्र प्रसाद गुप्ता ने कहा कि कोई भी काम बिना प्रेरणा के नहीं होता। धनात्मक प्रेरणा कार्य सिद्धि में सहायक होती है जबकि ऋणात्मक प्रेरणा हमें सफलता से दूर करती है। कार्यक्रम में अंग्रेजी विभाग के  प्रो. बंदना दुबे, प्रो श्रद्धा सिंह डॉ. सुदेश सिंह, डॉ. छाया सिंह, डॉ. विशाल सिंह, डॉ. अवनीश कुमार, डॉ. वेद प्रकाश सिंह , कर्मचारीगण एवं छात्रा छात्राए आदि उपस्थित रहे।

    *पूर्वांचल के प्रसिद्ध आर्थोपेडिक सर्जन डॉ. सुभाष सिंह की तरफ से नया सबेरा परिवार को छठवीं वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं | Naya Sabera Network*
    Ad

    *जौनपुर की पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कमला सिंह की तरफ से नया सबेरा परिवार को छठवीं वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं | Naya Sabera Network*
    Ad

    *यूपी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन केराकत जौनपुर के अध्यक्ष डॉ. सत्यदेव सिंह की तरफ से नया सबेरा परिवार को छठवीं वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं | Naya Sabera Network*
    Ad

    No comments