• Breaking News

    भारत के स्कॉटलैंड के नाम से मशहूर है ये जगह, मानसून में घूमने के लिए है बेस्ट | #NayaSaberaNetwork

    नया सबेरा नेटवर्क
    कर्नाटक में स्थित कुर्ग एक फेमस टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। इस जगह का असली नाम कोडगु है। कुर्ग कर्नाटक के फेमस टूरिस्ट डेस्टिनेशन में से एक है। हरी-भरी पहाड़ियों से घिरा यह खूबसूरत हिल स्टेशन देश-विदेश से पर्यटकों को आकर्षित करता है। यह हिल स्टेशन इतना खूबसूरत है कि इसे भारत का स्कॉटलैंड भी कहा जाता है। यह जगह ट्रेक्किंग, राफ्टिंग और फिशिंग जैसी एक्टिविटीज के लिए बेहतरीन है। यह देश के सबसे भारी वर्षा वाले क्षेत्रों में से एक है। मॉनसून के दौरान कूर्ग की खूबसूरती और अधिक बढ़ जाती है। इस हिल स्टेशन पर आप हरी-भरी वादियाँ, चाय और कॉफी के बागान और संतरे के बाग देख सकते हैं। आज के इस लेख में हम आपको कूर्ग के पर्यटक स्थलों के बारे में बताने जा रहे हैं -  
    एब्बी फॉल्स
    एब्बी फॉल्स, कूर्ग के सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों में से एक है। इसे अब्बी फॉल्स के नाम से भी जाना जाता है। एब्बी फॉल्स, मदिकेरी शहर से लगभग 10 किलोमीटर दूर स्थित है। मदिकेरी के पहले कप्तान की बेटी की याद में अंग्रेजों द्वारा इसे 'जेसी फॉल्स' कहा जाता था। हालाँकि, इसका वर्तमान नाम "अब्बे" या "अब्बी" शब्द से मिला है, जिसका कूर्ग में अर्थ जलप्रपात है। पश्चिमी घाट का हिस्सा, एब्बी फॉल्स मूल रूप से एक संयुक्त धारा है जो 70 फीट की ऊंचाई से चट्टान से नीचे आ रही है और झरने के पानी का एक शानदार दृश्य प्रदान करती है।
    इरुप्पु फॉल्स 
    इरुप्पू फॉल्स  दक्षिण कूर्ग में ब्रह्मगिरी वन्यजीव अभयारण्य के किनारे पहाड़ियों की ब्रह्मगिरी रेंज में स्थित है। यह मदिकेरी से 80 किमी की दूरी पर, केरल में वायनाड जिले के बहुत करीब स्थित है। इसे लक्ष्मण तीर्थ फॉल्स के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि लक्ष्मण तीर्थ नदी जो कावेरी की एक सहायक नदी है, इसी जलप्रपात से निकलती है। हरे भरे पहाड़ों के बीच नदी 60 फीट नीचे उतरती है जिसे इरुप्पु फॉल्स के नाम से जाना जाता है। एक किंवदंती है कि राम और लक्ष्मण सीता की खोज करते हुए यहां आए थे और राम ने लक्ष्मण से पीने का पानी लाने के लिए कहा था। अपने बड़े भाई की प्यास बुझाने के लिए, उन्होंने ब्रह्मगिरी पहाड़ियों पर एक तीर चलाया, जिससे लक्ष्मण तीर्थ जलप्रपात निकल आया। यही कारण है कि लोगों की धार्मिक मान्यता है कि यदि महाशिवरात्रि के दौरान इस जलप्रपात के दर्शन किए जाएं तो सभी पापों से मुक्ति मिलती है। पश्चिमी घाट की सभी धाराओं की तरह इरुप्पू में भी गर्मियों की तुलना में मानसून के दौरान काफी भारी प्रवाह होता है। 
    मल्लाली फॉल्स 
    मल्लाली फॉल्स, कूर्ग के सबसे खूबसूरत झरनों में से एक है। मल्लाली झरने का निर्माण कुमारधारा नदी से होता है। यह पुष्पागिरी पहाड़ियों की तलहटी में है और 62 मीटर की ऊंचाई से गिरता है। यह कूर्ग में सोमवारपेट के करीब है और यहां से हंचिनल्ली के लिए कुछ बसें हैं, जो इस झरने का सबसे नजदीकी गांव है। झरने तक केवल पैदल ही पहुंचा जा सकता है क्योंकि यहां की सड़कें बहुत संकरी और ऊबड़-खाबड़ हो जाती हैं। मल्लाली फॉल्स की यात्रा के लिए मानसून सबसे अच्छा समय है क्योंकि गर्मियों में नदी सूख जाती है। मानसून में झरने का पानी तीव्रता से नीचे गिरता है, जिसके कारण आसपास धुंध की परत बन जाती है।
    तालकावेरी 
    तालकावेरी, कर्नाटक के कोडागु जिले में भागमंडला के पास ब्रह्मगिरी पहाड़ी पर स्थित कावेरी नदी का स्रोत है। ऐसा माना जाता है कि नदी एक झरने के रूप में निकलती है जो एक टैंक को भरती है और फिर कुछ दूरी पर कावेरी के रूप में फिर से उभरने के लिए भूमिगत बहती है। इस स्थान पर देवी कावेरियाम्मा को समर्पित एक मंदिर है जो तालाब के बगल में स्थित है और विशेष अवसरों पर इसमें स्नान करना पवित्र माना जाता है। कावेरी चांगरांडी दिवस पर, हजारों तीर्थयात्री और पर्यटक झरने को देखने आते हैं। बरसात के मौसम में तालकावेरी का मनोरम दृश्य यहाँ आने वाले पर्यटकों को मंत्रमुग्ध करता है।
    ब्रह्मगिरी वन्यजीव अभयारण्य
    ब्रह्मगिरी वन्यजीव अभयारण्य, दक्षिण में केरल के वायनाड और उत्तर में कर्नाटक के कुर्ग के बीच स्थित है। यह पश्चिमी घाट पर स्थित है और ब्रह्मगिरी इस अभयारण्य की सबसे ऊंची चोटी है। यह वनजीव्य अभ्यारण्य सदाबहार पेड़ों से भरा हुआ है। ट्रैकिंग के शौकीन लोगों के बीच यह जगह बहुत लोकप्रिय है। ब्रह्मगिरी वन्यजीव अभयारण्य मकाक, हाथी, गौर, बाघ, जंगली बिल्ली, तेंदुआ बिल्ली, जंगली कुत्ता, भालू, जंगली सुअर, सांभर, चित्तीदार हिरण, नीलगिरि लंगूर, लोरिस और बोनट मकाक जैसे विभिन्न जंगली जानवरों का घर है। यहाँ लंगूर, भौंकने वाले हिरण, माउस हिरण, मालाबार विशाल गिलहरी, नीलगिरि मार्टन, आम ऊद, भूरा नेवला, सिवेट, साही, पैंगोलिन, अजगर, कोबरा, किंग कोबरा, पन्ना कबूतर, काला बुलबुल और मालाबार ट्रोगन जैसे अन्य जानवर भी देखने को मिलते हैं।
    होनामना केरे झील
    होनामना केरे झील कूर्ग की सबसे बड़ी झील के रूप में प्रसिद्ध है। इस झील का आध्यात्मिक और ऐतिहासिक महत्व भी है। यह झील पहाड़ियों, कॉफी बागानों और मानव निर्मित गुफाओं से घिरी हुई है। देवी होन्नामना के नाम पर, इस झील से देवी को समर्पित एक मंदिर है। यहां का एक लोकप्रिय त्योहार गौरी महोत्सव है जो इस दौरान झील और आसपास के क्षेत्रों को जीवंत करता है।
    - प्रिया मिश्रा 

    *Ad : जौनपुर टाईल्स एण्ड सेनेट्री | लाइन बाजार थाने के बगल में जौनपुर | सम्पर्क करें - प्रो. अनुज विक्रम सिंह, मो. 9670770770*
    Ad



    *अक्षरा न्यूज सर्विस (Akshara News Service) | ⭆ न्यूज पेपर डिजाइन ⭆ न्यूज पोर्टल अपडेट ⭆ विज्ञापन डिजाइन ⭆ सम्पर्क करें ⭆ Mo. 93240 74534 ⭆  Powered by - Naya Savera Network*
    Ad



    *Admission Open - LKG to IX| Harihar Singh International School (Affilated to be I.C.S.E. Board, New Delhi) Umarpur, Jaunpur | HARIHAR SINGH PUBLIC SCHOOL KULHANAMAU JAUNPUR | L.K.G. to IXth & XIth | Science & Commerce | English Medium Co-Education | Tel : 05452-200490/202490 | Mob : 9198331555, 7311119019 | web : www.hariharsinghpublicschool.in | Email : echarihar.jaunpur@gmail.com | #NayaSaberaNetwork*
    Ad

    No comments