• Breaking News

    पुरुष नसबंदी महिला की अपेक्षा अत्यधिक सरल व सुरक्षित:सीएमओ | #NayaSaberaNetwork

    नया सबेरा नेटवर्क
    महिलाएं ही नहीं पुरुष भी निभाएं परिवार नियोजन की जिम्मेदारी
    जौनपुर। परिवार नियोजन सेवाओं को सही मायने में धरातल पर उतारने और समुदाय को छोटे परिवार के बड़े फायदे की अहमियत समझाने की हरसम्भव कोशिश सरकार और स्वास्थ्य विभाग द्वारा अनवरत की जा रही है। यह तभी फलीभूत हो सकता है जब पुरु ष भी खुले मन से परिवार नियोजन साधनों को अपनाने को आगे आयें और उस मानसिकता को तिलांजलि दे दें कि यह सिर्फ  और सिर्फ  महिलाओं की जिम्मेदारी है। इसमें जो सबसे बड़ी दिक्कत सामने आ रही है वह उस गलत अवधारणा का परिणाम है कि पुरु ष नसबंदी से शारीरिक कमजोरी आती है। इस भ्रान्ति को मन से निकालकर यह जानना बहुत जरूरी है कि महिला नसबंदी की अपेक्षा पुरु ष नसबंदी अत्यधिक सरल और सुरक्षित है। इसलिए दो बच्चों के जन्म में पर्याप्त अंतर रखने के लिए और जब तक बच्चा न चाहें तब तक पुरु ष अस्थायी साधन कंडोम को अपना सकते हैं। वही परिवार पूरा होने पर परिवार नियोजन के स्थायी साधन नसबंदी को भी अपनाकर अपनी अहम जिम्मेदारी निभा सकते हैं। यह कहना है मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ लक्ष्मी सिंह का। परिवार नियोजन के नोडल अधिकारी डॉ राजीव कुमार का कहना है कि पुरु ष नसबंदी चंद मिनट में होने वाली आसान शल्य क्रिया है। यह 99.5 फीसदी सफल है। इससे यौन क्षमता पर कोई प्रतिकूल असर नहीं पड़ता है। उनका कहना है कि इस तरह यदि पति-पत्नी में किसी एक को नसबंदी की सेवा अपनाने के बारे में तय करना है तो उन्हें यह जानना जरूरी है कि महिला नसबंदी की अपेक्षा पुरु ष नसबंदी बेहद आसान है और जटिलता की गुंजाइश भी कम है। पुरु ष नसबंदी होने के कम से कम तीन महीने तक परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों का प्रयोग करना चाहिए, जब तक शुक्राणु पूरे प्रजनन तंत्र से खत्म न हो जाएं। नसबंदी के तीन महीने के बाद वीर्य की जांच करानी चाहिए। जांच में शुक्राणु न पाए जाने की दशा में ही नसबंदी को सफल माना जाता है। डॉ राजीव कुमार का कहना है कि नसबंदी की सेवा अपनाने से पहले चिकित्सक की सलाह भी जरूरी होती है। एक ही बेटे के बाद 42 वर्ष की उम्र में पुरु ष नसबंदी अपनाने वाले मिठाई लाल का कहना है कि उनकी परिवार नियोजन के अस्थायी साधन के इस्तेमाल में कोई दिलचस्पी नहीं थी और उन्होंने सोचा कि जब आगे कोई बच्चा चाहिए ही नहीं, तो इन साधनों को अपनाने का कोई मतलब भी नहीं था। पत्नी की सहमति से खुद की नसबंदी का निर्णय लिया। नसबंदी के अपने अनुभवों का साझा करते हुए वह बताते हैं कि हल्की एनेस्थिसिया दी जाती है जिससे दर्द नहीं होता। चंद मिनट में नसबंदी हो जाती है। नसबंदी के बाद आदमी अपने दैनिक कार्य कर सकता है। नसबंदी की सफलता जांच होने तक असुरक्षित शारीरिक संबंध होने से बचना होता है। नसबंदी सफल होने के बाद यौन सुख में कोई कमी नहीं आती हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक सत्यव्रत त्रिपाठी बताते हैं कि अपना जिला गैर मिशन परिवार विकास जनपद में शामिल है। इस जिले में पुरु ष नसबंदी करवाने पर लाभार्थी को दो हजार रु पये उसके खाते में दिये जाते हैं। पुरु ष नसबंदी के लिए चार योग्यताएं प्रमुख हैं जिनमें पुरु ष विवाहित होना चाहिए, उसकी आयु 60 वर्ष या उससे कम हो और दंपति  के पास कम से कम एक बच्चा हो जिसकी उम्र एक वर्ष से अधिक हो। पति या पत्नी में से किसी एक की ही नसबंदी होती है। गैर सरकारी व्यक्ति के अलावा अगर आशा, एएनएम और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता भी पुरु ष नसबंदी के लिए प्रेरक की भूमिका निभाती हैं तो उन्हें भी 300 रु पये देने का प्रावधान है। पिछले आठ वर्षों से कंडोम का इस्तेमाल कर रहे बरसठी के संजय यादव (42) का एक बेटा 12 साल का है जबकि दूसरा नौ साल का। पहले बेटे के जन्म के बाद पहले वह भी कोई साधन इस्तेमाल नहीं करते थे। इस चक्कर में उन्हें कई बार पत्नी को ईसीपी खिलानी पड़ी जिसके कई प्रतिकूल प्रभाव भी दिखे। फिर तय किया कि वह खुद कंडोम का इस्तेमाल करेंगे। उनका कहना है कि कंडोम के इस्तेमाल से यौन संपर्क पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक सत्यव्रत त्रिपाठी ने बताया कि जिले में वित्तीय वर्ष 2018-19 में 41 पुरु षों ने नसबंदी करवाई और 2019-20 में 43 पुरु षों ने नसबंदी करवाई। 2020-21 में 77 पुरु षों ने नसबंदी करवाई वहीं वर्ष 2021-22 में 78 पुरु षों ने नसबंदी करवाई है। कंडोम का इस्तेमाल साल दर साल बढ़ा है। वर्ष 2018-19 में 40782, वर्ष 2019-20 में 332702 वर्ष 2020-21 में 338547 कंडोम सरकारी क्षेत्र से इस्तेमाल हुए। डीपीएम बताते हैं कि नसबंदी के विफल होने पर साठ हजार रु पए की धनराशि दी जाती है। नसबंदी के बाद सात दिनों के अंदर मृत्यु हो जाने पर चार लाख रु पए की धनराशि दी जाती है। नसबंदी के 8 से 30 दिन के अंदर मृत्यु हो जाने पर एक लाख रु पए की धनराशि दिये जाने का प्रावधान है। नसबंदी के बाद 60 दिनों के अंदर जटिलता होने पर इलाज के लिए पचास हजार रु पए की धनराशि दी जाती है।

    *Nehru Balodyan Sr. Secondary School | Kanhaipur, Jaunpur | Admission Open 2022-23 | 10+2 | Level | Contact- 9415234111, 9415349820, 9450089310 | Transport Incharge: 9554586608, 8736006564  | #NayaSaberaNetwork*
    Ad


    *DALIMSS SUNBEAM SCHOOL LET YOUR CHILD UNLOCK THE HIDDEN POTENTIALS Affiliated to C.B.S.E., New Delhi, 10+2 English Medium Co-Educational Senior Secondary School ADMISSIONS OPEN FOR SESSION - 2022-23 CLASS IX & XI (Sci. & Com.) Important Discount offer is available till 30th June, 2022. Classes Starting from 1st July, 2022 Limited time Offer Three Months Fees Discount on New Admission in Class IX and XI For Admission Related Queries DALIMSS SUNBEAM SCHOOL, HAMAM DARWAZA, JAUNPUR Contact us on 9235443353, 8787227589 Website dalimssjaunpur.com E-mail dalimssjaunpur@gmail.com #NayaSaberaNetwork*
    Ad


    *ADMISSION OPEN : KAMLA NEHRU ENGLISH SCHOOL | PLAY GROUP TO CLASS 8TH Karmahi ( Near Sevainala Bazar) Jaunpur | कमला नेहरू इंटर कॉलेज | प्रथम शाखा अकबरपुर-आदम (निकट शीतला चौकियां धाम) जौनपुर | द्वितीय शाखा कादीपुर-कोहड़ा (निकट जमीन पकड़ी) जौनपुर  | तृतीय शाखा- करमहीं (निकट सेवईनाला बाजार) जौनपुर | Call us : 77558 17891, 9453725649, 9140723673, 9415896695 | #NayaSaberaNetwork*
    Ad

    No comments

    Amazon

    Amazon