• Breaking News

    सामाजिक, शैक्षणिक और सांस्कृतिक अस्मिता के पुरोधा शेखर जगन्नाथ पारधी | #NayaSaberaNetwork

    सामाजिक, शैक्षणिक और सांस्कृतिक अस्मिता के पुरोधा शेखर जगन्नाथ पारधी  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    मुंबई। अस्मिता सामाजिक, शैक्षणिक व सांस्कृतिक संस्था ,जोगेश्वरी के अध्यक्ष शेखर जगन्नाथ पारखी महान व्यक्तित्व के धनी एक ऐसे बहुआयामी व्यक्ति का नाम है, जिन्होंने अपना जीवन शैक्षणिक और सामाजिक कार्यों के लिए जिया है। श्री पारखी वास्तव में शैक्षिक, सामाजिक और सांस्कृतिक संस्थानों के लिए एक प्रकाश स्तंभ हैं। वे कुछ पाने के लिए काम नहीं करते हैं, बल्कि समाज को कुछ देने के लिए ही अपना काम करते हैं। पारखी के सामाजिक कार्य को जानने के लिए उसके कार्य की गहराई में जाना होगा। और इसके लिए विभिन्न संगठनों, मंदिर मंडलों, वृद्धाश्रमों के अंतहीन कार्यों पर नज़र रखनी होगी। पारखी सर का व्यक्तित्व पानी में हिमनद के समान है। उन्होने सांस्कृतिक परम्पराओं का संरक्षण करते हुए सामाजिक जीवन को व्यवस्थित एवं विकसित करने का असंभव कार्य किया है। महोदय, उनके मार्गदर्शन से सबसे कठिन समस्याओं को भी हल किया जाता है, यहां तक कि सबसे सामान्य समस्याओं को भी। लेकिन उनका काम निर्बाध है। उन्होने जीवन में राष्ट्र, समाज और संस्थाओं के हितों को सबसे पहले रखते हैं। उनकी जन संपर्क क्षमता भी विलक्षण  है। लोगों को इकट्ठा करना कोई मज़ाक नहीं बल्कि चौबीस घंटे की अथक, निष्पक्ष और अनवरत सेवा का परिणाम है। मनुष्य को मनुष्य से जोड़ने की कला गुरु में समाई हुई प्रतीत होती है। उन्होंने कई संगठनों में अथक परिश्रम करते हुए संगठन को व्यक्तिवादी रखे बिना उसे एक वैचारिक संगठन में बदल दिया। इसके लिए सर ने ईमानदारी से प्रयास किया। और इसीलिए यह "टीम वर्क" है जो किसी व्यक्ति को उनके संगठन में नहीं रोकता है। "अस्मिता" के अध्यक्ष बनने के बाद पहले पांच वर्षों तक उन्होंने संगठन के कर्मचारियों, गतिविधियों और अन्य मामलों  के अवलोकन पर ध्यान केंद्रित किया। उसके बाद उन्होंने अच्छे काम की तारीफ करते हुए कुछ गतिविधियों में बदलाव का सुझाव दिया और सबके साथ मिलकर काम शुरू किया, स्वतंत्रता दिवस पर विद्यालय से प्रथम आने वाली छात्राओं द्वारा ध्वजारोहण, गणतंत्र दिवस पर सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों द्वारा ध्वजारोहण ये उनके द्वारा सुझाए गए परिवर्तन उन्होंने हमेशा संगठन के उत्थान के लिए परिवार के मुखिया की भूमिका निभाई। शक्ति और कार्य के विकेंद्रीकरण का महत्व समझाया।  अपने आसपास की घटनाओं और लोगों के बारे में मधुमक्खी की मनोवृत्ति से सोचते हैं और संगठन के लिए अपनी अच्छाई का इस्तेमाल करते हैं। वे हमारे संकट को समाज के  संकट के रूप में देखते हैं। कोरोना काल में भी सर द्वारा जरूरतमंद छात्रों के लिए किया गया कार्य अद्वितीय है। पारखी लोगों के पास बहुत साफ-सुथरे तरीके से कार्यक्रम आयोजित करने की आदत होती है। इसलिए वे अनोखे विचार लेकर आते हैं। अस्मिता संस्था द्वारा प्री-प्राइमरी से माध्यमिक स्तर तक के सभी शिक्षकों और गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों के सहयोग से आयोजित दीपावली बधाई कार्यक्रम और अस्मिता संस्था में कार्यरत सेवकों का सेवाव्रत अविस्मरणीय था। उनकी योजना पर उनकी मास्टर क्लास थी। शिक्षक और गैर-शैक्षणिक कर्मचारी स्कूल के अभिन्न अंग हैं। उनकी गरिमा को बनाए रखना बहुत जरूरी है। यह जानकर उन्होंने ट्रस्टियों की मदद से कई गतिविधियों में सकारात्मक बदलाव किए। नतीजतन, सर पारखी और उनके न्यासी बोर्ड सभी कर्मचारियों के लिए एक ताबीज बन गए हैं।हर किसी का व्यक्तित्व अलग होता है। स्वभाव अलग हैं, कई सवालों पर एकमत नहीं है। जानकार इस बात से पूरी तरह वाकिफ हैं। पारखी लोगों के पास अपनी व्यक्तिगत राय और गरिमा से समझौता किए बिना सभी को अपने साथ ले जाने की अनूठी क्षमता होती है। इसलिए हर कोई पारखी बनना चाहता है।
    पारखी और संगठन के सदस्यों की निस्वार्थता और सौम्य स्वभाव के कारण, संगठन के सामने आने वाली कोई भी वित्तीय समस्या आसानी से दूर हो जाती है। कई दानदाता मदद के लिए आगे आते हैं। किसी व्यक्ति की कमियों को इंगित करने के बजाय, उस व्यक्ति के गुणों को देखें और संगठन में उनके गुणों का उपयोग करें।
    पारखी लोगों में विकास करने का हुनर होता है। बहुत सारे लोग हैं जो अपने परिवार की देखभाल करते हैं। लेकिन हमें समाज को देना होगा। इसे ध्यान में रखते हुए बहुत कम लोग होते हैं जो समाज के लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर देते हैं।  उन्हीं में से एक हैं पारखी सर । वे सच्चे रत्न-वाहक है! वह कई रत्नों को जज करने की क्षमता रखते हैं। इसलिए उन्होंने कई लोगों को अपने संपर्क में लाया और इसे अपने संगठन के लिए इस्तेमाल किया। समाज के प्रति सर की प्रतिबद्धता अटूट है। कठिन समय में  तत्काल निर्णय लेने में महोदय सबसे आगे हैं। एक बार एक कार दुर्घटना में गोविंद बाल मंदिर स्कूल की दीवार टूट गई। सुबह पता चलते ही सर वहां पहुंच गये।  दुर्घटनास्थल का निरीक्षण करके घायल विद्यार्थियों और शिक्षकों के बारे में जानकारी प्राप्त की । अगले दिन अविलंब वहां  दीवार का निर्माण कार्य करा दिया गया। किसी भी संकट का सामना आत्मविश्वास से करना सर का स्वभाव है। तन तपस्वी और तपस्वी के मन का दास है। यह विशेष रूप से पारखी लोगों का सच है।कोरोना काल में सर ने अपने निदेशक मंडल के साथ स्कूल में जरूरतमंद छात्रों को भोजन, कपड़े, नकद, मोबाइल, कंप्यूटर और मोबाइल रिचार्ज उपलब्ध कराया। पाड़ा के छात्रों को अपने वाहन से राशन पहुंचाने की व्यवस्था की। साथ ही अस्मिता संचालित ऑर्थोपेडिक एंड मेडिकल रिहैबिलिटेशन सेंटर, बोरीवली के मनोहर हरिराम चौगुले ने छात्रों के पते मांगे और ट्रस्टियों और कार्यकर्ताओं की मदद से घर-घर मदद पहुंचाई।
    ऐसा सर्वांगीण व्यक्तित्व आजकल दुर्लभ है! चंद शब्दों में सर के काम का उल्लेख करना  संभव नहीं है, लेकिन मुझे लगता है कि यह लेखन सार्थक होगा, भले ही हम उनमें से एक को भी लें। संस्था के अल्पसंख्यक विभाग के संगठन दिनेश चंद्र शर्मा और अस्मिता विद्यालय के सहायक शिक्षक प्रदीप भोईर में
    श्री पारखी को अगली यात्रा के लिए शुभकामनाए देते हुए उनके स्वस्थ जीवन और स्वर्णिम भविष्य की कामना की है।

    *Nehru Balodyan Sr. Secondary School | Kanhaipur, Jaunpur | Admission Open 2022-23 | 10+2 | Level | Contact- 9415234111, 9415349820, 9450089310 | Transport Incharge: 9554586608, 8736006564  | #NayaSaberaNetwork*
    Ad


    *D.B.S. Inter College | Shiv Mohan Singh (Founder) | ADMISSION OPEN Session: 2022-23 | Nursery to IX & XI | Kadipur, Ramdayalganj, Jaunpur | Contact- 9956972861, 9956973761 | Streams Available: Maths, Bio, Commerce & Humanities | Admission form Available At the School Office | E-mail: vsjnp10@gmail.com*
    Ad

    *एस.आर.एस. हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेन्टर स्पोर्ट्स सर्जरी डॉ. अभय प्रताप सिंह (हड्डी रोग विशेषज्ञ) आर्थोस्कोपिक एण्ड ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ऑर्थोपेडिक सर्जन # फ्रैक्चर (नये एवं पुराने) # ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी # घुटने के लिगामेंट का बिना चीरा लगाए दूरबीन  # पद्धति से आपरेशन # ऑर्थोस्कोपिक सर्जरी # पैथोलोजी लैब # आई.सी.यू.यूनिट मछलीशहर पड़ाव, ईदगाह के सामने, जौनपुर (उ.प्र.) सम्पर्क- 7355358194, Email : srshospital123@gmail.com*
    Ad

    No comments

    Amazon

    Amazon