• Breaking News

    ‘चंद्रयान-2’ ने चंद्रमा पर पानी के अणुओं की मौजूदगी का लगाया पता | #NayaSaberaNetwork



    नया सबेरा नेटवर्क
    नई दिल्ली. भारत के दूसरे चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-2’ ने चंद्रमा पर पानी के अणुओं की मौजूदगी का पता लगाया है। मिशन के दौरान हासिल हुए आंकड़ों से यह खुलासा हुआ है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसधान संगठन (इसरो) के पूर्व अध्यक्ष ए एस किरण कुमार के सहयोग से लिखे गए एक रिसर्च पेपर में कहा गया है कि ‘चंद्रयान-2’ में लगे उपकरणों में ‘इमेजिंग इन्फ्रारेड स्पेक्ट्रोमीटर’ (आईआईआरएस) नाम का एक उपकरण भी है जो वैश्विक वैज्ञानिक आंकड़ा प्राप्त करने के लिए 100 किलोमीटर की एक ध्रुवीय कक्षा से जुड़ा काम कर रहा है।
    ‘करंट साइंस’ पत्रिका में प्रकाशित रिसर्च पेपर में कहा गया है, ‘आईआईआरएस से मिले शुरुआती डेटा से चंद्रमा पर 29 डिग्री उत्तरी और 62 डिग्री उत्तरी अक्षांश के बीच व्यापक जलयोजन और अमिश्रित हाइड्रोक्सिल (ओएच) और पानी (एच2ओ) के अणुओं की मौजूदगी स्पष्ट रूप से दिखाई देती है।’
    भारत के दूसरे चंद्र मिशन 'चन्द्रयान-2' ने चंद्रमा पर पानी के अणुओं की मौजूदगी का पता लगाया है। 'करंट साइंस' पत्रिका में छपे रिसर्च पेपर के मुताबिक चंद्रयान-2 मिशन के दौरान मिले आंकड़ों से यह खुलासा हुआ है कि चांद पर H2O के अणु मौजूद हैं।
     चंद्रयान-2 मिशन भले ही पूरी तरह कामयाब नहीं हुआ लेकिन उसका ऑर्बिटर अभी भी अच्छे से काम कर रहा
    चंद्रयान-2 से मिले डेटा से चांद पर पानी और अमिश्रित हाइड्रोक्सिल के अणुओं की मौजूदगी का पता चलता है
    इसरो के पूर्व चीफ ए एस किरण कुमार के सहयोग से लिखे गए एक रिसर्च पेपर में यह अहम खुलासा हुआ है
    भारत ने 22 जुलाई 2019 को चंद्रयान-2 मिशन लॉन्च किया था, हालांकि इसमें लगा लैंडर चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग में नाकाम हो गया था
    इसमें कहा गया है कि प्लेजियोक्लेस प्रचुर चट्टानों में चंद्रमा के अंधकार से भरे मैदानी इलाकों की तुलना में अधिक ओएच (हाइड्रोक्सिल) या संभवत: H2O (जल) अणु पाए गए हैं।
    भारत ने अपने दूसरे चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-2’ को 22 जुलाई 2019 को चांद के लिए रवाना किया था। हालांकि, इसमें लगा लैंडर ‘विक्रम’ उसी साल सात सितंबर को निर्धारित योजना के अनुरूप चांद के दक्षिण ध्रुव क्षेत्र में ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ करने में सफल नहीं रहा जिसकी वजह से पहले ही प्रयास में चांद पर उतरने वाला पहला देश बनने का भारत का सपना पूरा नहीं हो पाया।


    *उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ, जौनपुर के जिला उपाध्यक्ष राजेश सिंह की तरफ से देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस एवं रक्षाबंधन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं*
    Ad

    *समाजसेवी/भाजपा नेता जौनपुर ज्ञान प्रकाश सिंह की तरफ से देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस एवं रक्षाबंधन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं*
    Ad

    *जौनपुर के विधान परिषद सदस्य (MLC) बृजेश सिंह प्रिंसू की तरफ से देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस एवं रक्षाबंधन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं*
    Ad


     

    ‘चंद्रयान-2’ के लैंडर के भीतर ‘प्रज्ञान’ नाम का रोवर भी था।

    मिशन का ऑर्बिटर अब भी अच्छी तरह काम कर रहा है और यह देश के पहले चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-1’ को आंकड़े भेजता रहा है जिसने चांद पर कभी पानी होने के सबूत भेजे थे।

    No comments