• Breaking News

    सिद्ध पुरूष थे बागपत शुगर मिल स्थित दुर्गा मन्दिर के पुजारी | #NayaSaberaNetwork

    सिद्ध पुरूष थे बागपत शुगर मिल स्थित दुर्गा मन्दिर के पुजारी  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    कई दशकों तक बाबा की कर्मभूमि और तपोभूमि रहे इस मन्दिर की प्रतिमाओं में है आलौकिक शक्तियों का निवास
    समस्त भगवानों, देवी-देवताओं को माता-पिता के समतुल्य मानते हुए पूरी निष्ठा और श्रद्धाभाव के साथ की सेवा
    विवेक जैन
    बागपत, उत्तर प्रदेश। बागपत की धरती हमेशा से ही ऐतिहासिक और धार्मिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण रही है। इस धरती पर जहाॅं एक और भगवान परशुराम ने भगवान शिव के शक्ति से सम्पन्न शिवलिंग की स्थापना की, वहीं दूसरी और महर्षि वाल्मीकि की कर्म स्थली रहे इस क्षेत्र में माता सीता और लव-कुश को आश्रय मिला। बागपत की इसी चमत्कारिक भूमि पर सरूरपुर खेड़की गांव में हुक्मचंद नाम के एक सिद्धपुरूष ने जन्म लिया। उन्होंने ज्ञान की प्राप्ति के लिये भारतवर्ष के कई क्षेत्रों का भ्रमण किया। जिस समय बागपत कोपरेटिव शुगर मिल परिसर में मां दुर्गा मन्दिर निर्माण का कार्य पूर्ण हुआ उस समय मां दुर्गा मंदिर समिति के सदस्यों के बहुत आग्रह करने के उपरान्त मन्दिर के मुख्य पुजारी बनने के लिये बाबा राजी हो गये। बताते है कि वह अस्वस्थ होने के बाबजूद भी हर ऋतु में सभी भगवानों, देवी-देवताओं की एक छोटे से बच्चे की भांति देखभाल किया करते थे। वे पूरी निष्ठा और श्रद्धाभाव के साथ पूजा करते थे। बढ़ती उम्र के साथ-साथ उनकी कमर तक लगभग पूरी तरह झुक चुकी थी इसके बाबजूद उन्होंने नियमित समय पर पूजा-अर्चना करनी नही छोड़ी। अनेकों दशकों तक भगवान की सेवा करने के उपरान्त वे नवम्बर 2010 को ब्रहमलोक के लिये गमन कर गये। कहते है कि बाबा की कर्म और तपस्थली रहे इस मन्दिर की मूर्तियों में आलौकिक शक्तियों का वास है। लोग बाबा को सिद्ध पुरूष, महान संत मानते है। बाबा मन्दिर परिसर को शांत रखने का पूरा प्रयास करते थे, जिससे वहां उपस्थित भगवान, देवी-देवताओं के विश्राम में कोई व्यवधान उत्पन्न ना हो। अगर कोई असमय मंदिर की शांति भंग करता था उस पर क्रोधित हो जाते थे। कहते है कि आज भी बाबा की इस मंदिर पर विशेष कृपा दृष्टि है। इस मंदिर में श्रद्धापूर्वक माथा टेकने से बाबा की कृपा दृष्टि प्राप्त होती है। लोगों की मनोकामना पूर्ण होती है, दुख-दर्द दूर होते है।

    *Ad : जौनपुर टाईल्स एण्ड सेनेट्री | लाइन बाजार थाने के बगल में जौनपुर | सम्पर्क करें - प्रो. अनुज विक्रम सिंह, मो. 9670770770*
    Ad

    *Admission Open : ROYAL COACHING INSTITUTE (Royal Educational & Social Welfare Society) Contact: 05224103694 9919906815, 6390007012 | Jaunpur Center-House No. 171 Near Income Tax Office, Shekhupur, Hussenabad, Jaunpur - 222002 | Head Office - Ground Floor, Kailash Kala Building, 9-A Shahnajaf Road, Hazratganj, Lucknow - 226001 | भारत सरकार द्वारा फ्री कोचिंग व छात्रवृत्ति | COURSE : NEET - MEDICAL | SPONSORED BY MINISTRY OF SOCIAL JUSTICE AND EMPOWERMENT GOVERNMENT OF INDIA | Admission Open — SC / OBC वर्ग के छात्र छात्राओं के लिये • Last Date : 5 July 2021 • स्टाइपेन्ड 3000 /- रु प्रतिमाह स्थानीय तथा 6000/- रू प्रतिमाह बाहरी अनुमन्य है। • 8 लाख रुपये तक के वार्षिक पारिवारिक आय वाले छात्र छात्राएं प्रवेश के योग्य होंगे। • छात्र/छात्राओं को शैक्षिक योग्यता प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, Course Duration बैंक एकाउन्ट और तीन पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ प्रार्थना पत्र के साथ संलग्न करना अनिवार्य है। Total Seats 85 9 Months/ • आनलाईन आवेदन के लिए visit www.resws.org/enrollment-form/ • अनिवार्य डॉक्युमेन्ट coaching.royal@gmail.com पर ईमेल करें। 39 weeks | विशेषताएं — अनुभवी और उच्चशिक्षित शिक्षकों द्वारा कक्षायें ली जायेंगी। • वातानुकूलित, स्मार्ट क्लास रूम और ऑनलाईन क्लासेस की सुविधा। • उचित शैक्षिक माहौल व लाइब्रेरी की सुविधा। समय-समय पर टेस्ट ले कर परीक्षा की विशेष तैयारी कराना। • अधिक जानकारी के लिये सम्पर्क करें.* Ad
    Ad

    *एस.आर.एस. हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेन्टर स्पोर्ट्स सर्जरी डॉ. अभय प्रताप सिंह (हड्डी रोग विशेषज्ञ) आर्थोस्कोपिक एण्ड ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ऑर्थोपेडिक सर्जन # फ्रैक्चर (नये एवं पुराने) # ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी # घुटने के लिगामेंट का बिना चीरा लगाए दूरबीन  # पद्धति से आपरेशन # ऑर्थोस्कोपिक सर्जरी # पैथोलोजी लैब # आई.सी.यू.यूनिट मछलीशहर पड़ाव, ईदगाह के सामने, जौनपुर (उ.प्र.) सम्पर्क- 7355358194, Email : srshospital123@gmail.com*
    Ad

    No comments