• Breaking News

    स्विस नेशनल बैंक वार्षिक रिपोर्ट 2020 जारी - कोरोना काल में भारतीयों का धन अधिक जमा हुआ - ग्राहक डिपॉजिट में कमी आई | #NayaSaberaNetwork

    स्विस नेशनल बैंक वार्षिक रिपोर्ट 2020 जारी - कोरोना काल में भारतीयों का धन अधिक जमा हुआ - ग्राहक डिपॉजिट में कमी आई   | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    भारत में कोरोना महामारी के कारण आय की विषमता सिद्धांत को बल  मिलने के आसार - एड किशन भावनानी
    गोंदिया - कोरोना महामारी ने पिछले वर्ष से लेकर इस चालू साल में भी आर्थिक रूप से हर देश को बहुत क्षति पहुंचाई है। जिसके कारण करीब-करीब हर देश में बहुत बेरोजगारी, जीडीपी काम या माइनस, जमा राशि का व्यय, आर्थिक मंदी व्यापारिक व औद्योगिक मंदी, इत्यादि अनेक समस्याएं हर देश के लिए उत्पन्न हुई है। परंतु अभी कुछ देश कोरोना महामारी से जंग जीतने की ओर बढ़ गए हैं तथा अपने अपने देशों में लॉकडाउन खोलने की प्रक्रिया शुरू कर दिए है।...बात अगर हम भारत की करें तो भारत भी पिछले साल से भयंकर आर्थिक तंगी झेल रहा है। क्योंकि लॉक डाउनके कारणअर्थव्यवस्था ठप पड़ी हुई है। जीडीपी माइनस में चल रहा है, सरकारों के आय के सभी साधन कमजोर हुए हैं और विकास की योजनाओं में भी फंड व्यय किया जा रहा है। 80 करोड़ जनता को दिवाली तक राशन फ्री, पिछले साल 20 लाख करोड़ का पैकेज, इस साल 35 हज़ार करोड़ का वैक्सीन में एलोकेशन इत्यादि अनेक योजनाओं में सरकारी खज़ाने पर भी बहुत भार पड़ा है...। बात अगर हम जनता जनार्दन की करें तो, कोरोना काल में लॉकडाउन के कारण अनेकों लोगों की नौकरी चली गई है, जमा पूंजी समाप्त होने के कगार पर है, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के अनुसार सर्विस सेक्टर वालों के प्रोविडेंट फंड (पीएफ) अकाउंट में से पैसा बहुत निकाला गया है, आंकड़ों के अनुसार एक लाख प्रोविडेंट फंड अकाउंट में से पैसा निकाला गया है। मध्यमवर्गीय परिवारों की स्थिति भी कोरोना महामारी के चलते दयनीय हो चुकी है। क्योंकि एक तो लॉकडाउन के चलते व्यापार धंधे बंद हैं, ऊपर से मकान टैक्स, दुकान टैक्स, प्रॉपर्टी टैक्स, बिजली-पानी बिल, जीएसटी, आयकर, इत्यादि अनेक टैक्स का बोझ सर पर है जिससे मध्यम वर्गीय परिवार दबा हुआ महसूस कर रहे हैं। परंतु अभी कोरोना महामारी से जंग जीतने की ओर कदम बढ़ गए हैं और लॉकडाउन खुलने से स्थिति सामान्य होने की ओर कदम बढ़ गए हैं।...बात अगर हम स्विट्जरलैंड की स्विस नेशनल बैंक (एसएनबी) की वार्षिक रिपोर्ट 2020 की करें तो बैंक ने अपनी 113 वीं रिपोर्ट गुरुवार दिनांक 17 जून 2021 को जारी की है जो 244 पृष्ठों की है इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के अनुसार इस रिपोर्ट के अनुसार इसमें ऑडिटेड बैलेंस शीट दिनांक 31 दिसंबर 2020 और ऑडिटेड वित्तीय विलेखों की पूरी स्थिति दी गई है। रिपोर्ट के अनुसार स्विट्जरलैंड के बैंकों में भारतीयों का जमा पैसा बढ़कर 20 हजार करोड़ के पार पहुंच गया है। स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक की तरफ से बृहस्पतिवार को जारी सालाना डाटा के मुताबिक, साल 2020 के दौरान स्विस बैंकों में भारतीय नागरिकों और संस्थानों व कंपनियों का जमा धन बढ़कर 2.55 अरब स्विस फ्रैंक (करीब 20,700 करोड़ रुपये) से अधिक हो गया। यह पिछले 13 वर्षों के दौरान इन बैंकोंमें भारतीय ग्राहकों की सबसे बड़ी जमा रकम है। स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक ने गुरुवार को कहा है कि इस बढ़ोतरी में सिक्युरिटीज और कई कंपनियों की भारत-स्थित शाखाओं जैसे संस्थागत जमाकर्ताओं की बड़ी हिस्सेदारी है। हालांकि लगातार दूसरे वर्ष इन बैंकों में जमाकर्ताओं की कुल रकम में कमी आई है। स्विस नेशनल बैंक (एसएमबी) के अनुसार पिछले वर्ष के आखिर में स्विस बैंकों में भारतीयों की सबसे अधिक करीब 13,500 करोड़ रुपयेकी रकम बांड्स सिक्युरिटीज और अन्य वित्तीय उपकरणों के माध्यम से जमा थी। वहीं, भारतीय बैंकों की रकम 3, 1 सौ करोड़ रुपये से अधिक और विभिन्न ट्रस्ट की 16.5 करोड़ रुपये रही। बैंक ने बताया कि भारत के अन्य ग्राहकों के प्रति पिछले वर्ष के अंत में उसकी देनदारी करीब 4, हज़ार करोड़ रुपये रही। स्विस बैंकों में वर्ष 2019 के मुकाबले इस कैटेगरी के ग्राहकों की रकम वर्ष 2020 में छह गुना बढ़ गई है। रिपोर्ट के अनुसार शीर्ष 10 जमा करता देशों में अन्य वेस्ट इंडीज, फ्रांस, हांगकांग, जर्मनी, सिंगापुर, लक्जमबर्ग, के मैन आईलैंड और बहामास हैं। भारत इस सूची में 51वें स्थान पर है और न्यूजीलैंड, नॉर्वे, स्वीडन, डेनमार्क, हंगरी, मॉरीशस, पाकिस्तान, बांग्लादेश तथा श्रीलंका जैसे देशों से आगे है। ब्रिक्स देशों में भारत, चीन और रूस से नीचे लेकिन दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील से आगे है। उल्लेखनीय है कि कोरोना काल में स्विस बैंकों मैं अधिक धन जमा हुआ है, जो भारत के बैंकों, वित्तीय संस्थाओं, के जरिए भी जमा किया गया धन शामिल है।...बात अगर हम इस कोरोना काल में बढ़ोतरी के साथ जमा हुए धन की करें तो, इसका अंदेशा यह नहीं लगाया जाना चाहिए कि यह किसी गलत उद्देश्य या अवैध तरीके से जमा कराया गया धन है। इसका खुलासा तो संबंधित मंत्रालय द्वारा स्टडी करने के बाद ही किया जाएगा और निर्णय लिया जा सकता है। नेशनल स्विस बैंक की वार्षिक रिपोर्ट 2020 तथा इससे पहले वर्षों की भी सभी रिपोर्ट संबंधित साइट पर उपलब्ध है। इस रिपोर्ट को तीन भागों में बांटा गया है, एलिजिबिलिटी रिपोर्ट, वित्तीय रिपोर्ट और सिलेक्टेड इंफॉर्मेशन रिपोर्ट, उम्मीद है वित्त मंत्रालय इस रिपोर्ट को संज्ञान में लेकर इसकी स्टडी करेगा। अतः उपरोक्त पूरे विवरण का अगर हम अध्ययन करें और उसका विश्लेषण करें तो स्विस नेशनल बैंक की वार्षिक रिपोर्ट 2020 घोषित की गई है जिसमें कोरोना काल में भारतीयों का धन अधिक जमा हुआ है तथा ग्राहक डिपॉजिट में कमी आई है, जिससे ऐसा महसूस होता है कि भारत में कोरोना महामारी के कारण आय की विषमता सिद्धांत को बल मिलने के आसार हैं। 
    -संकलनकर्ता- कर विशेषज्ञ एडवोकेट किशन सनमुखदास भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

    *Ad : स्नेहा सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल (यश हास्पिटल एण्ड ट्रामा सेन्टर) | डा. अवनीश कुमार सिंह M.B.B.S., (MLNMC, Prayagraj) M.S. (Ortho) GSVM, M.C, Kanpur, FUR (AIMS New Delhi), Ex-SR SGPGI, Lucknow, हड्डी एवं जोड़ रोग विशेषज्ञ | इमरजेंसी सुविधाएं 24 घण्टे | मुक्तेश्वर प्रसाद बालिका इण्टर कालेज के सामने, टी.डी. कालेज रोड, हुसेनाबाद-जौनपुर*
    Ad

    *AD : Prasad Group of Institutions | Jaunpur & Lucknow | ADMISSION OPEN 2021-22 | MBA, B.Tech, B.Pharm, D.Pharm, Polytechnic | B.Pharm, D.Pharm & Polytechnic Contact Us 7408120000, 9415315566 | B.Tech, MBA Contact Us 9721457570, 9628415566 | Punch-Hatia, Sadar, Jaunpur, Uttar Pradesh | www.pgi.edu.in*
    Ad

    *Ad : ◆ शुभलगन के खास मौके पर प्रत्येक 5700 सौ के खरीद पर स्पेशल ऑफर 1 चाँदी का सिक्का मुफ्त ◆ प्रत्येक 11000 हजार के खरीद पर 1 सोने का सिक्का मुफ्त ◆ रामबली सेठ आभूषण भण्डार (मड़ियाहूँ वाले) ◆ 75% (18Kt.) है तो 75% (18Kt.) का ही दाम लगेगा ◆ 91.6% (22Kt.) है तो (22Kt.) का ही दाम लगेगा ◆ वापसी में 0% कटौती ◆ राहुल सेठ 09721153037 ◆ जितना शुद्धता | उतना ही दाम ◆ विनोद सेठ अध्यक्ष- सर्राफा एसोसिएशन, मड़ियाहूँ पूर्व चेयरमैन प्रत्याशी- भारतीय जनता पार्टी, मड़ियाहूँ मो. 9451120840, 9918100728 ◆ पता : के. सन्स के ठीक सामने, कलेक्ट्री रोड, जौनपुर (उ.प्र.)*
    Ad

    No comments