• Breaking News

    आधी आबादी के लिए सिर्फ नाम की है महिलाएं | #NayaSaberaNetwork


    आधी आबादी के लिए सिर्फ नाम की है महिलाएं  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    बस कलम चलाती हैं, कामकाज देखते हैं पति
    हिम्मत बहादुर सिंह
    जौनपुर। पंचायत चुनाव हो या फिर कोई और अगर आधी आबादी के लिए सीट आरक्षित हैं तो जरूरी नहीं कि उस सीट पर चुनाव लड़कर विजयश्री हासिल करने के बाद महिलाएं ही प्रतिनिधित्व करें। अधिकतर सीटों पर या यूं कहे कि 98 प्रतिशत सीटों पर महिलाओं के 'पति देव' ही शुरू से प्रतिनिधित्व करते हैं। इसके पीछे बड़ा कारण यह है कि 'पति देव' चुनाव की घोषणा से पहले लगातार क्षेत्र में सम्पर्क बनाये रहते हैं और ऐन मौके पर जब महिलाओं के लिए सीट आरक्षित होती है तो उनके मंसूबे पर पानी फिर जाता है और मजबूरन में घर की महिलाओं को चूल्हा चौका छोड़कर चुनावी मैदान में उतरना पड़ता है। ज्यादातर 'पति देव' अपनी पत्नी को ही चुनाव मैदान में उतारते हैं बहुत कम ही ऐसा है जहां माता जी को चुनाव मैदान में उतारा जाता है। कुल मिलाकर आधी आबादी बस नाम के लिए प्रतिनिधि बनती है लेकिन असली प्रतिनिधित्व तो उनके पति ही करते हैं। वर्ष 1995 में जिला परिषद से जब जिला पंचायत बना तो पहली महिला जिला पंचायत अध्यक्ष के रूप में श्रीमती कमला सिंह ने शपथ ली। इस बार भी वह जिला पंचायत अध्यक्ष पद पाने के लिए वार्ड संख्या 14 से भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान  में हैं। जनपद में अब तक सिर्फ एक बार यह सीट पुरूष के लिए आरक्षित हुई। बताते चले कि जिला पंचायत के गठन के छठवीं बार महिलाओं के लिए यह सीट आरक्षित हो गयी, जिससे दिग्गजों का गणित फेल हो गया। दिग्गज तो दिग्गज हैं उन्होंने अपने घर की महिलाओं को मैदान में उतार दिया। किसी की पत्नी, किसी की मां, किसी की बेटी चुनाव मैदान में हैं तो कुछ गिनी चुनी महिला प्रत्याशी ऐसी भी है जो अपने दम पर चुनावी जंग में दो-दो हाथ करने को बेताब हैं। निर्वतमान जिला पंचायत अध्यक्ष राजबहादुर यादव पांच साल तक कुर्सी पर चिपके रहे। इस कुर्सी की मलाई काट चुके पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष का मन नहीं भरा तो महिला सीट होने नाते वार्ड संख्या 45 से अपनी पत्नी राजकुमारी देवी को चुनाव मैदान में उतार दिया। इस सीट पर पूर्व सांसद धनंजय सिंह की पत्नी श्रीकला सिंह भी चुनाव मैदान में हैं। इस सीट पर कांटे की लड़ाई है। हालांकि कई प्रमुख लोगों की महिलाएं जिला पंचायत सदस्य पद पर चुनाव लड़ रही है। अधिकांश लोग अपनी पत्नी को जिला पंचायत सदस्य इस मकसद से लड़ा रहे है कि जनपद की पहली महिला बनने का सौभाग्य मिल जाय।  जिला पंचायत चुनाव की बात करें तो निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष राज बहादुर यादव के पूर्व शारदा चौधरी जिला पंचायत अध्यक्ष थीं लेकिन सारा काम काज उनके पति दिनेश चौधरी देखते थे। वह तो मंच से अपना उद्बोधन भी नहीं दे पाती थीं। यहीं कुछ हाल कलावती यादव, व अनीता सिद्धार्थ का भी रहा।  इसी तरह पूर्व की महिला नेताओं में बहुत कम ही ऐसी प्रतिनिधि थी जो स्वयं ही अपने पद की बागडोर अपने हाथों में ले रखी थी, नहीं तो अधिकतर के पति, बेटे, देवर आदि उनका कामकाज देखते हैं, सिर्फ  वह हस्ताक्षर करने के लिए कलम निकालती हैं। 

    *Ad : ADMISSION OPEN - SESSION 2021-2022 | SURYABALI SINGH PUBLIC Sr. Sec. SCHOOL | Classes : Nursery To 9th & 11th | Science Commerce Humanities | MIYANPUR, KUTCHERY, JAUNPUR | Mob.: 9565444457, 9565444458 | Founder Manager Prof. S.P. Singh | Ex. Head of department physics and computer science T.D. College, Jaunpur*
    Ad

    *Ad :  Admission Open : Nehru Balodyan Sr. Secondary School | Kanhaipur, Jaunpur | Contact: 9415234111,  9415349820, 94500889210*
    Ad

    *Ad : UMANATH SINGH HIGHER SECONDARY SCHOOL  SHANKARGANJ (MAHARUPUR), FARIDPUR, MAHARUPUR, JAUNPUR - 222180 MO. 9415234208, 9839155647, 9648531617*
    Ad

    No comments