• Breaking News

    प्रधान गांव का विकास कम, अपना विकास करने में होते हैं माहिर | #NayaSaberaNetwork

    प्रधान गांव का विकास कम, अपना विकास करने में होते हैं माहिर  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    योजनाओं का लाभ अपने लोगों तक ही रहता है सीमित
    बरसठी, जौनपुर।  देश के कर्णधारों ने कभी सत्ता  के विकेंद्रीकरण का स्वप्न देखा था और ग्राम स्तर तक सरकार को पहंुचाने के लिए ग्राम पंचायत की व्यवस्था की थी।  उत्तर प्रदेश में उसी ग्राम पंचायत चुनाव का जश्न चल रहा है। जहां हर व्यक्ति उसमें भागीदारी को तत्पर है। जिसे लेकर इन दिनों हर मोड़, गली, नुक्कड़, गांव व बाजारों में चुनावी चर्चा चरम पर है। चर्चा होना सहज है और आवश्यक भी है। किंतु चर्चा जातिगत आकड़ांे की न होकर विकास की योजनाओं की होनी चाहिए। गांवो में आज भी गरीबी, अशिक्षा, बीमारी कुपोषण की तरह फैली हुई है। बीते वर्षो में विकास हुआ है किंतु उसकी गति संतोष जनक नहीं रही। सरकार की विभिन्न योजनाओं ने नीति निर्धारकों और उनका संचालन करने वालो की तिजोरियां तो भरी लेकिन योजना का लाभ उपयुक्त व्यक्ति तक नहीं पहंुचा सका।
    बताते चले कि पंचायत चुनाव की कमाई का बहुत ही बड़ा साधन बना दिया गया है। नेतृत्वकर्ता चुनाव  जीतने पर मिलने वाली शक्ति का उपयोग ग्राम विकास के लिए नहीं बल्कि स्वयं के विकास के लिए करता है। चूंकि अभी भी ग्रामीण भारत बहुत पीछे है इसलिए ग्राम स्तर पर आज भी अच्छे और समाज के हित के लिए काम करने वालों के लिए बहुत से अवसर है। जरूरत है मजबूत इक्षाशक्ति की, अच्छी और विकासवाद सोच की जो जातिवाद के बंधन से मुक्त हो। संसाधनों की कमी नहीं रह गई है।  सरकार की बहुत सी योजनाए मददगार हो साबित सकती है। सरकारी योजनाओं से ज्यादा ग्राम स्तर पर लोगो को जागरूक और संगठित होने की जरूरत है। शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, पर्यावरण, सामाजिक उत्थान ये वो विषय है जिनके सम्बंध में आज की ग्राम पंचायतों को सबसे अधिक सोचने की आवश्यकता है। मेरा ये अनुभव है कि सूचना का अभाव विकास के सब दरवाज़े बंद कर देता है। समाज जितना ज्यादा अपने अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति जागरूक होगा उतना ही प्रगतिशील भी इसलिए ग्राम स्तर पर सूचना पहुंचाने की ठोस व्यवस्था की जानी चाहिए और इसके लिए ग्राम पंचायत को सबसे पहले एक पुस्तकालय का निर्माण कराना चाहिए और दैनिक और साप्ताहिक अखबारों की उपलब्धता सुनिश्चित की जानी चाहिए। प्राइमरी विद्यालयों की शिक्षा प्रणाली का सुचारू संचालन आवश्यक है। मिड-डे मिल योजना के समांतर शिक्षा के स्तर को अच्छा करना नितांत आवश्यक है। समाज स्वस्थ होगा तो ज्यादा से ज्यादा विकास करेगा इसलिए स्वच्छता को प्रचारित एवं प्रसारित करने की अत्यंत आवश्यकता है। स्वच्छता एक आदत है जो कि व्यक्ति की सोच पर निर्भर है। अत: ग्राम पंचायत को इसकी उपयोगिता को विशेष वरीयता देनी चाहिए। इसके लिए जगह -जगह कूड़ेदान की व्यवस्था, घूर गढ्ढे की व्यवस्था सुनिश्चित की जानी चाहिए। समाज व सरकार के सहयोग से इस्तेमाल लायक शौचालयों का निर्माण होना चाहिए। यह स्त्रियों की सामाजिक सुरक्षा के लिए भी विशेष लाभप्रद होगा। ग्राम पंचायत की खाली पड़ी जमीनों पर वृक्षारोपण कराकर पर्यावरण को स्वस्थ्य बनाने की पहल करनी चाहिए। प्राकृतिक संसाधनो का सही मात्रा में दोहन सुनिश्चित करने हेतु सिचाई के नए वैज्ञानिक साधनों को अपना के पानी की बचत की जानी चाहिए और सौर ऊर्जा, गोबर गैस, वर्मी कंपोस्ट खाद के उपयोग को अधिक बढ़ावा देना चाहिए। ग्राम स्तर पर रोजगार सर्जन की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी का वहन भी ग्राम पंचायत को करना चाहिए इसके लिए स्वयं सहायता समूहों का निर्माण, संचालन और उसमें समाज के हर वर्ग की भागीदारी का सफल प्रयास होना चाहिए। महिलाओ की भागीदारी के लिए विशेष प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। ग्राम स्तर के उत्पादों को उचित बाजार उपलब्ध कराके या उत्पाद को विभिन्न मंडीयो तक पहुचाने की व्यवस्था करके ग्राम पंचायते विकास के नए आयाम प्राप्त कर सकते है। कुटीर उद्योगो और दुग्ध उत्पादक में अपार संभावनाएं है। ग्राम पंचायत के वृद्ध, असहायों के लिए समुचित व्यवस्था और समाज के सहयोग से उनके भोजन और कपड़ो की उपलब्धता सुनिश्चित करके सामाजिक हित का कार्य किया जा सकता है। बहुत से सामाजिक संगठन मददगार हो सकते है। सार्वजनिक वितरण प्रणाली और सरकारी योजनाओं का सही लाभ लोगों तक पहंुचा कर स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था, अच्छे मार्गो का निर्माण, प्रकाश की व्यवस्था जैसे अनेको कार्य करके नेतृत्वकर्ता समाज को बहुत कुछ दे सकता है। ग्राम पंचायत स्तर पर चुनौतियां अधिक है लेकिन कुछ करने के अवसर उतने ही ज्यादा है। आवश्यकता है चुनाव जीतकर उसको समाजसेवा का अवसर समझने की न कि कमाई करने करने का अधिकार।

    *Ad : जौनपुर का नं. 1 शोरूम :  Agafya furnitures | Exclusive Indian Furniture Showroom | ◆ Home Furniture ◆ Office Furniture ◆ School Furniture | Mo. 9198232453, 9628858786 | अकबर पैलेस के सामने, बदलापुर पड़ाव, जौनपुर - 222002*
    Ad

    *Ad : माऊंट लिट्रा ज़ी स्कूल फतेहगंज जौनपुर में सत्र 2021 - 2022 में नर्सरी से कक्षा 11 में प्रवेश प्रारम्भ हो गया है, स्थान सीमित है प्रवेश हेतु तत्काल सम्पर्क करें, स्कूल में बच्चों को उच्च स्तरीय एवं आधुनिक शिक्षा योग्य शिक्षकों के द्वारा प्रदान की जाती है।*
    Ad

    *Ad : Pizza Paradise - Wazidpur Tiraha Jaunpur - Mo. 9519149797, 9670609796*
    Ad

    No comments