• Breaking News

    आधी आबादी के लिए आरक्षित सीटों पर बस नाम के लिए प्रत्याशी हैं महिलाएं, पूरा काम कर रहे 'पति देव' | #NayaSaberaNetwork

    नया सबेरा नेटवर्क
    जौनपुर। पंचायत चुनाव हो या फिर कोई और अगर आधी आबादी के लिए सीट आरक्षित हैं तो जरूरी नहीं कि उस सीट पर चुनाव लड़कर विजयश्री हासिल करने के बाद महिलाएं ही प्रतिनिधित्व करें। अधिकतर सीटों पर या यूं कहे कि 98 प्रतिशत सीटों पर महिलाओं के 'पति देव' ही शुरू से प्रतिनिधित्व करते हैं। इसके पीछे बड़ा कारण यह है कि 'पति देव' चुनाव की घोषणा से पहले लगातार क्षेत्र में सम्पर्क बनाये रहते हैं और ऐन मौके पर जब महिलाओं के लिए सीट आरक्षित होती है तो उनके मंसूबे पर पानी फिर जाता है और मजबूरन में घर की महिलाओं को चूल्हा चौका छोड़कर चुनावी मैदान में उतरना पड़ता है। ज्यादातर 'पति देव' अपनी पत्नी को ही चुनाव मैदान में उतारते हैं बहुत कम ही ऐसा है जहां माता जी को चुनाव मैदान में उतारा जाता है। कुल मिलाकर आधी आबादी बस नाम के लिए प्रतिनिधि बनती है लेकिन असली प्रतिनिधित्व तो उनके पति ही करते हैं।

    आधी आबादी के लिए आरक्षित सीटों पर बस नाम के लिए प्रत्याशी हैं महिलाएं, पूरा काम कर रहे 'पति देव' | #NayaSaberaNetwork

    बस कलम चलाती हैं महिलाएं
    जिला पंचायत चुनाव की बात करें तो निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष राज बहादुर यादव के पूर्व शारदा चौधरी जिला पंचायत अध्यक्ष थीं लेकिन सारा काम काज उनके पति दिनेश चौधरी देखते थे। वह तो मंच से अपना उद्बोधन भी नहीं दे पाती थीं। इसी तरह पूर्व की महिला नेताओं में बहुत कम ही ऐसी प्रतिनिधि थी जो स्वयं ही अपने पद की बागडोर अपने हाथों में ले रखी थी, नहीं तो अधिकतर के पति, बेटे, देवर आदि उनका कामकाज देखते हैं, सिर्फ वह हस्ताक्षर करने के लिए कलम निकालती हैं। 

    वर्ष 1995 में जिला परिषद से बना जिला पंचायत
    वर्ष 1995 में जिला परिषद से जिला पंचायत का गठन हुआ। इसके बाद अब तक सिर्फ एक बार जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर पुरूष आसीन हुए हैं। जिला पंचायत के गठन के छठवीं बार महिलाओं के लिए यह सीट आरक्षित हो गयी, जिससे दिग्गजों का गणित फेल हो गया। दिग्गज तो दिग्गज हैं उन्होंने अपने घर की महिलाओं को मैदान में उतार दिया। किसी की पत्नी, किसी की मां, किसी की बेटी चुनाव मैदान में हैं तो कुछ गिनी चुनी महिला प्रत्याशी ऐसी भी है जो अपने दम पर चुनावी जंग में दो—दो हाथ करने को बेताब हैं। 

    अब तक ये महिलाएं कर चुकी हैं प्रतिनिधित्व
    जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर वर्ष 1995 में सबसे पहले श्रीमती कमला सिंह को प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला। इसके बाद 2000 में प्रभावती पाल जिले की प्रथम बनीं। वर्ष 2005 में भी महिला के हाथों कमान रही। तब कलावती यादव अध्यक्ष निर्वाचित हुई थीं। वर्ष 2010 के चुनाव में यह सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हुई थी। इस सीट पर अनीता चौधरी को बैठने का मौका मिला। बाद में विवादों के कारण उन्हें सीट छोड़ना पड़ा तो शारदा चौधरी अध्यक्ष बनीं। वर्ष 2015 में जिला पंचायत अध्यक्ष का पद पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हुआ था। इस बार राजबहादुर यादव निर्वाचित हुए। इस लिहाज से अब तक छह चुनावों में से पांच बार महिलाओं के पाले में ही जौनपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी रही है। 

    जौनपुर में जिला पंचायत के कुल 83 वार्ड
    जिला पंचायत सदस्य के 83 पदों में से सात अनुसूचित जाति महिला, 12 अनुसूचित जाति, आठ अन्य पिछड़ा वर्ग महिला, 14 अन्य पिछड़ा वर्ग, 13 महिला, 29 अनारक्षित है।
    क्षेत्र पंचायत प्रमुख के 21 पदों में से दो अनुसूचित जाति महिला, दो अनुसूचित जाति, दाे अन्य पिछड़ा वर्ग महिला, चार अन्य पिछड़ा वर्ग, तीन महिला, आठ अनारक्षित है।

    क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी)
    क्षेत्र पंचायत सदस्य के 2027 पदों में से 162 अनुसूचित जाति महिला, 304 अनुसूचित जाति, 187 अन्य पिछड़ा वर्ग महिला, 348 अन्य पिछड़ा वर्ग, 334 महिला, 692 अनारक्षित है।

    ग्राम प्रधान पद
    ग्राम प्रधान के 1740 पदों में से 138 अनुसूचित जाति महिला, 245 अनुसूचित जाति, 165 अन्य पिछड़ा वर्ग महिला, 311 अन्य पिछड़ी वर्ग, 283 महिला, 598 अनारक्षित है।

    ग्राम पंचायत सदस्य पद
    ग्राम पंचायत सदस्य पद के 21544 पदों में से 2266 अनुसूचित जाति महिला, 2784 अनूसूचित जाति, 2077 अन्य पिछड़ा वर्ग महिला, 2608 अन्य पिछड़ा वर्ग, 3482 महिला, 8327 पद अनारक्षित हैं।

    ब्लाक प्रमुख पद का आरक्षण
    अनुसूचित जाति की महिला: मुफ्तीगंज, केराकत।
    अनुसूचित जाति: डोभी, जलालपुर।
    पिछड़ी जाति महिला: करंजाकला, मड़ियाहूं।
    पिछड़ा जाति: धर्मापुर, रामनगर, मछलीशहर, खुटहन।
    महिला: शाहगंज, बदलापुर, सुजानगंज।
    अनारक्षित: महाराजगंज, रामपुर, बक्शा, सिरकोनी, सिकरारा, सुइथाकला, बरसठी, मुंगराबादशाहपुर।
    जिला पंचायत सदस्य पद का आरक्षण
    अनुसूचित जाति की महिला: वार्ड संख्या 83, 81, 58, 13, 12, 78, 77
    अनुसूचित जाति: वार्ड संख्या 42, 28, 21, 40, 52, 29, 55, 41, 34, 6, 66, 74
    पिछड़ी जाति महिला: वार्ड संख्या 59, 17, 30, 61, 62, 9, 2, 67
    पिछड़ा जाति: 56, 60, 7, 23, 36, 11, 25, 1, 33, 68, 3, 76, 15, 72
    महिला: 32, 26, 31, 22, 38, 53, 45, 20, 82, 79, 49, 43, 50
    अनारक्षित: 37, 27, 46, 48, 35, 8, 39, 51, 16, 65, 47, 24, 57, 64, 54, 10, 14, 63, 44, 18, 70, 80, 19, 4, 69, 5, 75, 73, 71

    *Ad : ADMISSION OPEN - SESSION 2021-2022 | SURYABALI SINGH PUBLIC Sr. Sec. SCHOOL | Classes : Nursery To 9th & 11th | Science Commerce Humanities | MIYANPUR, KUTCHERY, JAUNPUR | Mob.: 9565444457, 9565444458 | Founder Manager Prof. S.P. Singh | Ex. Head of department physics and computer science T.D. College, Jaunpur*
    Ad

    *Ad :  Admission Open : Nehru Balodyan Sr. Secondary School | Kanhaipur, Jaunpur | Contact: 9415234111,  9415349820, 94500889210*
    Ad

    *Ad : UMANATH SINGH HIGHER SECONDARY SCHOOL  SHANKARGANJ (MAHARUPUR), FARIDPUR, MAHARUPUR, JAUNPUR - 222180 MO. 9415234208, 9839155647, 9648531617*
    Ad

    No comments