• Breaking News

    कोरोना वायरस महामारी - मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री का मंत्र दवाई भी और कड़ाई भी - वैक्सीन डोज व्यर्थ ना हो | #NayaSaberaNetwork

    कोरोना वायरस महामारी - मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री का मंत्र दवाई भी और कड़ाई भी - वैक्सीन डोज व्यर्थ ना हो  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को रोकने और टीकाकरण में तेजी लाने सख्त रणनीति और नागरिकों का सहयोग जरूरी - एड किशन भावनानी
    गोंदिया - भारत में कोरोना वायरस के कुछ समय के लिए स्थिर होने और धीरे-धीरे वापिस लुप्त होने का एहसास जो हुआ था वह फिर धूमिल होते हुए दिखाई रहा दे रहा है क्योंकि कुछ राज्यों में कोरोना वायरस ने फिर अपना रूद्र रूप और प्रभाव दिखाना चालू कर दिया है जिससे वहां लॉकडाउन लगाने की नौबत आ गई है नागपुर में 15 से 21 मार्च 2021 तक लॉक डाउन का आदेश और देश के और भी अनेक राज्यों में सख़्ती के साथ पूर्ण लॉकडाउन की ओर तेज़ी के साथ बढ़ते हुए कोराना संक्रमण को रोकने में तेजी से कदम उठाने चालू हो गए हैं जो शासन प्रशासन द्वारा उठाए गए कदमों से महसूस हो रहा है। इसी की परिणति है कि माननीय प्रधानमंत्री महोदय ने बुधवार दिनांक 17 मार्च 2021 को देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्री की वर्चुअल मीटिंग बुलाई। टीकाकरण अभियान शुरू होने के बाद पहली बार देश भर के मुख्यमंत्रियों से बात की गई है टीकाकरण लगाने की तेज रणनीति बनाने और तेजी से फैल रहे फिर से कोरोना संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए रणनीति तैयार करने में सभी मुख्यमंत्रियों से सलाह मशवरा करने व रणनीति साझा करने के लिए यह मीटिंग रखी गई थी, जिसमें, सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री महोदय ने एक मंत्र दिया कि दवाई भी और... कड़ाई भी याने सभी को टीकाकरण लगाना है और प्रशासन को कड़ाई भी करना है याने करोना गाइडलाइंस का पालन करते हुए कढ़ाई भी करना है जो मास्क लगाना ,दो गज की दूरी,बार-बार हाथ धोना इत्यादि सब बातें करना है गांव पर अधिक ध्यान देना है गांवों में कोराना फैली तो दिक्कत होगी। टेस्टिंग को शहरों और गांवों में बढ़ाना है। स्थानीय प्रशासन लेवल पर रोज शाम को स्थिति का जायजा लेना है ।प्रधानमंत्री महोदय ने कहा एक चीज देखने को मिली कि वैक्सीन के वेस्टेज की जो शिकायत आ रही है वह नहीं होना चाहिए वैक्सीन हमारे पास एक प्रभावी हथियार के रूप में है उस की बर्बादी बिल्कुल ना करें जो वैक्सीन पहले आई है उसे पहले प्रयोग करें जो बाद में आई है उसे बाद में प्रयोग करें यानी फर्स्ट इन फर्स्ट आउट का सिस्टम लागू करें स्थानीय स्तर पर अब एक्शन हो,गवर्नेंस की खामियां दूर हो,स्थानीय प्रशासन माइक्रो कंटोनमेंट झोंन बनाए, वैक्सीन लगाने की व्यवस्था तेज हो, अधिक से अधिक सेंटर बनाए जाएं, आरटीपीसी सेट हर हाल में बढ़ाने होंगे। प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों से कहा आज ही 2- 4 घंटों में सुझाव दें तो शाम 7:00 बजे तक मीटिंग में फैसला लेकर उसे फॉलो करेंगे। और भी अनेक दिशानिर्देश प्रधानमंत्री महोदय ने दिए जैसे राज्यों के मुख्यमंत्री ने ध्यान से सुनना मीटिंग सफलतापूर्वक रही कि दुनिया के अधिकांश कोरोना प्रभावित देश ऐसे हैं जिन्हें कोरोना की कई वेव का सामना करना पड़ा। हमारे देश में कुछ राज्यों में मामले कम होने के बाद अचानक से बढ़ने लगे हैं। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट बहुत ज़्यादा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के 70 जिलों में तो पिछले कुछ हफ़्तों में ये वृद्धि 150% से भी ज़्यादा है। अगर हम इस बढ़ती हुई महामारी को यहीं नहीं रोकेंगे तो देशव्यापी आउटब्रेक की स्थिति बन सकती है। हमें जल्दी और निर्णायक कदम उठाने होंगे। कोरोना वैक्सीन के बारे में प्रधानमंत्री ने बोलते हुए कहा कि ये मंथन का विषय है कि आखिर कुछ क्षेत्रों में ही टेस्टिंग और टीकाकरण कम क्यों हो रहा है। हमें जहां जरूरी हो माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने के विकल्प पर भी काम करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कई राज्यों में रैपिड एंटीजन टेस्टिंग पर ही ज़्यादा बल दिया जा रहा है और उसी भरोसे गाड़ी चल रही है, जैसे केरल, ओडिशा, छत्तीसगढ़, यूपी। हमें देश के सभी राज्यों में आरटी-पीसीआर टेस्ट बढ़ाने पर जोर देना होगा। राज्यों में वैक्सीन की हो रही वेस्टेज को लेकर PM मोदी ने कहा कि हमें वैक्सीन डोज व्यर्थ होने की समस्या को बहुत गंभीरता से लेना चाहिए, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश में वैक्सीन वेस्टेज 10% से ज़्यादा है और उत्तर प्रदेश में भी वैक्सीन वेस्टेज क़रीब इतना ही है। वैक्सीन वेस्टेज की राज्यों में समीक्षा होनी चाहिए। स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी प्रेस कांफ्रेंस में अनेक जानकारियां दी टेस्ट बढ़ाने पर ज़ोर दिया। दूसरी तरफ़ पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान भी हो चुका है सभी संबंधित राजनीतिक पार्टियों चुनाव अभियान के दंगल में पहुंच चुकी है। हम इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से देख रहे हैं कि मीटिंग, रोड शो, में कोई नई दिशा निर्देशों का पालन बिल्कुल नहीं किया जा रहा है जिससे कोराना वायरस बढ़ने का खतरा और भी अधिक बढ़ गया है हालांकि कोरोना वायरस संक्रमण की बढ़ती गति अभी कुछ ही राज्यों में दिख रही है जिसमें सबसे अधिक संक्रमण फैला दिख रहा है महाराष्ट्र हैं। माननीय मुख्यमंत्री और अनेक प्रशासनिक अधिकारी स्थिति को नियंत्रण में करने  लगे हैं। परंतु सबसे बड़ी जवाबदारी हम जनता की भी है कि शासन प्रशासन को उनकी रणनीति जमीन पर क्रियान्वयन करने में पूरा सहयोग दें। सभी अपना मास्क मुंह पर पूरी तरह से लगाए केवल दिखावे के लिए ही मुंह पर लटकाकर ना रखें तथा और भी सभी दिशा निर्देशों का पालन करें। निडर होकर टीकाकरण की दूसरे स्तर की प्रक्रिया में सभी संबंधित लोग पूरा सहयोग कर टीका लगवाएं, ताकि संक्रमण फैलने से रोकने में प्रशासन को सुविधा हो अभी सामने होली का त्यौहार आ रहा है कई राज्यों नेअपने नए दिशानिर्देश जारी किए हैं महाराष्ट्र ने भी अभी अपने नई गाइडलाइंस जारी कर दी है।
    - लेखक - कर विशेषज्ञ एड किशन सनमुखदास भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

    *Advt : प्रवेश प्रारम्भ सत्र 2021—22 : तिलकधारी सिंह इण्टर कालेज, जौनपुर*
    Ad


    *Ad : रामबली सेठ आभूषण भण्डार मड़ियाहूं वाले | के संस के ठीक सामने कलेक्ट्री जौनपुर | विनोद सेठ मो. 9451120840, 9918100728, राहुल सेठ मो. 9721153037, मनोज सेठ मो. 9935916663, प्रमोद सेठ मो. 9792603844*
    Ad


    *Ad : ADMISSION OPEN - SESSION 2021-2022 | SURYABALI SINGH PUBLIC Sr. Sec. SCHOOL | Classes : Nursery To 9th & 11th | Science Commerce Humanities | MIYANPUR, KUTCHERY, JAUNPUR | Mob.: 9565444457, 9565444458 | Founder Manager Prof. S.P. Singh | Ex. Head of department physics and computer science T.D. College, Jaunpur*
    Ad

    No comments