• Breaking News

    संविदात्मक कर्मचारी भी मातृत्व लाभ के लिए हकदार है - नियुक्ति बहाली के निर्देश-नियोक्ता पर 25 हज़ार जुर्माना - हाईकोर्ट का एतिहासिक फैसला | #NayaSaberaNetwork

    संविदात्मक कर्मचारी भी मातृत्व लाभ के लिए हकदार है - नियुक्ति बहाली के निर्देश-नियोक्ता पर 25 हज़ार जुर्माना - हाईकोर्ट का एतिहासिक फैसला   | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    हर क्षेत्र के संविदात्मक कर्मचारियों के भविष्य की सुरक्षा व शासकीय लाभ के लिए शासकीय योजना जरूरी - एड किशन भावनानी
    गोंदिया - भारत में कुछ सालों से हर क्षेत्र में संविदात्मक कर्मचारी रखने का एक दौर सा चल पड़ा है, जिसमें शासकीय, अशासकीय, अर्धशासकीय, निजी क्षेत्र के लगभग हर कार्यस्थल पर हम अगर गहराई से देखेंगे,तो वहां कार्य करने वाले कई कर्मचारी सविंदात्मक कर्मचारी मिलेंगे जिसका एक चलन सा चल पड़ा है। हर क्षेत्र में परमानेंट जॉब के लिए संभावना कम नजर आती है, शायद संविदात्मक नियुक्तियों में नियोक्ताओं को दूरगामी लाभ होते हैं, क्योंकि वे कर्मचारी अधिनियमों, नियमों विनियमों, के झमेले से बच जाते हैं और अपनी सुविधाअनुसार कर्मचारियों की सेवाओं का कार्यकाल बढ़ाया जाता है और कर्मचारी पर भी शायद संविदात्मक कार्यकाल पूरा होने के बाद तलवार लटकी रहती है कि अब क्या होगा। अतः इसके लिए केंद्र राज्य व केंद्रशासित प्रदेशों के लिए अब जरूरी हो गया है कि, हर क्षेत्र के संविदात्मक कर्मचारियों के लिए भविष्य की सुरक्षा व शासकीय लाभ के लिए शासकीय स्तर पर कोई ठोस नियम, अधिनियम, या योजना बनाई जाए ताकि इस प्रकार के कर्मचारियों का भविष्य सुरक्षित हो सके और शासकीय कर्मचारियों जैसा लाभ और सुविधाएं प्राप्त प्राप्त हो सके।... इसी विषय पर आधारित एक मामला माननीय कर्नाटक हाईकोर्ट में गुरुवार दिनांक 4 फरवरी 2021 को माननीय न्यायमूर्ति एम नागाप्रसन्ना की सिंगल जज बेंच के समक्ष रिट पिटिशन क्रमांक 10677/2020 याचिकाकर्ता बनाम कर्नाटक राज्य तथा निदेशक मुंसिपल प्रशासन कर्नाटक बेंगलुरु के रूप में आया जिसमें, माननीय बेंच ने अपने 38 पृष्ठों और 17 पॉइंटों के आदेश में कहा कि सविंदात्मक कर्मचारी भी मातृत्व लाभ के हकदार हैं तथा याचिकाकर्ता की याचिका स्वीकृत कर प्रतिवादी दोनों पक्षों को ₹25 हज़ार की कॉस्ट लगाई जो याचिकाकर्ता को आदेश प्राप्ति होने के 2 सप्ताह के भीतर देना होगा और उसका सेकंड नोटिस भी रद्द कर नियुक्ति को बहाल किया। तथा नियुक्ति रद्द करने के आदेश से पुनःनियुक्ति की तिथि तक 50% वेजेस देना होगा। राज्य को 25 हज़ार जो कॉस्ट देना है वह उस ऑफिसर से वसूलना होगा जिसने नियुक्ति रद्द करने का आदेश पारित किया है। आदेश कॉपी के अनुसार माननीय बेंच ने नगरपालिका प्रशासन निदेशालय द्वारा जारी एक नोटिस रद्द कर दिया है, जिसके द्वारा अनुबंध आधार पर कार्यरत महिला की सेवाएं समाप्त कर दी गई थी, मातृत्व अवकाश की मांग को नामंजूर करने के बाद। बेंच ने निर्णय दिया कि संविदात्मक कर्मचारी भी मातृत्व अवकाश के हकदार हैं। याची 2017 के संशोधित अधिनियम (ऊपर) के अनुसार, सभी में छह महीने की मातृत्व छुट्टी के लिए हकदार थीं। दूसरे प्रत्यर्थी की कार्रवाई का पालन नहीं किया जा सकता, क्योंकि मातृत्व या अधिनियम, एक माँ का, एक सरकारी कर्मचारी,अस्थायी कर्मचारी, संविदा के आधार पर कर्मचारी या दैनिक मजदूरी पर एक कर्मचारी,वर्गीकृत या उसके योग्य नहीं है। आदेश इस तरह के एक दु:खद वर्गीकरण लागू करता है। बेंचने नोट किया कि मातृत्व लाभ अधिनियम में 2017 संशोधन के बाद, गर्भवती महिला 26 सप्ताह की अवधि के लिए मातृत्व अवकाश की हकदार है जो 6 माह और 15 दिनों के लिए आएगा। प्रसूति लाभ अधिनियम के आचरण से अवगत कराने के लिए प्राधिकरण के एक एकल पीठ ने और महिला द्वारा अनुमति प्राप्त करने की मांग के प्रतिनिधि के रूप में उच्च न्यायालय के आदेशों के अनुसार, ऐसे पुरुष जो इस याचिका में अभिकथित रूप से इस मुद्दे के प्रति असंवेदनशील बन जाते हैं, वह गलत हाथों में शक्ति बन जाएंगे। यह ध्यान में रखते हुए कि यह ठीक मामला है जहां, अजीब तथ्यों में, याची को पिछले वेतन प्रदान करने के अलावा, दूसरे प्रत्यार्थी को अनुकरणीय लागत के साथ अधिभारित करना होगा, बेंच ने राज्य सरकार पर 25 हज़ार रु. का खर्च लगाया, जिसका भुगतान महिला को करना होगा.इसके अलावा, उसे दो सप्ताह के भीतर दोबारा बहाल किया जाना है, जो उसने नियुक्ति के रद्द होने की तिथि से, बहाली की तारीख तक, 50% पिछले वेतन के साथ पहले अभिनिर्धारित किया था। बेंचके समक्ष याचिकाकर्ता और प्रतिवादी दोनों के वकीलों ने अपनी-अपनी दलीलें पेश की।अदालत के निष्कर्ष-न्यायाधीश ने इस विषय पर निर्णय लेने से पूर्व, अपने आदेश में पीछे की ओर देखा कि प्रसूति और शिशु देखभाल की अवधारणा का उदय हुआ है।यह दर्ज किया गया कि संयुक्त राष्ट्र ने महिलाओं और बच्चों दोनों के अधिकारों को मान्यता दी है। उन अधिकारों का आधार मानवाधिकारों की सार्वभौम घोषणा के अनुच्छेद 1 में निहित है, सभी मनुष्य स्वतंत्र रूप से जन्म लेते हैं और समान गरिमा तथा अधिकार रखते हैं' ये अधिकार अविच्छेद्य हैं। भारत के संविधान के अनुच्छेद 42 में दर्शाया गया है कि, राज्य कार्य तथा मातृत्व राहत के लिए उचित मानवीय दशाओं को सुनिश्चित करने का उपबंध करेगा अतःभारत के संविधान के अनुच्छेद 42 में छुट्टी के स्त्रोत से प्रसूति सहायता प्राप्त करने का अधिकार। भारत के संविधान के अनुच्छेद 45 में निर्देश दिया गया है कि राज्य छह वर्ष पूरे होने तक सभी बच्चों को शीघ्र शिशु देखभाल और शिक्षा प्रदान करने का प्रयास करेगा। इसके अलावा न्यायालय ने 3 एस सी सी 545 में रिपोर्ट किए गए, ओल्गा टेलिस बनाम बंबई नगर निगम के निर्णय का उल्लेख किया और बाद में मोहिनी जैन (एम एस सी सी 666) में कर्नाटक राज्य (1992) में रिपोर्ट की गई, जिसमें कहा गया है कि निदेशक तत्व देश के प्रशासन के बुनियादी सिद्धांत हैं।इसने कहा,इसलिए, राज्य और उसके इंस्ट्रूमेंट्स पूर्वोक्त लेखों में निहित अपने कर्तव्य को पूरा करने के दायित्व से इंकार नहीं कर सकते। न्यायालय ने दिल्ली नगर निगम बनाम महिला कामगारों (मस्टर रोल) के मामले में सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का उल्लेख भी किया और एक अन्य (2000) में रिपोर्ट किया (2000) 3 एस सी सी 224 में जिसमें इस मुद्दे पर निर्णय लिया गया था कि क्या प्रसूति लाभ अधिनियम, 1961 के तहत एक अनुबंध कर्मचारी मातृत्व अवकाश के लिए हकदार है या नहीं मातृत्व लाभ अधिनियम को भी संदर्भ दिया गया था। उसके बाद, पीठ ने कहा, उपरोक्त मामले, अधिनियम और इस न्यायालय द्वारा पूर्वोक्त निर्णयों में पालन किए गए फैसले के अनुसार, रिट याचिका सफल होनी चाहिए। विशेष रूप से केरल उच्च न्यायालय ने दो निर्णयों में निर्णय दिया है - रशीथ केंद्रीय केरल राज्य और राखी केरल राज्य-कि संविदागत कर्मचारी भी मातृत्व लाभ अधिनियम के तहत लाभ के हकदार हैं। संविदागत/अस्थायी कर्मचारियों को राहत देने की अनुमति देते हुए इसी तरह के अन्य उच्च न्यायालय के निर्णयों का भी उल्लेख किया गया।
    -संकलनकर्ता कर विशेषज्ञ एड किशन सनमुखदास भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

    *Admission Open : Anju Gill Academy Senior Secondary International School Jaunpur | Katghara, Sadar, Jaunpur | Contact : 7705012955, 7705012959*
    Ad

    *Ad : रामबली सेठ आभूषण भण्डार मड़ियाहूं वाले | के संस के ठीक सामने कलेक्ट्री जौनपुर | विनोद सेठ मो. 9451120840, 9918100728, राहुल सेठ मो. 9721153037, मनोज सेठ मो. 9935916663, प्रमोद सेठ मो. 9792603844*
    Ad


    *Ad :  Admission Open : Nehru Balodyan Sr. Secondary School | Kanhaipur, Jaunpur | Contact: 9415234111,  9415349820, 94500889210*
    Ad

    No comments