• Breaking News

    मॉल में पार्किंग सुविधा पर सर्विस टैक्स का ट्रिब्यूनल द्वारा आदेश - सुप्रीम कोर्ट में स्टे मिला - नोटिस जारी | #NayaSaberaNetwork

    मॉल में पार्किंग सुविधा पर सर्विस टैक्स का ट्रिब्यूनल द्वारा आदेश - सुप्रीम कोर्ट में स्टे मिला - नोटिस जारी  | #NayaSaberaNetwork


    नया सबेरा नेटवर्क
    भारतीय नागरिकों को संविधान से मिले अधिकार - हर चरण में अपील कर संतुष्ट होना - एड किशन भावनानी
    गोंदिया - भारत में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स एक,सामान और सेवाओं पर लगाया गया एक समान कर है, जो पूरे भारत को एक बाजार मानता है। टैक्स 1 जुलाई 2017 से लागू हुआ और मौजूदा मल्टी लेवल केंद्रीय और राज्य करों को बदल दिया गया। जीएसटी पूरे देश में एकसमान कर व्यवस्था के बाद भारत को एक बड़ा बाजार मानता है। जीएसटी नियमों को तैयार करने के लिए, सरकार ने एक जीएसटी परिषद की नियुक्ति की है जिसमें 33 सदस्य होते हैं, जिसकी अध्यक्षता वर्तमान केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण करती हैं।हर एक अवधि में परिषद की बैठक होती है,बैठक वैध होने के लिए सदस्यों की 50% उपस्थिति अनिवार्य हैl हाल ही में परिषद की 43वी बैठक हो चुकी है... दूसरी ओर सीमा शुल्क एवं सेवा कर अपील अधिकरण (सीईस्टेट) जिसे पहले सीमाशुल्क, उत्पाद एवं स्वर्ण (नियंत्रण) अपील अधिकरण के रूप में जाना जाता था, का गठन 11अक्तूबर, 1982 को किया गया।अपील अधिकरण का गठन भारत के संविधान के अनुच्छेद 323(ख) के अधीन सीमाशुल्क अधिनियम 1962 में उपबंध करके किया गया था। केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड ने अपीलों के शीघ्र निपटान के लिए अधिकरण का गठन किया और इस अधिकरण का गठन किया गया।भारत में जब से जीएसटी लागू हुआ है तब से बैठक में अनुकूल और प्रतिकूल मुद्दे उठते हैं जिन्हें विचार विमर्श कर सुलझाया जाता है। वहां सुझावों पर विचार कर निर्णय लिए जाते हैं, जिसमें वस्तुओं की दरें परिवर्तित भी की जाती है व नए क्षेत्रों पर टैक्स पर भी विचार होता है। उधर कस्टम एक्साइज सर्विस टैक्स अपीलेट ट्रिब्यूनल में जीएसटी से संबंधित विवादों की अपील भी की जाती है और दोनों पक्षों की दलीलें सुन ट्रिब्यूनलअपना निर्णय देते हैं अभी हाल ही में एक मुद्दे पर ट्रिब्यूनल ने अपना निर्णय दिया था, और माल में पार्किंग सुविधा ऑपरेटरों द्वारा देय पार्किंग सेवाओं पर प्रबंधन की सेवा, रखरखाव व अचल संपत्तियों की मरम्मत, इस हेड के तहत सेवा कर( जीएसटी) लगाने की पुष्टि की थी,जिसे याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी, जो बुधवार दिनांक 13 जनवरी 2021 को माननीय सुप्रीम कोर्ट में आइटम नंबर 5 वर्चुअल कोर्ट क्रमांक 5 में माननीय तीन जजों की बेंच जिसमें माननीय न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर,माननीय न्यायमूर्ति बी आर गवई तथा माननीय न्यायमूर्ति कृष्णा मुरारी की बेंच के समक्ष सिविल अपील क्रमांक 3645/2020 तथा स्टे एप्लीकेशन क्रमांक 114791/2020  मेट्रोपॉलिटन इवेंट मैनेजमेंट बनाम कमिश्नर आफ सेंट्रल एक्साइज दिल्ली, जिसमें माननीय बेंच ने अपने एक पृष्ठ के आदेश में ट्रिब्यूनल के आदेश पर स्टे दिया, और संबंधित पक्षों को नोटिस जारी कर 4 सप्ताह में जवाब मांगा है। अपीलकर्ता ने ट्रिब्यूनल के आदेश को मुख्य रूप से इस आधार पर चुनौती दी कि आगंतुकों को पार्किंग सेवाएं प्रदान करते समय छूट है, राजस्व अप्रत्यक्ष रूप से इसे एक सिर के नीचे लाकर छूट सेवा कर की कोशिश कर रहा है,जो बिल्कुल भी लागू नहीं है। अपीलकर्ताओं की ओर से अधिवक्तता द्वारा प्रस्तुत किया कि ट्रिब्यूनल का आदेश गलत है,क्योंकि मॉल मालिकों को पार्किंग सुविधाओं का संचालन करने वाली संस्थाओं द्वारा कोई सेवा प्रदान नहीं की जा रही है और न ही ऐसी किसी भी सेवा के बदले मॉल मालिकों से उनके द्वारा कोई विचार प्राप्त किया जाता है। बेंच ने राजस्व अधिकारियों को नोटिस जारीकर सुनवाई के बाद ट्रिब्यूनल के फैसले पर रोक लगाने का निर्देश दिया है। तथ्यात्मक पृष्ठभूमि अपीलकर्ता शॉपिंग मॉल के संरक्षक/आगंतुकों को पार्किंग प्रदान करने और पार्किंग शुल्क एकत्र करने के माध्यम से पांच मॉल में पार्किंग क्षेत्रों का संचालन कर रहा है जिसके लिए उन्होंने पार्किंग क्षेत्र के प्रबंधन के लिए एक बाहरी तृतीय-पक्ष एजेंसी नियुक्त की है जो अपीलकर्ताओं की ओर से "पार्किंग शुल्क" ले रही है और अपीलकर्ता को आय को प्रेषित कर रही है। तीसरे पक्ष की एजेंसी परिचालन लागत और उसके प्रबंधन शुल्क के लिए चालान लेती है और इन राशियों पर सेवा कर वसूलती है और अपनी प्रत्यक्ष परिचालन लागत और प्रबंधन शुल्क में कटौती के बाद मासिक आधार पर सकल संग्रह की शेष राशि का भुगतान करती है । अपीलकर्ताओं ने दावा किया कि पार्किंग शुल्क से अर्जित आय पूरी तरह से अपीलकर्ताओं से संबंधित है और मॉल मालिकों को किए गए संग्रह या अन्यथा कुछ भी नहीं प्रेषित किया जाता है। अपीलकर्ता का दावा है कि उसका मॉल मालिकों के साथ कोई लिखित अनुबंध नहीं है और वह किराया या पार्किंग क्षेत्र के संचालन के लिए मॉल मालिकों को किसी भी नाम से कोई राशि का भुगतान नहीं कर रहा है।अपीलकर्ता ने जोर देकर कहा कि मॉल मालिकों की एकमात्र रुचि यह है कि एक परेशानी मुक्त पार्किंग होनी चाहिए और पार्किंग के लिए उपलब्ध स्थान का अधिकतम संभव सीमा तक उपयोग किया जाना चाहिए।सीईटी स्टेट ने सेवा कर की मांग को बरकरार रखते हुए कहा कि वह अपीलकर्ता की इस दलील को स्वीकार नहीं कर सकता कि विशाल पार्किंग स्पेस एरिया को बिना किसी समझौते के वित्तीय विचार, अन्य देनदारियों के संबंध में और आकस्मिक देनदारियों के संबंध में समझौते के बिना दिया गया था। ट्रिब्यूनल ने माना कि अपीलकर्ता की गतिविधि किसी भी मामले में मैनेजमेंट, रखरखाव या मरम्मत ' की परिभाषा।के तहत कवर की गई थी। इसमें आगे यह भी माना गया कि अपीलकर्ता मॉल मालिकों को कोई विचार नहीं दे रहा था, तब भी सेवा कर देता थी,यहां तक कि सेवा प्राप्तकर्ता के लिए किसी भी प्रत्यक्ष आर्थिक लाभ के बिना एक सेवा भी एक सेवा है। ट्रिब्यूनल ने फैसला सुनाया,इस प्रकार, इसमें कोई संदेह नहीं है कि मॉल मालिकों द्वारा दी गई पार्किंग शुल्क एकत्र करने का अधिकार मॉल मालिकों द्वारा अपीलकर्ता को प्रदान किए गए विचार के अलावा कुछ भी नहीं है और इस तरह के विचार का पैमाना पार्किंग शुल्क के माध्यम से उत्पन्न सकल आय है। केंद्रीय उत्पाद शुल्क अधिनियम, 1944 की धारा 35L के तहत उच्चतम न्यायालय में दायर सांविधिक अपील में अपीलकर्ता का कहना था कि अपीलकर्ता की गतिविधि 'ऑपरेशन' थी, जो प्रबंधन से बिल्कुल अलग है।
    संकलनकर्ता कर विषेशज्ञ एड किशन भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

    *Ad : उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रांतीय उपाध्यक्ष रमेश सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
    Ad

    *Ad : माध्यमिक शिक्षक संघ जौनपुर के जिलाध्यक्ष संतोष सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
    Ad

    *Ad : तनिष्क शोरूम निकट पॉलिटेक्निक चौराहा रूहट्टा जौनपुर की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
    Ad


    No comments