• Breaking News

    अपने व्यक्तित्व में सत्यनिष्ठा, विश्वासपात्र एवं चरित्र तीन लक्षणों को विकसित करें विद्यार्थी : प्रो. रघुनाथन | #NayaSaberaNetwork

    • भारत के युवा वर्ग का आत्मबल बहुत मजबूत : आलोक श्योपुरकर
    • जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में प्रबंधन की आवश्यकता : कुलपति
    • देश-विदेश में अपनी छाप छोड़ रहा है पूविवि : प्रो. अविनाश डी. पाथर्डीकर
    नया सबेरा नेटवर्क
    जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के प्रबंध अध्ययन संकाय द्वारा बुधवार को एक दिवसीय ओरिएंटेशन कार्यक्रम का ऑनलाइन आयोजन किया गया।
    अपने व्यक्तित्व में सत्यनिष्ठा, विश्वासपात्र एवं चरित्र तीन लक्षणों को विकसित करें विद्यार्थी : प्रो. रघुनाथन | #NayaSaberaNetwork


    तीन सत्रों के इस कार्यक्रम में कोविड-19 के बाद नई स्थिति में कारपोरेट की अपेक्षाएं एवं प्रबंधकीय तैयारी विषय पर आयोजित वेबिनार में आईआईटी मुंबई के पूर्व निदेशक एवं बेंनेट विश्वविद्यालय मुंबई के कुलपति प्रो. रघुनाथन शेवगांवकर ने कहा कि सत्यनिष्ठा, विश्वासपात्र एवं चरित्र तीन लक्षणों का समावेश सभी विद्यार्थियों को अपने व्यक्तित्व में विकसित करना चाहिए, ये तीनों लक्षण सर्वकालिक के साथ-साथ सभी, देश-काल एवं परिस्थितियों में प्रासंगिक हैं।

    विशिष्ट अतिथि अखिल भारतीय एच.आर.डी. नेटवर्क के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आलोक श्योपुरकर ने कहा कि भारत के युवा वर्ग का आत्मबल बहुत मजबूत है। उन्होंने कहा कि छोटे शहरों से आने वाले छात्रों के अंदर जुझारु प्रवृत्ति होती है। आने वाला समय संभावनाओं से भरा है, प्रबंध छात्रों को अपने अंदर समायानुकूल क्षमताओं का विकास करने की आवश्यकता है।

    अध्यक्षीय संबोधन में कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में प्रबंधन की आवश्यकता होती है। एक व्यवस्थित प्रबंधक ही किसी कार्य को सुदृढ़ रूप से कर सकता है। इस प्रकार के कार्यक्रम छात्रों के व्यक्तित्व विकास में सहायक होते हैं। आईआईटी रुड़की के प्रो. रांगणेकर ने कहा कि शिक्षकों एवं छात्रों को उच्चस्तरीय सोच के साथ आगे बढ़ना चहिए।

    उन्होंने बताया कि उच्च स्तरीय सोच में प्रमुख रूप से विश्लेषण, मूल्यांकन एवं सृजन पर जोर देना चाहिए। भारतीय सूचना एवं प्रबंध संस्थान ग्वालियर के प्रो. मनोज पटवर्धन ने कहा कि छात्रों को ऑनलाइन पढ़ाई करते समय किन बातों से कठिनाई उत्पन्न होती है उस पर शिक्षक ध्यान दें।

    कार्यक्रम के संयोजक एवं संकायाध्यक्ष प्रो. अविनाश डी. पाथर्डीकर ने विषय प्रवर्तन में कहा कि पूर्वांचल विश्वविद्यालय ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों में प्रबंधकीय क्षमताओं का विकास कर देश-विदेश में अपनी छाप छोड़ रहा है।
    संचालन डॉ आशुतोष सिंह ने किया एवं अतिथियों का स्वागत प्रो. मानस पाण्डेय, प्रो. अजय द्विवेदी, प्रो. बीडी शर्मा‌ ने किया।

    इस अवसर पर प्रो. एचसी पुरोहित, डॉ. अजय प्रताप सिंह, डॉ. मनोज पांडेय, मुराद अली, डॉ. सचिन अग्रवाल, डॉ. रसिकेश, डॉ. कमलेश मौर्य, अभिनव श्रीवास्तव, अनुपम कुमार, डॉ. धीरेंद्र चौधरी, मनोज त्रिपाठी समेत छात्र-छात्राएं ऑनलाइन रहे।

    *Ad : पूर्वांचल का सर्वश्रेष्ठ प्रतिष्ठान गहना कोठी भगेलू राम रामजी सेठ 1. हनुमान मंदिर के सामने, कोतवाली चौराहा, 9984991000, 9792991000, 9984361313, 2. सद्भावना पुल रोड नखास, ओलन्दगंज, 9838545608, 7355037762*
    Ad

    *विज्ञापन : Agafya Furnitures | Exclusive Indian Furniture Show Room | Mo. 9198232453, 9628858786 | अकबर पैलेस के सामने, बदलापुर पड़ाव, जौनपुर*
    Ad

    *Advt : किसी भी प्रकार के लोन के लिए सम्पर्क करें, कस्टमर केयर नम्बर : 8707026018, अधिकृत — विनोद यादव मो. 8726292670*
    Ad

    No comments