• Breaking News

    मैं उनका हो गया जिनका कोई पहरेदार नहीं था : डॉ. रणजीत सिंह | #NayaSaberaNetwork

    • समाजसेवी पूर्व प्रमुख ठाकुर प्रसाद की मनायी गयी पुण्यतिथि
    नया सबेरा नेटवर्क
    सुइथाकलां, जौनपुर। स्थानीय ब्लॉक के शिक्षा जगत के मालवीय कहे जाने वाले ठाकुर प्रसाद सिंह की पुण्यतिथि के अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि बोलते हुए स्काउट/ गाइड जौनपुर के मुख्य आयुक्त व पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. रणजीत सिंह ने उन्हें गरीबों का मसीहा बताया।

    उन्होंने अपनी बात "इसीलिए तो गली-गली बदनाम हो गए मेरे आंसू, मैं उनका हो गया कि जिनका कोई पहरेदार नहीं था" से शुरुआत शुरू करते हुए कहा कि ठाकुर प्रसाद ने विद्यालय की स्थापना करके पिछड़े इलाके में विकास की गंगा बहाने का कार्य किया है। उनका व्यक्तित्व ऐसा था जिसकी लोग नकल करते हैं वैसा बनना चाहते हैं। शासन प्रशासन में उनके प्रभाव की चर्चा करते हुए अनेक संस्मरण सुनाए। कार्यक्रम की शुरुआत देव प्रतिमाओं पर माल्यार्पण के पश्चात सरस्वती वंदना से हुई।

    प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष सतीश सिंह ने शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान की चर्चा की। विद्यालय के अध्यापक गंगा प्रसाद सिंह ने अत्यंत ही भावुक अंदाज में बताया कि उनकी सोच थी कि आने वाली पीढ़ी कैसे आगे बढ़ेगी? उस दिशा में उन्होंने कार्य किया और आज न जाने कितने लोगों का जीवन यापन हो रहा है। आसानी से घर बैठे शिक्षा प्राप्त करने का अवसर उन्होंने सबको दिया।

    प्रबंध कारिणी के सदस्य राम लाल गुप्त ने उन्हें एक कठोर अनुशासन वाला व्यक्ति बताया। साथ ही यह भी बताया कि कैसे उनके जीवन शैली का प्रभाव उनसे जुड़े लोगों के ऊपर पड़ा। बीपीएड कॉलेज के प्राचार्य विजय प्रकाश दूबे ने जहां बताया कि कैसे उन्होंने सामाजिक क्षेत्र में आर्थिक विषमता को दूर करने का प्रयास किया, वहीं पीजी कॉलेज के पूर्व बड़े बाबू कृष्ण पाल सिंह ने उनसे संबंधित संस्मरण सुनाए।

    इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य विनोद सिंह ने विद्यालय विकास के इतिहास पर चर्चा करते हुए उनके संघर्ष को बड़ी सहजता से बताया। पूरे विद्यालय संकुल के क्रमिक विकास पर भी अपनी बात रखी।

    गांधी स्मारक पीजी कॉलेज के प्राचार्य रणजीत पांडेय ने स्वर्गीय ठाकुर को पाणिनि, पतंजलि मनीषियों की श्रृंखला से जोड़ते हुए शिक्षा व सामाजिक जीवन में उनके विचारों को साकार करने के लिए नित नए संकल्प लेने पर बल दिया।

    कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रबंध कारिणी के  सदस्य रामकिशुन वर्मा ने बताया यदि हम सभी संकुल के लोग उनसे प्रेरणा लेकर अपने कर्तव्यों का सही ढंग से पालन कर ले जाएं तो यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

    आखिरी वक्ता के रूप में लोगों का आभार व्यक्त करते हुए विद्यालय संकुल के प्रबंधक ने उनके अनुशासन और जीवनशैली की चर्चा करते हुए अपना संस्मरण सुनाया। इस संकल्प के साथ अपनी बात समाप्त किया कि वे मेरे पितामह थे। मेरा परिवार उनके संघर्षों को भुला नहीं सकता। उनके आशीर्वाद से उनके सपनों को साकार करने में कोई कसर नहीं छोडूंगा। विद्यालय आप सब के सहयोग से निरंतर प्रगति करता रहेगा।

    कार्यक्रम में गांधी स्मारक संकुल, पीजी कॉलेज, बीपीएड कॉलेज, नर्सरी, आईटीआई, इंटर कॉलेज के शिक्षक व कर्मचारी गण ठाकुर प्रसाद सिंह के चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित किए। प्रेमनाथ सिंह संगीत शिक्षक द्वारा रचित श्रद्धांजलि गीत लोगों के ह्रदय को छू गया। पूरे कार्यक्रम में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा गया। स्थल को सेनेटाइज कराया गया था, साथ ही लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। संचालन इंटर कॉलेज के प्रवक्ता विनय कुमार त्रिपाठी ने किया।

    *विज्ञापन : देव होम्यो क्योर एण्ड केयर | खानापट्टी (सिकरारा) जौनपुर | डॉ. दुष्यंत कुमार सिंह  मो. 8052920000, 9455328836*
    Ad

    *विज्ञापन : पूर्वांचल का सर्वश्रेष्ठ प्रतिष्ठान गहना कोठी भगेलू राम रामजी सेठ 1. हनुमान मंदिर के सामने, कोतवाली चौराहा, 9984991000, 9792991000, 9984361313, 2. सद्भावना पुल रोड नखास, ओलन्दगंज, 9838545608, 7355037762*
    Ad


    *विज्ञापन : Agafya Furnitures | Exclusive Indian Furniture Show Room | Mo. 9198232453, 9628858786 | अकबर पैलेस के सामने, बदलापुर पड़ाव, जौनपुर*
    Ad

    No comments