• Breaking News

    नौ कलाकारों के समूह द्वारा तीन दिवसीय कला प्रदर्शनी का आयोजन | #NayaSaberaNetwork

    नया सबेरा नेटवर्क
    डिजिटल डेस्क। कला के अंतहीन सफर के इस कड़ी में नौ कलाकारों के  समूह द्वारा प्रस्तुत तीन दिवसीय कला प्रदर्शनी के माध्यम से इस कोरोना कला में (संक्रमण काल) अपनी कलाकृतियों के  माध्यम से अपनी कला संस्कृति के अनेक आयामों को उद्घाटित करने का प्रयास ही नहीं अपितु नयी पीढ़ी एवं  कला समुदाय में एक आशा एवं विश्वास को पुनर्जीवित  करने की दिशा में एक अनूठा प्रयोग सिद्ध होगा।
    नौ कलाकारों के समूह द्वारा तीन दिवसीय कला प्रदर्शनी का आयोजन | #NayaSaberaNetwork

    वैसे तो नौ अंक का महत्व कला के दृष्टिकोण से आप भली-भांति परिचित होंगे ही किन्तु यहाँ नौ कलाकारों के द्वारा प्रस्तुत इस कला प्रदर्शनी की विशेषता है अपने विश्व धरोहर अजंता को समर्पित एवं इतिहास के उन धूमिल पृष्ठभूमि संस्मरण को अपने सृजनात्मक कुशलता द्वारा एक नवीन शाखा के रूप में सृजित कर प्रस्तुत करना ताकि युवा पीढ़ी को अपने कला की थाती एवं धरोहर की याद ताजा हो सके और अंतर्मन में छिपे अंधकार की काली घटा छट सके और प्राचीन काल में रचे गए कला की धारा से जुड़ कर नयी दिशा के रूप में सृजन का संसार का मार्ग दर्शन प्राप्त हो सके।

    अजंता की गुफाओं में भित्ति चित्रों, मूर्ति कला एवं वास्तु विन्यास का एक ऐसा विशाल खजाना छिपा है जिसे उन्नीसवीं सदी में ईवी हैवेल ने अनेक वर्षों तक अपने अध्ययन का विषय चुना। उसके साथ ही अनेक समकालीन भारतीय कलाकारों ने इस पर कार्य किया जिससे आधुनिक भारतीय कला को बल मिला। आज के युवा कलाकार वैश्वीकरण के दौर में अपनी पारंपरिक विरासत की ओर मुड़ कर देखने एवं जुड़ने की बजाय पाश्चात्य का अंधानुकरण करने में लगे हैं। विश्व प्रसिद्ध अंजता बौद्ध,जैन व हिन्दू धर्म के साथ- साथ कला जगत के लिए नि: संदेश एक तीर्थ के समान है।
    नौ कलाकारों के समूह द्वारा तीन दिवसीय कला प्रदर्शनी का आयोजन | #NayaSaberaNetwork
       इस प्रदर्शनी के माध्यम से नौ कलाकारों में अनिल कुमार, ईश्वर दयाल, कौशलेश, मानती शर्मा,मुक्ता गुप्ता, राजेश कुमार, रंजित कुमार, स्नेहलता, सुनील मोदी ने मिलकर  अजंता को समर्पित इस कला प्रदर्शनी के माध्यम से अजंता के चित्रों की लयबद्ध रेखांकन, अलंकारिकता, विषय-वस्तु , वास्तुकला विन्यास, सुंदर शिल्प विघान आदि का गंभीर अध्ययन करते हुए किसी ने अतीत के रूप में  स्याह रंगो का प्रयोग किया है तो किसी सतरंगी आभा बिखेरी है और किसी ने त्रिआयामी स्वरूपों में गढ़ने का प्रयास किया।
        इस समूह कला प्रदर्शनी में प्रर्दशित प्रत्येक कलाकृति भविष्य एवं वर्तमान के युवा पीढ़ी में नयी सृष्टि क्षमता विकसित करेगा और एक मार्गदर्शन भी अवश्य प्रदान  करेगा जिससे अनवरत कला का अंतहीन सफर जारी रहेगा......इस आनलाइन प्रर्दशनी का वर्चुअल उद्घाटन पद्मश्री राजेश्वराचार्य ,प्रख्यात न्यूरोलॉजिस्ट डा विजय नाथ मिश्र व पद्मश्री सोमा घोष के द्वारा संयुक्त रूप से शुभकामना संदेश से हुआ और शुभारंभ किराना एवं बनारस घराने की सुप्रसिद्ध शास्त्रीय गायिका आस्था गोस्वामी द्वारा गणेश वंदना से किया गया।
    नौ कलाकारों के समूह द्वारा तीन दिवसीय कला प्रदर्शनी का आयोजन | #NayaSaberaNetwork
    साथ ही सुविख्यात हास्य कवि दमदार बनारसी एवं गजलकार सतीश मिश्रा भी इस अवसर अपनी प्रस्तुति देंगे।इंडलेश जर्नी पेज पर आनलाइन प्रर्दशनी में कलाकृतियां जैसे ही प्रर्दशित की गयी वैसे ही व्यूअर्स की संख्या काफी बढ़ गया। साथ ही इंस्टाग्राम, ट्वीटर पर भी काफी प्रसंशा मिल रही हैं।

    *विज्ञापन : Agafya Furnitures | Exclusive Indian Furniture Show Room | Mo. 9198232453, 9628858786 | अकबर पैलेस के सामने, बदलापुर पड़ाव, जौनपुर*
    Ad


    *विज्ञापन : High Class Mens Wear Olandganj Jaunpur  Mohd. Meraj Mo 8577913270, 9305861875*
    Ad

    *बढ़ाएं अपना व्यापार, नया सबेरा के साथ. डिजिटल विज्ञापन के सम्पर्क करें - 9807374781, 9792499320*
    Ad

    No comments