• Breaking News

    दादा जी दरख्‍़त हैं

     | #NayaSaberaNetwork
    नया सबेरा नेटवर्क

    अपने दादाजी के लिए

    दादा जी दरख़्त हैं 
    इस घर के

    दरख़्त घर के आँगन में 
    जमा है बरसों से 
    बहुत गहरे तक फैली है 
    दरख़्त की जड़ें
    यहाँ तक कि दीवारों में भी 
    धँस गई हैं वे
    और दिलचस्प है कि 
    इन दीवारों को दे रही है सहारा 
    जिसके चलते 'अब गिरी कि अब' 
    दिखने वाली दीवारें 'जस की तस' हैं
    एक मुद्दत से


    दरख़्त मुखिया है घर का
    मूलनिवासी क्षेत्र-नगर का
    लोग इसी के नाम से 
    जानते हैं हमें,
    बतलाते हैं वे
    इस दरख़्त की कहानी 
    कि उनके देखते-देखते 
    कई बार सूख कर हरा हुआ है यह

    दरख्‍़त कच्चे सूत से सूता गया 
    तीज त्यौहार पर 
    सुहागिनों ने की परिक्रमा 
    पूजा अर्चना की और 
    अपने हाथों असीसा दरख्‍़त ने

    दरख़्त अपने जख्‍़म 
    छुपाता रहा गाहे-बगाहे 
    पोंछता रहा अपने पत्तों से नम आँखें
    जब क्रोध में आया तो सहस्त्रबाहु की तरह 
    फैला दी अपनी भुजाएं दसों-दिशाओं में 
    खड़ा रहा आँधियों में अडिग

    दरख़्त की शाखाओं पर 
    पड़ोसी घर को गुमान है अपनेपन का
    जब बजते हैं दरख़्त के पत्ते
    छिड़ता है संगीत 
    और नाच उठता है पूरा मोहल्ला

    दरख्त की यूं तो बहुत-सी कहानियां हैं 
    जिसे समय कहता रहा है
    फिलवक्त इतना कहना है
    कि अपने ही बीज से 
    अंकुरित पौध को देख 
    हर्षित हो रहा है दरख़्त

    दादा जी दरख़्त हैं 
    इस घर के 
    घर हर्षित होता है उनसे।

    युवा लेखिका शुचि मिश्रा जौनपुर 

    No comments