• Breaking News

    नैतिक मूल्यों की संवाहिका भाषा संस्कृत : डॉ. सूर्यकांत त्रिपाठी | #NayaSaveraNetwork

    अखिलेश श्रीवास्तव
    मछलीशहर, जौनपुर। भारतीय सभ्यता की धरोहर के रूप में संस्कृत का वाड्मय भरा पड़ा है। भारतीय नैतिक मूल्यों की संवाहिका भाषा संस्कृत है। यह बातें स्थानीय तहसील क्षेत्र के श्रीगौरीशंकर संस्कृत महाविद्यालय सुजानगंज द्वारा संस्कृत दिवस के उपलक्ष में फेसबुक पेज पर सप्तदिवसीय संस्कृत व्याख्यानमाला के छठे दिन दीन दयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय गोरखपुर के सहायक आचार्य डॉ. सूर्यकांत त्रिपाठी ने कही।

    महाविद्यालय के प्राध्यापक विनोद कुमार त्रिपाठी ने मंगलाचरण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इसके पश्चात डॉ. त्रिपाठी ने अपने व्याख्यान संस्कृति हिताय प्रवर्तताम् संस्कृतम् विषय पर व्याख्यान प्रस्तुत करते हुए कहा कि आज हमें अपने नैतिक मूल्यों की रक्षा करने की आवश्यकता है। समाज में नैतिकता का पतन होता जा रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण है कि आज हम पाश्चात्य सभ्यता के पोषक होते जा रहे हैं। हमें अपनी भारतीय सभ्यता के संरक्षण एवं नैतिक मूल्यों के संवर्धन के लिए अपना उत्तरदायित्व स्वीकार करना होगा।

    इस अवसर पर महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य एवं कार्यक्रम के अध्यक्ष डॉ. जयप्रकाश तिवारी ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। अंत में महाविद्यालय के प्राचार्य विनय कुमार त्रिपाठी ने सभी का आभार ज्ञापित किया।

    *विज्ञापन : High Class Mens Wear Olandganj Jaunpur  Mohd. Meraj Mo 8577913270, 9305861875*
    Ad

    *विज्ञापन : समाजवादी अल्पसंख्यक सभा उ.प्र. के प्रदेश उपाध्यक्ष मो. आज़म खान एडवोकेट की तरफ से सभी देशवासियों को ईद—उल-अज़हा की दिली मुबारकबाद*
    Ad

    *विज्ञापन : भावी जिला पंचायत सदस्य विपुल दुबे की तरफ से रक्षाबंधन, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी एवं स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं*
    Ad

    No comments