• Breaking News

    Big Problem : जांच के बाद कोरोना की रिपोर्ट के चक्कर में मानसिक अवसाद से गुजर रहे लोग | #NayaSaveraNetwork

    • एंटीजन टेस्ट को छोड़ सभी रिपोर्ट के लिए करना पड़ता है लंबा इंतजार
    • कभी एक दो या कभी 10-12 दिन के बाद आती हैं रिपोर्ट
    • पॉजिटिव आये मरीजों को फोन करके सूचना दी जाती है लेकिन निगेटिव आये लोगों को कोई सूचना नहीं मिल पाती
    • जिला प्रशासन को कोरोना पोर्टल बनाकर उस पर प्रतिदिन करना चाहिए अपडेट
    • टेस्ट के बाद रिपोर्ट न मिलने पर टेंशन में गुजरता है रात दिन
    नया सवेरा नेटवर्क
    जौनपुर। कोरोना वायरस ने पूरी तरह से जनपद को अपने आगोश में ले लिया है। वहीं जिला प्रशासन ने इससे बचने के लिए लोगों से गाइडलाइन का पालन करने की अपील भी की है और जो पालन नहीं कर रहे हैं उनसे सख्ती से निपटा भी जा रहा है। जगह-जगह एंटीजन टेस्ट भी कराये जा रहे हैं ताकि जो भी पॉजिटिव मिले उन्हें होम क्वारंटीन या फिर गाइडलाइन के अनुसार कोविड अस्पताल में भर्ती किया जा सके। यहीं पर जिला प्रशासन द्वारा बड़ी चूक की जा रही है। टेस्टिंग होने के बाद रिपोर्ट के लिए लोगों को काफी मशक्कत करनी पड़ती हैं। एंटीजन टेस्ट की रिपोर्ट के अलावा कोई भी रिपोर्ट जानने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। पॉजिटिव आने के बाद एक, दो या फिर 10-12 दिन या उससे भी अधिक समय के बाद मरीज को सूचना देकर उसे उसकी रिपोर्ट बता दी जाती है कि वह पॉजिटिव है लेकिन निगेटिव आये लोगों की रिपोर्ट नहीं बतायी जाती। ऐसे में वह अपनी रिपोर्ट के इंतजार में मानसिक अवसाद से गुजर रहे हैं। इसके साथ ही उनके परिवार के लोग भी रिपोर्ट पता करने के लिए काफी मशक्कत करते हैं फिर भी पता नहीं चल पाता। मीडिया को भी कभी सूची दी जाती है तो कभी नहीं। ऐसे में कोरोना महामारी के बाद लोग अन्य बीमारियों से भी ग्रसित हो सकते हैं। जिला प्रशासन को चाहिए जिले की लिए कोरोना पोर्टल बनाएं और प्रतिदिन की रिपोर्ट चाहे वह पॉजिटिव हो या निगेटिव उस पर अपलोड करा दें कम से एक जगह पर जनपदवासियों को रिपोर्ट मिल जाएगी और उन्हें किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होगी।
    जांच के बाद कोरोना की रिपोर्ट के चक्कर में मानसिक अवसाद से गुजर रहे लोग | #NayaSaveraNetwork

    कोरोना महामारी से देश में मृत्युदर तो कम है लेकिन जो हो भी रही है वह कोरोना से कम पहले से ही विभिन्न बीमारियों से ग्रसित लोगों को और चिंता से हो रही है। जनपद में भी कोरोना का प्रकोप काफी हद तक बढ़ गया है। किसी परिवार में एक व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी तो उस परिवार के साथ ही आस-पास के लोगों की भी टेस्टिंग शुरू हो जाती है। इसके बाद जिला प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामने आने लगती है। वह यह कि टेस्टिंग के बाद रिपोर्ट देने में काफी इंतजार कराना जिसकी वजह से लोगों की चिंता महामारी को लेकर काफी बढ़ जाती है। रात दिन गुजारने में भी भारी पड़ने लगता है। एक-एक दिन कैसे कटता है यह तो कोई उससे पूछे जिसके घर में कोई कोरोना का मरीज मिला हो और उसकी जांच के बाद कई दिन तक रिपोर्ट ना मिला हो। यदि निगेटिव आती है तब तो पूछिए मत कोई बताने वाला ही नहीं है कि आपकी रिपोर्ट निगेटिव आयी है। 

    नाम न छापने की शर्त पर एक व्यक्ति ने बताया कि उसके रिश्तेदारी में एक महिला की मौत हो गयी। मौत के पहले जांच हुआ तो रिपोर्ट निगेटिव आयी लेकिन मौत के 12 दिन बाद रिपोर्ट पॉजिटिव आयी जिससे पूरे परिवार व अंतिम संस्कार में शामिल हुए लोगों को कोरोना की चिंता सताने लगी। यह भी प्रमाणित नहीं हो पा रहा था कि रिपोर्ट पॉजिटिव उन्हीं की आयी हैं कि किसी और की क्योंकि न तो कोई बताने वाला है और न ही ऐसा कोई पोर्टल हैं जहां पर पता चल सके। लोग मीडिया से और प्रशासन से जुड़े लोगों से फोन के जरिए पूछते है कुछ को तो पता चल जाता है वहीं कुछ को तो पता ही नहीं चलता। 

    जिला प्रशासन को चाहिए कि जनपदवासियों को कोरोना से बचाने के साथ-साथ मानसिक अवसाद से भी बचाएं और कोई पोर्टल या हेल्पलाइन नम्बर जारी कर दें जहां पर यह पता चल सकें कि ​रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है या निगेटिव। इस बात को गंभीरता से लिया जाय। नहीं तो कोरोना के साथ-साथ जनपदवासी विभिन्न बीमारियों से ग्रसित हो जाएंगे जिसका यह प्रमुख कारण जिला प्रशासन भी होगा जो समय रहते कोई उचित कदम नहीं उठा पाया।

    *विज्ञापन : Happy Raksha Bandhan, Shri Krishna Janmashtami & Independence Day : Achary Baldev P G College | Kopa Patarahi Jaunpur*
    Ad
    *विज्ञापन : भावी जिला पंचायत सदस्य विपुल दुबे की तरफ से रक्षाबंधन, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी एवं स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं*
    Ad

    *विज्ञापन : मां मूर्ति ग्रुप आफ प्लांटेशन्स के संस्थापक अध्यक्ष शैलेंद्र निषाद की तरफ से रक्षाबंधन, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी एवं स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं*
    Ad

    No comments