• Breaking News

    कोरोना : ​भयावह हो रही स्थिति, इलाज के बाद भी नहीं जा रहा 'कोरोना', दोबारा दिख रहे ये लक्षण | #NayaSabera

    इंटरनेट डेस्क
    रोम। कोरोना वायरस महामारी से जूझ रही दुनिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती जल्द से जल्द वैक्सीन बनाने की है। भारत सहित दुनिया के शक्तिशाली देश इस दिशा में कदम भी बढ़ा रहे हैं। इन सबके बीच एक ऐसी रिपोर्ट आई है, जो बेहद चौंकाने वाली है। रिपोर्ट के मुताबिक कोविड-19 से पूरी तरह ठीक हो चुके लोगों में दो महीने बाद फिर वहीं लक्षण नजर आए हैं। उन्हें दोबारा हॉस्पिटल में एडमिट होना पड़ा है।
    कोरोना : ​भयावह हो रही स्थिति, इलाज के बाद भी नहीं जा रहा 'कोरोना', दोबारा दिख रहे ये लक्षण | #NayaSabera

    दरअसल, इटली में 143 ऐसे लोगों पर एक रिसर्च की गई जो कोरोना से संक्रमित हुए थे और हॉस्पिटल में इलाज के बाद वह ठीक हो गए थे। रिसर्च में पता चला है कि लगभग 90 फीसदी लोगों में दो महीने बाद भी कोरोना के कुछ लक्षण मिले हैं। कहा जाए तो वह पूरी तरह अभी तक स्वस्थ नहीं हो सके हैं।

    दो महीने बाद भी सेहत खराब
    रोम के एक हॉस्पिटल की डॉक्टर ने इस रिसर्च को लीड किया था। रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना संक्रमित होने के 60 दिन बाद सिर्फ 12 फीसदी लोग ही इसके लक्षण से पूरी तरह मुक्त हो पाए थे। अन्य लोगों में यह लक्षण मौजूद रहे। लोगों से बात करने पर पता चला कि वह पहले के मुकाबले अब ज्यादा स्वस्थ नहीं हैं। उनकी सेहत पर बुरा असर पड़ा है। एक्सपर्ट ने इस रिसर्च की रिपोर्ट को बेहद चिंताजनक बताया है।

    नजर आए ये लक्षण
    रिसर्च के मुताबिक, ठीक होने के बाद भी ज्यादातर लोगों ने थकावट महसूस करना, जोड़ों का दर्द, सांस लेने में मुश्किल जैसी शिकायतें की है। कुछ मरीजों ने स्वाद लेने और सूंघने की शक्ति कम होने की शिकायत भी की है। रिपोर्ट से यह बात साफ है कि कोरोना से संक्रमित मरीज ठीक होने के बाद भी लंबे समय तक इस बीमारी के लक्षणों से जूझता रहता है।

    क्या कहते हैं आंकड़े
    रिसर्च के अनुसार, कोरोना से ठीक हो चुके करीब 55 फीसदी लोगों में 60 दिन बाद भी तीन या तीन से अधिक कोरोना के लक्षण मौजूद थे। 32 फीसदी मरीजों में दो या दो से अधिक लक्षण नजर आए। इसके अलावा 43 फीसदी लोगों ने दो महीने बाद भी बताया कि उन्हें साल लेने में आज भी दिक्कत महसूस होती है, जबकि 21 फीसदी लोगों की छाती में दर्द बना हुआ है।

    कोरोना के अन्य लक्षण आए सामने
    वैज्ञानिकों ने फेफड़ों के बाहर कोविड-19 के प्रभावों की पहली रिसर्च रिपोर्ट उपलब्ध कराई है। रिपोर्ट के मुताबिक फिजिशियन इसका इलाज शरीर के विभिन्न तंत्रों को प्रभावित करने वाली बीमारी के तौर पर करें जिसमें खून के थक्के जमना, किडनी का काम न करना और बेहोशी जैसे न्यूरोलॉजिकल लक्षण शामिल हैं। इनमें भारतीय मूल के वैज्ञानिक भी शामिल हैं।

    *Agafya Furnitures | Exclusive Indian Furniture Show Room | Mo. 9198232453, 9628858786 | अकबर पैलेस के सामने, बदलापुर पड़ाव, जौनपुर — 222002*
    Ad

    *पूर्वांचल का सर्वश्रेष्ठ प्रतिष्ठान गहना कोठी भगेलू राम रामजी सेठ A Complete Wedding Jewellery Collection 1. हनुमान मंदिर के सामने, कोतवाली चौराहा, जौनपुर मो. 9984991000, 9792991000, 9984361313, 2. सद्भावना पुल रोड नखास, ओलन्दगंज, जौनपुर मो. 9838545608, 7355037762 नया शानदार आफर 15 जनवरी 2020 से लागू*
    Ad

    *ADMISSIONS OPEN For the session 2020-21 form Nursery to 7th : NARAYAN PUBLIC SCHOOL | Manshahpur (Khaparaha), Sikrara Jaunpur | Mob. : 6387877166, 7007902601 | Free Online Class के लिए सम्पर्क करें 9044065107*
    Ad

    No comments