• Breaking News

    दुकानदार पर कहर बनकर टूट पड़ी थाने की पुलिस | #NayaSabera

    जौनपुर। नगर के लाइन बाजार थाने के सिपाही से शनिवार की शाम दुकानदार द्वारा फोटो स्टेट की एक कॉपी के दो रुपये लेने से नाराज थानाध्यक्ष मयफोर्स शनिवार की शाम दुकान के मालिक घर इस तरह पहुंच गये जैसे उसने कोई देशद्रोह कर दिया हो। पहुंचते ही थानेदार दारोगा वाली स्टाईल में सिपाहियों समेत पूरे परिवार पर लाठी डंडे से कहर बरपाने लगे। बाद में सबको थाने पर उठा लाये। जब जफराबाद विधायक डॉ. हरेंद्र सिंह ने वहां पहुंचकर विरोध जताया तथा एसपी को पुलिस की ज्यादती के बारे में बताया तो एसपी ने सिपाही रामाश्रय उपाध्याय को निलंबित कर दिया और पूरे मामले की जांच करने को कहा। 


    विधायक की बात को भी एसपी ने इस अंदाज में लिया जैसे उन पर कोई एहसान किया हो। कोरोनाकाल में इस तरह की घटना का असर सीधे प्रदेश सरकार और खासकर मुख्यमंत्री पर भी पड़ता है। हर जिलों के आम नागरिक जानते हैं कि पुलिस इस महामारी काल में भी वसूली को लेकर महीने भर तड़पती रही। बाद में रास्ता खुला इसकी भी जानकारी आमजन को है। 
    परिवार वालों पर कहर बरपाने के बावजूद थानाध्यक्ष का गुस्सा ठंडा नहीं हुआ उन्हें एसपी और विधायक का हस्तक्षेप नागवार गुजरा जिस सिपाही को एसपी ने निलंबित किया उसी सिपाही से फोटोस्टेट की दुकान के मालिक विनोद कुमार सिंह उनके लड़के व परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ लोक सेवक पर हमला, मारपीट, बलवा, गालियां व धमकी देने का उल्टा मुकदमा भी शनिवार को रात नौ बजे दर्ज करा दिया।

    सिपाही ने कहा, ऊपर हफ्ता देता हूं कुछ नहीं बिगड़ेगा
    लाइन बाजार थाने का निलंबित सिपाही फोटो स्टेट के दुकानदार से कहा कि हमें भी दिनभर की वसूली का हिसाब थानेदार को देना होता है और थानेदार कप्तान को देते हैं। लिहाजा मेरा कुछ नहीं बिगड़ेगा, तुम्हें बर्बाद कर दूंगा। रहा सवाल विधायकों का तो कप्तान के आगे उनकी कुछ नहीं चलने वाली है। 

    कहीं सचमुच सर्कस के शेर तो नहीं हो गये प्रतिनिधि
    लाइन बाजार थाने की समूची पुलिस ने जिस कदर एक दुकानदार पर कहर बरपाया और विधायक के शिकायत के बाद भी उस पर ऐसे मुकदमें लाद दिये जिसमें जल्द जमानत भी न होने पाये। निलंबित होने के बाद भी सिपाही उन्हें धमकाता रहा क्योंकि थानेदार उसके साथ हमराह जो हैं। उसकी भाषा से यही समझ में आता है कि सत्ताधारी दल के प्रतिनिधि भी सर्कस के शेर हो गये हैं। विपक्षी भी सामने आने से कतरा रहे हैं।





    No comments