• Breaking News

    कोरोना से पहली मौत के बाद शव के अंतिम संस्कार को लेकर बवाल, 11 नामजद समेत 50 अज्ञात के विरूद्ध मुकदमा | #NayaSabera

    अमित शुक्ला
    मुंगराबादशाहपुर, जौनपुर। स्थानीय क्षेत्र में स्थित क्वारंटाइन सेंटर में कोरोना वायरस के संक्रमण से पहली मौत शुक्रवार को सुबह हुई। कोरोना वायरस से संक्रमित होने की जानकारी शनिवार को दोपहर बाद जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद हुई। जिसका अन्तिम संस्कार परिजनों द्वारा मृतक का शव लेने से इनकार किए जाने के बाद शनिवार को देर शाम पंवारा थाना क्षेत्र के अमोघ गांव में वरिष्ठ पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में नगर पालिका परिषद के सफाई कर्मियों द्वारा किया गया। इस दौरान स्थानीय लोगों ने हंगामा कर दिया। ग्रामीणों ने कई वाहनों को क्षति पहुंचायी। पुलिस ने 11 नामजद समेत 50 अज्ञात लोगों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज किया है।

    बताते हैं कि क्षेत्र के प्रयागराज मार्ग पर स्थित सार्वजनिक इंटर कॉलेज में जिला प्रशासन द्वारा बनाए गए एवं नगर पालिका परिषद द्वारा संचालित क्वारण्टाइन सेन्टर में गुरुवार को शाम कवारन्टीन किये गये एक अधेड़ व्यक्ति प्रदीप कुमार गौतम की शुक्रवार को सुबह मौत हो गयी। क्वारण्टाइन सेन्टर पर हुई अधेड़ की मौत की सूचना मिलते ही मौके पर पहुँचे डीएम दिनेश कुमार सिंह ने मृतक प्रदीप की कोरोना जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया था जिस पर शुक्रवार को देर शाम स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा आकर सैम्पल लिया गया था। शनिवार को दोपहर बाद जांच की रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव आते ही जहाँ जिला प्रशासन में हड़कम्प मच गया वहीं क्षेत्र में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया।

    जिले के जफराबाद थाना क्षेत्र के ग्राम नाथूपुर निवासी प्रदीप कुमार पुत्र स्व. पूर्णमासी उम्र करीब 34 वर्ष रोजी रोटी के सिलसिले में मुम्बई में रहता था। विशेष श्रमिक ट्रेन द्वारा वह मुम्बई से घर के लिए चला और गुरुवार को अपरान्ह प्रयागराज रेलवे स्टेशन पर उतर कर रोडवेज बस से घर के लिए रवाना हुआ। जिला प्रशासन द्वारा जनपद की सीमा पर मुंगराबादशाहपुर के सार्वजनिक इंटर कॉलेज में बनाए गए क्वारण्टाइन सेन्टर में सभी प्रवासी लोगों को चिकित्सीय जांच के लिए रोका गया जहाँ शुक्रवार को तड़के प्रदीप को तेज बुखार के चलते हालत बिगड़ गयी। जानकारी होते ही क्वारण्टाइन सेन्टर पर तैनात कर्मचारियों द्वारा पीएचसी मुंगराबादशाहपुर के प्रभारी चिकत्साधिकारी को मामले की जानकारी दी गयी। सूचना मिलते ही प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. आरपी सिंह मौके पर पहुंचकर देखे तो उसकी मौत हो चुकी थी। शनिवार को जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही हड़कम्प मच गया। कोरोना वायरस से संक्रमित मृतक प्रदीप अंतिम संस्कार शनिवार को देर शाम पंवारा थाना क्षेत्र के अमोघ गांव के एक निर्जन स्थान पर जिले के वरिष्ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की उपस्थिति में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच किया गया। 

    पंवारा थाना क्षेत्र के अमोध गाँव में कोरोना संक्रमित व्यक्ति के अन्तिम संस्कार किए जाने की  जानकारी होते ही बड़ी संख्या में गांव वालों ने मौके पर पहुँच कर आक्रोश जताते हुए नगर पालिका परिषद, पीआरवी और नायब तहसीलदार के वाहनों को भी नुकसान पहुंचाया। प्रशासन ने तत्काल प्रभावी कार्यवाही कर हालत को काबू में कर लिया। इस दौरान पंवारा, मुंगराबादशाहपुर, सुजानगंज, मछलीशहर, सिकरारा, मीरगंज सहित कई थाने की पुलिस फोर्स को मौके पर बुलाया गया। इस दौरान अपर जिलाधिकारी भू—राजस्व सुनील कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक संजय राय, एसडीएम अमिताभ यादव, क्षेत्राधिकारी अवधेश शुक्ला, थाना प्रभारी मुंगरा अरविंद यादव, थाना प्रभारी पंवारा सै. मुंतजर हुसैन, स्वास्थ्य टीम सहित अन्य  अधिकारी एवं कर्मचारी मौके पर उपस्थित रहे। 

    इस सम्बन्ध में पंवारा के थाना प्रभारी सै. मुन्तज़िर हुसैन ने बताया कि जिले के उच्चाधिकारियों के निर्देश पर शनिवार को देर रात 11 नामजद एवं 50 लोगों के विरुद्ध धारा 147, 149 , 332, 353, 427, 269, 270, 504, 506 आईपीसी एवं 3 महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर उचित कार्यवाही की जा रही है।

    Youtube :



    Ad
    Ad

    Ad

    No comments