• Breaking News

    कोरोना वायरस के बाद बर्ड फ्लू की दस्तक ने बढ़ाई चिंता

    रांची। देशभर में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी आई है। मरीजों की संख्या 428 हो गई है। कोरोना की चपेट में आकर अब तक 8 लोग जान गंवा चुके हैं। इसी बीच झारखंड में बर्ड फ्लू की समस्या भी सिर उठाने लगी है।

    खबर के मुताबिक, राजधानी रांची के बिरसा मुंडा जैविक उद्यान में उल्लू और गरुड़ की अचानक हो रही मौत से सनसनी फैल गई है। जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू से मौत की पुष्टि हुई है। जैविक उद्यान में 23 जनवरी की रात 7 उल्लू और गरुड़ मृत पाए गए थे।

    पक्षियों को किया जा रहा सैनिटाइज
    जैविक उद्यान के डॉक्टरों का कहना है कि मृत पक्षियों का सैंपल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटी एनिमल डिजीज भोपाल भेजा था। वहां से रिपोर्ट आ गई है। रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि हो गई है कि जू में उल्लू और गरुड़ की मौत बर्ड फ्लू से हुई है। इसके बाद पक्षियों के रहने वाली जगहों को सैनिटाइज करना शुरू कर दिया है। डॉक्टरों की टीम इस कोशिश में लगी है कि बर्ड फ्लू का संक्रमण दूसरे पक्षियों में न फैले।

    बर्ड फ्लू और कोरोना वायरस के लक्षण एक जैसे
    रांची स्थित रिम्स के मेडिसिन विभाग के हेड डॉ. जेके मित्रा ने बताया कि बुखार, कफ, नोज रनिंग, गले में सूजन, मांसपेशियों में दर्द, उल्टी और सांस लेने में दिक्कत बर्ड फ्लू के लक्षण हैं। उन्होंने कहा कि इसका कोरोना से कोई संबंध नहीं है। रांची में बर्ड फ्लू के इलाज की व्यवस्था है। दवा भी मौजूद है। इसलिए भयभीत होने की जरूरत नहीं है।

    वहीं, राज्य के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने बर्ड फ्लू के संक्रमण का प्रसार न हो, इसके लिए विभागीय अधिकारियों को विशेष निर्देश दिए हैं। जिला और प्रखंड से लेकर पंचायत स्तर तक पक्षियों पर नजर बनाए रखने और कहीं से भी पक्षियों की मौत की रिपोर्ट आने पर त्वरित कार्रवाई करने को कहा है।

    Ad
    Ad

    Ad

    No comments