• Breaking News

    Jaunpur : यदि दुर्घटनाएं बार-बार रिपीट हो रही है तो उन्हें कैसे रोका जा सकता है? पता करें अधिकारी : डीएम

    जौनपुर। डीएम दिनेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में सड़क सुरक्षा समिति एवं जिला विद्यालय यान परिवहन सुरक्षा समिति की बैठक हुई। बैठक में डीएम द्वारा जनपद में घटित हो रही दुर्घटनाओं के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए सभी सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिया कि अपने कर्तव्यों का गम्भीरता पूर्वक निर्वहन करें। 
    उन्होंने निर्देश दिया कि जनपद के दुर्घटना बाहुल्य क्षेत्रों एवं ब्लैक स्पाट के चिन्हांकन के सम्बन्ध में परिवहन अधिकारी, क्षेत्राधिकारी यातायात एवं लोक निर्माण विभाग या सम्बन्धित निर्माणदायी संस्था के अधिकारी संयुक्त रूप से एक सप्ताह में समस्त चिन्हित ब्लैक स्पॉटों का भौतिक निरीक्षण कर लें। एक सप्ताह पश्चात में अवगत करायें कि उक्त समस्त ब्लैक स्पाट्स पर विगत वर्षों में कितनी दुर्घटनाएं हुई, दुर्घटनाओं का क्या कारण था, यदि दुर्घटनाएं बार-बार रिपीट हो रही है तो उन्हें कैसे रोका जा सकता है? सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता उत्पन्न करने के लिए सड़क सुरक्षा के नियमों का व्यापक प्रचार-प्रसार किये जाने के लिए परिवहन एवं पुलिस विभाग को निर्देश दिया।
    बैठक में डीएम द्वारा सड़क पर गड्ढों की समय से पैचिंग न होने पर अप्रसन्नता व्यक्त की गयी एवं सम्बन्धित विभाग को निर्देशित किया गया कि अविलम्ब पैचिंग का कार्य पूर्ण कर लें। दुर्घटना में घायल व्यक्तियों को चिकित्सीय सहायता के सम्बन्ध में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया गया कि 108 एम्बुलेंस व अन्य एम्बुलेंस की स्थिति को अपडेट रखें। यह भी निर्देशित किया गया कि विगत छह माह में अज्ञात वाहन से हुए दुर्घटनाओं की रिपोर्ट विभिन्न थानों से प्राप्त कर आवेदन पूर्ण कराकर जेए पटल एवं एआरटीओ द्वारा परिवहन आयुक्त, उ.प्र. को प्रेषित किया जाय जिससे कि प्रभावित पक्षकारों को आवश्यक आर्थिक सहायता प्रदान हो सके।
    डीएम द्वारा स्कूल वाहन के सम्बन्ध में उत्तर प्रदेश मोटरयान नियमावली 26वां संशोधन अध्याय 9(क) में दिये गये प्राविधानों को बैठक में उपस्थित विद्यालय के प्रतिनिधियों को अवगत कराये जाने के लिए एवं जनपद के समस्त विद्यालय के प्राचार्य/प्रबन्धकों को स्कूली वाहनों से सम्बन्धित नियमावली के अध्याय 9(क) की एक प्रति प्राप्त कराये जाने के लिए निर्देशित किया गया। बैठक में उपस्थित प्रभारी जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देशित किया गया कि एआरटीओ प्रवर्तन से नियमावली की प्रति प्राप्त कर जनपद के समस्त माध्यमिक (यूपी बोर्ड, सीबीएसई, आईसीएससी) उच्च शिक्षा के विद्यालयों में प्राप्त कराना सुनिश्चित करें, तथा परिवहन एवं पुलिस विभाग को निर्देशित किया कि उक्त नियमावली के उपबन्ध/शासनादेश को अक्षरश: लागू करायें।
    बैठक में डीएम द्वारा निर्देशित किया गया कि सघन चेकिंग अभियान चलाते हुए मानक के अनुरूप न पाये जाने वाले स्कूल वाहनों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाय एवं बैठक में उपस्थित स्कूल प्रतिनिधियों को डीएम द्वारा निर्देशित किया गया कि स्कूल वाहनों के सम्बन्ध में नियमावली का अध्यन कर लें एवं मानक के अनुरूप वाहनों को ठीक कराते हुए ही वाहन का संचालन करें, स्कूली बच्चों की सुरक्षा में किसी भी एजेंसी द्वारा की गयी लापरवाही क्षम्य नहीं होगी।

    Ad

    Ad

    Ad


    No comments