• Breaking News

    Jaunpur : शौचालय की राह देख रहा पूर्व माध्यमिक विद्यालय सुरेरी


    • खुले में शौच को जाना छात्रों की बनी मजबूरी
    • खुले में शौच मुक्ति का अभियान हो रहा हवा हवाई साबित

    Advt.
    सुरेरी, जौनपुर। एक तरफ जहां सरकार खुले में शौच को रोकने के लिए गांवों का ओडीएफ में चयन कर लाखों करोड़ रुपए खर्च कर शौचालयों को बनाने का कार्य कर रही है, तो वहीं दूसरी तरफ कुछ विद्यालय आज भी ऐसे हैं जहां पर एक भी शौचालय नहीं है। इन विद्यालयों को देखकर सरकार के सभी शौच मुक्ति के दावे हवाहवाई साबित होते नजर आ रहे हैं। उदाहरण के तौर पर विकासखंड रामपुर के पूर्व माध्यमिक विद्यालय सुरेरी को देखा जा सकता है, जहां आज भी वह विद्यालय शौचालय की राह देख रहा हैं।
    उक्त विद्यालय में शिक्षा ग्रहण करने के लिए पहुंच रहे छात्रों को शौच के लिए खुले में जाना पड़ता है जबकि सरकार लाखों करोड़ों रु पए खर्च कर प्रत्येक गांव में शौचालयों का निर्माण करा रही है, उसके बावजूद भी पूर्व माध्यमिक विद्यालय सुरेरी को शौचालयों की दरकार है। प्रधानाध्यापक अखिलेश उपाध्याय ने इस बाबत बताया कि कई बार ग्राम प्रधान से शौचालयों के लिए कहा गया, लेकिन प्रधान द्वारा महज आश्वासन ही मिलता रहा। जिसके चलते उक्त विद्यालय में शौचालयों का निर्माण नहीं हो सका, जिससे यहां पर शिक्षा ग्रहण कर रहे छात्रों को शौच के लिए खुले में जाना पड़ता है। इस संदर्भ में बीडीओ रामपुर राजीव सिंह ने बताया कि उक्त मामले की जांच कराई जाएगी, अगर विद्यालय में शौचालय नहीं होगा तो दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
    Advt.
    Advt.

    No comments