• Breaking News

    Jaunpur : भारत विकास परिषद ने मनाई स्वामी विवेकानन्द की जयंती

    जौनपुर। भारत विकास परिषद शाखा जौनपुर द्वारा रविवार को स्वामी विवेकानंद की 157वीं जयंती भृगुनाथ पाठक के आवास पर मनायी गयी। कार्यक्रम की शुरु आत स्वामी जी के चित्र पर पुष्प अर्पण एवं वंदे मातरम गीत से की गई। इसके पश्चात यूपी सिंह, भृगुनाथ पाठक, शरद पटेल, अवधेश गिरी, अतुल सिंह, यूपी सिंह ने स्वामी जी के बारे में अपने अपने विचार व्यक्त किये।
    Jaunpur : भारत विकास परिषद ने मनाई स्वामी विवेकानन्द की जयंती

    अध्यक्ष अतुल जायसवाल ने कहा कि बचपन में वीरेश्वर से नरेंद्र नाथ और नरेंद्र नाथ से स्वामी विवेकानंद बनने तक का जीवन का सफर स्वामी जी का बहुत ही संघर्षपूर्ण रहा। वाराणसी में 24 वर्ष की अवस्था में उनका आना हुआ। इसी वाराणसी से उन्होंने शिकागो की धर्म संसद में जाने का निश्चय किया था। जब वह शिकागो में गए तो उनकी वेशभूषा देखकर वहां के लोग उन्हें एक असभ्य समाज का व्यक्ति मानकर मजाक उड़ाया। एक व्यक्ति ने तो इंग्लिश में बोलते हुए उनसे कहा हू आर यू उन्होंने हिंदी में जवाब दिया मैं भारतीय हूं। तो सोचा कि यह व्यक्ति अनपढ़ है और इसे इंग्लिश नहीं आती तो उसने हिंदी में पूछा कि यहां क्या करने आए हो तो उन्होंने इसका जवाब इंग्लिश में दिया। तब वह पूछा जब मैं इंग्लिश में बोल रहा था तो आपने हिंदी में जवाब दिया और जब मैं हिंदी में कुछ पूछा तो आपने इंग्लिश में जवाब दिया। इसका क्या मतलब है तो स्वामी जी ने कहा कि जब आप अपनी मां का सम्मान कर रहे थे अंग्रेजी बोल कर तो मैं हिंदी बोल कर अपनी मां का सम्मान कर रहा था।

    जब आप हिंदी बोलकर मेरी मां का सम्मान कर रहे थे तो मैं इंग्लिश बोलकर आपकी मां का सम्मान कर रहा था क्योंकि हमारी संस्कृति है कि हम दूसरों का सम्मान करें और यदि दूसरा हमें अपमानित करें तो उसको अपमानित न करें हमारी संस्कृति है। उनके भाषण को सुनकर प्रभावित होने के बाद एक महिला ने कहा कि काश मेरा भी पुत्र व्यक्तित्व का धनी होता तो स्वामी जी ने महिला का पैर छुआ और कहा कि देर किस बात का तुम मुझे पुत्र मान लो मैं तुम्हें अपनी मां जैसा प्यार करता हूं।

    संस्था के अध्यक्ष अतुल जायसवाल ने सभी सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त किया। राष्ट्रगान के साथ सभा संपन्न हुई। इस अवसर पर भृगुनाथ पाठक, अवधेश गिरि, अतुल सिंह, यूपी सिंह, सतेन्द्र अग्रहरि, दिलीप जायसवाल, आयुष गिरि, विकास पाठक, अदित्य प्रताप, देवाश प्रताप आदि उपस्थित रहे।

    Advt.

    Advt.

    Advt.

    No comments