• Breaking News

    जौनपुर : आठवीं मोहर्रम की देर रात्रि निकला शाही तुर्बत का जुलूस #NayaSabera

    नया सबेरा नेटवर्क
    जौनपुर।
    कर्बला के प्यासे शहीद हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम और उनके 72 साथियों की शहादत की याद में बड़ी मस्जिद स्थित खानकाह इमाम चौक और इमामबाड़े से आठवीं मोहर्रम की देर रात्रि शाही तुर्बत का जुलूस निकला। जिसके हमराह अंजुमन अज़ादारिया व अंजुमन जुल्फेकरिया के साथ अन्य अंजुमनों ने नौहा व मातम कर कर्बला के शहीदों को पुरसा दिया।

    जुलूस अपने पारम्परिक रास्ते बड़ी मस्जिद चौराहा, उर्दू बाजार गली होता हुआ इमामबाडा वक्फ मुस्तफा हुसैन एवं इनाम चौक वक्फ मुस्तफा हुसैन पर समाप्त हुआ। जुलूस की मजलिस को संबोधित करते हुए ज़ाकिरे अहलेबैत बेलाल हसनैन ने कहा कि मोहर्रम 10 तारीख को नवासा-ए-रसूल इमाम हुसैन अपने 72 साथियों और परिवार के साथ मजहब-ए-इस्लाम को बचाने, हक और इंसाफ कोे जिंदा रखने के लिए शहीद हो गए थे। इमाम हुसैन को उस वक्त के मुस्लिम शासक यजीद के सैनिकों ने इराक के कर्बला में घेरकर शहीद कर दिया था। लिहाजा, 10 मोहर्रम को पैगंबर-ए-इस्लाम के नवासे (नाती) हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद ताजा हो जाती है। किसी शायर ने खूब ही कहा है- कत्ले हुसैन असल में मरग-ए-यजीद है, इस्लाम जिंदा होता है हर कर्बला के बाद। दरअसल, कर्बला की जंग में हजरत इमाम हुसैन की शहादत हर धर्म के लोगों के लिए मिसाल है। यह जंग बताती हैं कि जुल्म के आगे कभी नहीं झुकना चाहिए, चाहे इसके लिए सिर ही क्यों न कट जाए, लेकिन सच्चाई के लिए बड़े से बड़े जालिम शासक के सामने भी खड़ा हो जाना चाहिए। इस मौके पर शमशीर हुसैन, तालिब ज़ैदी, अख्तर हुसैन, हैदर ज़ैदी, आरिफ हुसैनी, ज़फ़र अब्बास जफ्फू, समर आफताब, तनवीर जौनपुरी के साथ भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।

    Advt. Agafya Furnitures | Exclusive Indian Furniture Show Room | Mo. 9198232453, 9628858786
    Advt.
    Advt. High Class Mens Wear | 1- Atala Masid Shia College Road, Jaunpur | 2- Chandra Hotel Olandganj Jaunpur | Mo. 9305861875
    advt.

    Advt. Gahna Kothi Bhagelu Ram Ramji Seth  Hanuman Mandir K Samane Kotwali Chauraha Jaunpur Mo. 9984991000, 9792991000, 9984361313  Sadbhawana Pul Road Nakhas Olandganj Jaunpur  Mo. 9838545608, 9984991000
    Advt

    No comments