• Breaking News

    जौनपुर : हो रही बारिश, जारी है कहर, ए​क क्लिक में पढ़िए जिलेभर की पूरी खबर #NayaSabera

    • 20 कच्चे मकान ढहे, आधा दर्जन लोग हुए घायल
    • कई जगह पर गिरे पेड़, धंस गयी जमीन
    • शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों में नदी बढ़ने से बढ़ी परेशानी
    • निचले इलाकों में घुसने लगा पानी, लोग घर छोड़ने को हुए मजबूर
    नया सबेरा नेटवर्क
    जौनपुर।
    जिले में लगातार 60 घंटे तक हुई बारिश ने खूब कहर ढाये। जिले भर में कुल 20 स्थानों पर कच्चे मकान ढहे वहीं इस घटना में आधा दर्जन लोग घायल भी हुए। कुछ स्थानों पर पेड़ गिर गये तो कहीं जमीन धंस गयी। शहर से लेकर ग्रामीणांचल तक गोमती, सई, पीली, बसुही, वरुणा आदि नदियां उफान पर है निचले इलाके में पानी घुसने से लोग अपना घर छोड़ने को मजबूर है। बता दें कि गुरुवार को 14 फुट रहने वाली नदी शुक्रवार को 17 फुट हो गयी तथा शनिवार को साढ़े 19 फुट हो गयी है। इसको लेकर नदी के किनारे रहने वाले परिवारों पर चिंता की लकीरें खींच गयी हैं। लोगों का कहना हैं कि यदि इस तरह गोमती नदी का जलस्तर बढ़ता गया तो स्थिति और भयावह हो जायेगी। बताते चलें कि जौनपुर में वर्ष 1950 में जबर्दस्त बाढ़ आयी थी जिसमें समूचा शहर डूबा हुआ था। इसके बाद वर्ष 1970 एवं 1980 की बाढ़ भी कम तबाही नहीं मचायी थी जिसके बाद वर्ष 1985 में हल्की बाढ़ आने के बाद अभी तक बाढ़ जैसी स्थिति कभी नहीं बनी। इस बार के लगातार बारिश से गोमती सहित अन्य निदयों के बढ़ते जलस्तर ने आम व खास लोगों के साथ शासन-प्रशासन को सोचने पर मजबूर कर दिया है।

    इधर बहुत दिनों बाद इस तरह की हुई बारिश से जलस्तर इतना ऊपर हो गया कि सई नदी का पानी बरगुदर पुल के ऊपर तक पहुंच गया। इसको लेकर नदी के किनारे सहित आस-पास के लोग बहुत डरे हुये हैं। लोगों का कहना हैं कि अगर इसी तरह अगले कुछ घण्टों तक बारिश हुई तो गाय घाट, विशुनपुर, सतलपुर सहित अन्य गांवों में धीरे-धीरे पानी भर जायेगा। वहीं नदी के किनारे बसे बाबा यादव का कहना है कि इस तरह की बारिश पहले होती थी लेकिन इधर 15 साल बाद हो रही है। रामचरित्तर निषाद का कहना है कि खतरे के निशान से ऊपर पानी नदी में हो गया है। बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। प्रमोद मौर्या का कहना है कि अगर ज्यादा बारिश और हवा चली तो धान के फसल को नुकसान होगा। खानापट्टी निवासी प्रेम नारायण सिंह ने कहा कि अगर इसी तरह बारिश होती रहेगी तो जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो जायेगा।

    कच्चा मकान गिरा, सामान हुए नष्ट
    सिकरारा थाना क्षेत्र के पाण्डेयपुर निवासी राजकुमार पाण्डेय का कच्चा मकान गिर गया जिसमें गृहस्थी के सामान भी दबकर नष्ट हो गये। वहीं परिवार के लोग कच्चा मकान में दबने से सुरक्षित बच गये। राजकुमार पांडेय ने अपने तीन भाई एक बहन और बूढ़े माता-दादी के साथ रह रहे थे। कच्चा मकान गिरने जाने से परिवार की मुसीबत बढ़ गई। रहने के लिए अलग से कोई आवास नहीं है। लगातार हो रही बारिश से जल जमाव से मेड़ और रास्ते के कट जाने से लोगों का आवागमन बाधित हो गया है। जिससे लोगों की मुश्किलें बढ़ गई है।

    चार पहिया वाहन पर गिरा पेड़, दंपति व बच्ची बाल बाल बचे
    विनय सिंह, चंदवक : स्थानीय थाना क्षेत्र के आजमगढ़-वाराणसी रोड पर कर्रा कालेज के समीप शनिवार देर शाम जायलो चार पहिया वाहन पर शीशम का पेड़ गिर गया। संयोग अच्छा था कि चालक समेत गाड़ी में सवार दंपती व एक बच्ची बाल बाल बच गए। सूचना पर तत्काल पहुंची पुलिस व स्थानीय लोगों के सहयोग से पेड़ काट कर हटाया गया। आजमगढ़ जनपद के सिधारी थाना क्षेत्र के हरवंशपुर गांव निवासी राधेश्याम अपनी पत्नी मनीषा व बच्ची आराध्या के साथ अपनी एक बेटी जो वाराणसी के एक स्कूल में पढ़ती है से मिलकर लौट रहे थे। लगातार हो रही बारिश के चलते भारी शीशम का पेड़ गाड़ी पहुंचते ही गिर पड़ा जो बोनट पर ही गिरा और सभी सवार बाल बाल बच गए। देखने वालों की धड़कन रु क गई और चिल्लाते हुए गाड़ी के पास पहुँचे लेकिन सभी सुरक्षित थे। इसके बाद लोगों ने पुलिस के सहयोग से पेड़ को काटकर सड़क से हटाया। इसके बाद आवागमन शुरू हुआ।

    दो दिनों से लगातार हो रही बारिश से सड़कें हुई जलमग्न
    चंदवक : स्थानीय क्षेत्र में दो दिनों से हो रही लगातार जोरदार बारिश से सड़के जलमग्न हो गई है। जिससे आवागमन में लोगों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। सबसे ज्यादा खराब स्थिति चंदवक बाजार के आजमगढ़ मार्ग की हो गई है। पेट्रोल पंप के सामने 50 मीटर सड़क खंदक में तब्दील हो गई है। बड़े-बड़े गड्ढे हो गए है जिसमें पानी भरने के कारण अंदाजा न लगने से छोटे बड़े वाहन फंस जा रहे है जिससे आवागमन में लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्र के लोगों के बार-बार कहने के बावजूद राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण सड़क की मरम्मत नहीं करा रहा है जबकि राष्ट्रीय राजमार्ग चंदवक गोमती पुल से कंजहित तक टूट गया है।

    लगातार हो रही बारिश से आधा दर्जन कच्चे मकान ढहे
    चंदवक : क्षेत्र में दो दिनों से हो रही लगातार बारिश से रामदेवपुर (गोनौली) गांव निवासी केशव गुप्ता, दीपराज यादव, श्रीधर यादव, नगीना राम, हवलदार विश्वकर्मा, अछैबर यादव का कच्चा रिहायशी मकान गिर गया जिसमें रखा गृहस्थी का समान नष्ट हो गया। घटना की सूचना प्रधान श्रीप्रकाश यादव ने राजस्व विभाग को दे दी।

    वरु णा नदी का पानी पाल बस्ती में घुसा, अन्य स्थानों पर रहने को मजबूर लोग
    जय सिंह, रामपुर : स्थानीय थाना क्षेत्र के ग्राम पचवल में वरुणा नदी के किनारे बसे हुए पाल बस्ती में लोगों के घरों में पानी घुस जाने से जहां पर दर्जनों कच्चा मकान ढह गया। वहीं पर लोग घर छोड़कर अन्य स्थानों पर रहने के लिए मजबूर हो गए हैं। बताते हैं कि 26/27 को अचानक नदी में पानी बढ़ गया। नदी के किनारे बसे हुए पाल बस्ती के दर्जनों लोगों का भरत पाल, रामदुलार, बाला, सभाजीत, छब्बन, हुबलाल सहित काफी लोगों का कच्चा मकान ढह गया और लोगों के घरों में पानी डूब जाने से लोग अन्य स्थानों पर रहने के लिए विवश हो गये है।

    रामपुर में सड़क का हाल

    कच्चा मकान गिरने से तीन घायल
    रामपुर : रामपुर थाना क्षेत्र के ग्राम मई में कच्चा मकान गिरने के कारण तीन लोग घायल हो गये। लगातार हो रही बरसात के कारण रामपुर थाना क्षेत्र के ग्राम मई गांव में शुक्रवार रात में कच्चा मकान गिर जाने से सो रहे अनिल (35), झिलानी (7) तथा मुंसे (4) वर्ष घायल हो गये। घर में गुड्डी भागकर जान बचायी। घायलों का उपचार कराया गया।

    4 मकानों की कच्ची दीवार गिरी
    श्याम चंद्र यादव, खेतासराय : स्थानीय क्षेत्र में लगातार हो रही बरसात से कच्चे मकानों की दीवार गिरना शुरू हो गई है। कई स्थानों पर जलजमाव की समस्या पैदा हो गई है। क्षेत्र के जमदहा में शिवराज दलित का भी मकान शनिवार को गिर गया जबकि इसी गांव में खुरभुड़ दलित का कच्चा  मकान शनिवार की भोर में गिर गया। सफीपुर निवासी राजकुमार यादव का मकान शुक्रवार की देर शाम गिर गया। शाहापुर में ज्वाला पंडित का मकान पानी घुसने से शनिवार की सुबह गिर गया। उधर मानीकलां गावं में जलनिकासी की समस्या बरकरार है। जमिलाबाद मोहल्ले में कई घरों में पानी घुस गया है।
    मीरगंज में धंसी सड़क
    सेतु का मार्ग धंसा, भदोही-जौनपुर का टूटा संपर्क
    प्रदीप कुमार दुबे, मीरगंज : स्थानीय क्षेत्र के वरु णा नदी पर बने पंडित दीनदयाल सेतु का पहुंच मार्ग धंस गया है। जिससे पिछले दो दिनों से बड़े वाहन सुरियावां-मीरंगज सड़क पर न चलने से भदोही और जौनपुर जिलों के बीच संपर्क टूट गया है। इस सेतु का निर्माण दो जिलों को जोड़ने की मंशा से भाजपा सरकार में लोक निर्माण मंत्री रहे पंडित कलराज मिश्र की तरफ से कराया गया था लेकिन वर्तमान में जन प्रतिनिधियों की उपेक्षा के चलते मार्ग के ध्वस्त होने से पूरा यातायात बाधित हो गया है। जान जोखिम में डालकर कुछ छोटे वाहन किसी तरह चल रहे है। जिसके चलते बसों और चार पहिए का संचालन ठप होने से दोनों जिलों की जनता परेशान है। सेतु में एक दर्जन से अधिक जानलेवा गड्ढे बन गए हैं। सेतु पर पैदल गुजरना भी मुश्किल हो चला है लेकिन भदोही और जौनपुर जिला प्रशासन की नींद नहीं टूट रही है। शायद किसी बड़ी दुर्घटना का इतंजार कर रहे है। वरु णा नदी पर बने इस सेतु की हालत बेहद खस्ता हो चली है। पुल के पास सड़क पर इतने गहरे और जानलेवा गड्ढे बन गए हैं जिसे देखकर उधर से गुजरने वालों की रु ह कांप जाती है। बसों और चार पहिया वाहनों का आवागमन ठप हो गया है। बाइक सवार किसी तरह जान जोखिम में डाल कर यात्रा कर रहे हैं क्योंकि इस सेतु से संपर्क टूटने से वाराणसी और विंध्यधाम के लिए संचालित बसों का आवागमन भी प्रभावित हो गया है। यह मार्ग बेहद चालू है लेकिन इस तरफ किसी सांसद, विधायक और सरकार का ध्यान नहीं जा रहा है। बनकट गांव निवासी चंदा सिंह, मान सिंह, भान सिंह, पंकज दूबे आदि ने बताया कि भदोही और जौनपुर का संपर्क मार्ग टूट गया है। इस सेतु का निर्माण भाजपा सरकार में कराया गया था लेकिन बाद की सरकारें उसे सहेज तक नहीं पायी। वरु णा बरसात की वजह से उफनाने लगी हैं लेकिन पुल का संपर्क मार्ग टूटने से लोग जान जोखिम में डाल कर दुपहिया से जा रहे हैं।
    मीरगंज में गिरा पेड़
    बरसात से दहल कर गिरा नीम का पुराना पेड़
    मीरगंज : स्थानीय क्षेत्र के गोधना बाजार स्थित प्राइमरी पाठशाला गेट के बगल चाय पान की दुकान के ऊपर जमकर हो रही बरसात से दहल कर शुक्रवार की शाम एक विशालकाय नीम का पेड़ गिर गया। जिससे उसमें बैठे दुकानदार धरम सिंह संयोग से बाल-बाल बच गये। उसी के बगल डा. केबी सिंह का गौशाला भी पेड़ की चपेट में आने से क्षतिग्रस्त हो गया। संयोग ही रहा कि उसमें बांधी गयी गायें बच गर्इं। ग्रामीणों ने किसी तरह सभी को बाहर निकाल कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया।

    बसेरवा गांव में कच्चा मकान ढहा, महिला घायल
    मीरगंज : बसेरवा गांव के सरोज बस्ती में कच्चा मकान गिर गया जिसमें अनिता देवी पत्नी राहुल खाना बना रही थी तथा बच्चे अंदर बैठे थे। तभी अचानक मकान भरभरा कर गिरने लगा जिसकी चरमुराहट सुन परिवार के अन्य लोग भाग खडे़ हुऐ लेकिन खाना बना रही महिला जब तक कुछ समझ पाती की उसके ऊपर लकडी गिर गयी। जिससे वह घायल हो गयी। जिसका परिजनों द्वारा उपचार कराया गया। वहीं मकान के अन्दर रक्खा पूरा खाद्यान दब गया। पीड़ित ने बताया कि हजारों का नुकसान हुआ है।

    अत्यधिक बारिश के चलते दो कच्चे मकान ढहे
    जगदीश गुप्ता, धर्मापुर : विकास खण्ड मुफ्तीगंज के ग्राम विझवार सागर में सूबेदार यादव व बालचन्द गौतम के कच्चे मकान ढह गये जिसमें उनके अनाज, बिस्तर और जरुरी सामान दब गये जिससे काफी नुकसान हुआ। पानी में गांव के लोग पहुंचकर राहत की। घर के लोग दूसरे घर में सोये थे। मौके पर ग्राम प्रधान वीरेंद्र यादव ने उन्हें हर संभव सहायता देने का आश्वासन दिया। कोई भी लेखपाल व कर्मचारी बारिश के कारण नहीं पहुंच सके।

    तीन और मकान हुए धाराशायी
    शिवशंकर दुबे, खुटहन : क्षेत्र में अनवरत हो रही बरसात चौथे दिन भी जारी रही। इससे जलजमाव व नमी के चलते शुक्रवार की रात अलग-अलग गांवों में तीन और मकान धराशायी हो गये। कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। गोबरहा गांव निवासी अच्छेलाल यादव का दो कमरे के पक्के मकान का एक कमरा अचानक ढह गया। इसके अलावा शेरापट्टी गांव के जवाहर यादव और खुटहन गांव के अवधपाल का दो-दो कमरे का कच्चा मकान ढह गया। मलबे में दबकर हजारों के गृहस्थी का सामान नष्ट हो गया।

    लगातार वर्षा से जनजीवन प्रभावित
    अखिलेश श्रीवास्तव, मछलीशहर : स्थानीय नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रो में पिछले कई दिनों से लगातार हो रही बरसात से लोग अपने अपने घरों में कैद हो गए। लगातार बरसात के चलते लोगों में हाहाकार मचा हुआ है। बरसात के चलते पुराने एवं जर्जर मकान में रहने वालों की नींद हराम हो गयी। वे लोग जान हथेली पर रखकर किसी तरह भगवान से बरसात रुकने की प्रार्थना कर रहे है। बरसात के चलते जगह-जगह जल जमाव के कारण जहां आवागमन ठप हो गया है वहीं दूसरी तरफ बिजली व्यवस्था भी ध्वस्त हो गयी है। रोज कमाने खाने वाले गरीबों और कमजोर वर्ग के लोगों के समक्ष दो जून की रोटी की समस्या खड़ी हो गई है। जिसके चलते लोगों में त्राहि-त्राहि मची हुई है। वहीं बरसात के चलते विद्युत व्यवस्था चरमराई गयी है जिससे पानी के लिए हाहाकार मचा हुआ है।

    भारी वर्षा से दुर्गा पूजा की तैयारियों में बाधा
    मछलीशहर : स्थानीय नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार हो रही अनवरत बारिश से दुर्गा पूजा की तैयारियों में भी बाधा पड़ रही है। गुरु वार से लगातार बारिश के चलते क्षेत्र में सजने वाले पंडालों पर निर्माण कार्य रु क गया है। बताते हैं कि तहसील क्षेत्र के नगर सहित ग्रामीण क्षेत्र के बरईपार, बेलवाई, सरायभोगी, सुजानगंज, बेलवार, मधुपुर, मुंगराबादशाहपुर, पंवारा, खाखोपुर, जमुहर, तिलोरा, बधवां, गोधना, जंघई सहित सभी बाजारों एवं गांवों में शारदीय नवरात्र में मां दुर्गा का भक्तों द्वारा सैकड़ों पंडाल सजाकर विधि-विधान से पूजन करने की धूम मची रहती है। इस दौरान आकर्षक देवी पंडालों को सजाकर एक दूसरे से उत्तम साबित करने की होड़ मची रहती है। कारीगर भी दिन-रात कड़ी मेहनत कर आकर्षक प्रतिमाओं का निर्माण कर अंतिम रूप दिया गया। नवरात्रि में देवी पूजन शुरू होने के तीन दिन पूर्व से लगातार हो रही बारिश के चलते लोग परेशान है। खराब मौसम को देख हुए अधिकांश समितियों द्वारा वाटर प्रूफ पंडालों बनाया जा रहा है ताकि बीच में व्यवधान न पैदा हो सके।

    लगातार बरसात के चलते तीन फीट बैठी जमीन
    मछलीशहर : स्थानीय नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रो में पिछले तीन दिन से लगातार हो रही बरसात के चलते शनिवार को सुबह जमालपुर गांव में राकेश कन्नौजिया के घर के सामने गोशाला के पास तीन फीट जमीन बैठ गई। जिसके चलते हौदी लगभग तीन फीट नीचे स्वत: चली गयी। बताते है कि उक्त गांव के राकेश हौदी रखकर गाय खिलाते थे जहां कई दिन से चल रही बरसात से आस-पास की जमीन दलदल हो चुकी थी। रात में बरसात के बाद सुबह जब गाय बांधने गए तो देखा कि जमीन लगभग चार फीट चौड़ी व पांच फीट लम्बी जमीन लगभग तीन फीट नीचे चली गयी है। इस संबंध में लोगों ने बताया कि कई दिन से बरसात के कारण जल स्तर ऊपर आने से नीचे दलदल हो गया है। जिसका असर है। इसी प्रकार उसी गांव निवासी शिवशंकर श्रीवास्तव का कच्चा मकान की कुछ भाग गिर गया।

    कच्चा मकान गिरने से बेघर हुआ परिवार, बालिका चोटिल
    अच्छे लाल यादव, थानागद्दी : थानागद्दी निवासी शाबीर अली का कच्चा मकान पानी से सलसला कर गिरने लगा। घर में सो रहा परिवार के सदस्य में बेटी आफिया (12) भी चोटिल हो गयी। लोग भागकर मुश्किल से अपनी जान बचा पाए। घर में रखा गृहस्थी का सारा सामान मिट्टी के ढुहे में दब कर नुकसान हो गया। पूरा परिवार इस भारी बारिश में बेघर हो गये। पीड़ित परिवार दूसरे के घर में शरण लेने को मजबूर हो गया है। इसी प्रकार भीतरी गांव के छेड़ी गौड़, राजू गुप्ता तथा मोहन गुप्ता का मकान जमींदोज हो गया। वहीं बेहड़ा गांव में मंगला सिंह और टंडवा गांव निवासी नखड़ू खैरवार का कच्चा मकान बरसात के कारण ढह गया जिसमें रखा अनाज व खाद्य सामग्री व भूषा सब नष्ट हो गए।
    रामनगर में गिरा कच्चा मकान

    पक्के मकान पर गिरा कच्चा मकान
    अरशद हाशमी, मड़ियाहूं : रामनगर ब्लाक अंतर्गत मुस्तफाबाद गांव में शुक्रवार रात में अनवरत बारिश के कारण सुशीला देवी पत्नी स्व. रामप्यारे यादव का पक्का मकान पर पड़ोस के हरिशंकर यादव के जर्जर कच्चे मकान गिरने से पूरी तरह ध्वस्त हो गया। सुशीला देवी का कहना है कि घर के अंदर रखा सारा सामान मलबे में दब गया जो लगभग 50,000 का था। महिला विधवा है। उसके पास कोई दूसरा मकान भी नहीं है। समाचार लिखे जाने तक मौके पर कोई अधिकारी सूचना देने के बावजूद नहीं पहुंचा।

    #जौनपुर में पहली बार वेबमण्डी (#WebMandi) द्वारा ताजा #फल और #सब्जियों का #आर्डर #फ़ोन और #व्हाट्सएप्प पर करें-  आर्डर करने के लिए 9554113355 और 9554113366 पे काल या व्हाट्सएप्प करें, आपका सामान एक अच्छी और स्वच्छ तरीके की पैकिंग के साथ आपके घर/दुकान पे  पहुंचा दिया जाएगा।  मोबाइल एप्लीकेशन #गूगल_प्ले स्टोर पर WebMandi नाम से उपलब्ध है। उसे #डाऊनलोड करके उससे सीधे #आर्डर कर सकते है।     https://play.google.com/store/apps/details?id=com.webmandi.app    #WebMandi #Jaunpur
    Advt
    Advt. Agafya Furnitures | Exclusive Indian Furniture Show Room | Mo. 9198232453, 9628858786
    Advt.
    Advt. High Class Mens Wear | 1- Atala Masid Shia College Road, Jaunpur | 2- Chandra Hotel Olandganj Jaunpur | Mo. 9305861875
    advt.

    No comments