• Breaking News

    आजमगढ़ : हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर फाइन आर्ट सेंटर के 33 कलाकारों द्वारा बनाई पेंटिंग्स #NayaSabera

    नया सबेरा नेटवर्क
    आजमगढ़। चित्रकला प्रदर्शनी 'मुख्य-पृष्ठ' का आयोजन हल्दीराम बैंक्वेट हॉल रोडवेज़ आजमगढ़ में किया गया जिसका उद्घाटन श्री नागेन्द्र प्रसाद सिंह  जिलाधिकारी, आजमगढ़ ने आज शाम को किया।


    जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि प्रत्येक भाषा का विकास वहाँ के सांस्कृतिक परिवेश के अनुरूप होता है। अतः निज भाषा का प्रयोग व्यक्ति के व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकास के लिए आवश्यक है और जब व्यक्ति का पूर्ण विकास होगा तो राष्ट्र का विकास अपने आप हो जाएगा।  प्रदर्शनी में हिंदी वर्णमाला के क, ख, ग से क्ष, त्र, ज्ञ तक हर वर्ण से हिंदी साहित्य की प्रमुख पुस्तकों के मुख्य पृष्ठ बनाए गए हैं जैसे क से कर्मभूमि और ज्ञ से ज्ञानगंगा। इसके साथ ही मांडला व अम्ब्रेला पेंटिंग भी प्रदर्शित की गयी है।

    इस कार्यक्रम के संयोजक डॉ. कौशलेन्द्र विक्रम मिश्र ने कहा कि विश्व के प्रमुख शक्तिशाली और उन्नत देशों के विकास में उनके निज भाषा का महत्वपूर्ण स्थान रहा है। फ्रांस, जर्मनी, जापान, इजराइल, रूस, अमेरिका, ब्रिटेन और आस्ट्रेलिया आदि देशों के विकास में वहां की अपनी भाषा का योगदान महत्वपूर्ण रहा है। चीन जो विश्व में एक तेजी से उभरता हुआ शक्तिशाली देश है और जिससे अमेरिका भी भयग्रस्त रहता है कि अपनी निजी भाषा है जिसे मंदारिन कहते हैं अगर भारत को एक मजबूत राष्ट्र बनना है तो उसकी निज भाषा एक अनिवार्य शर्त है।

    इस कार्यक्रम में नारी शक्ति संस्थान की डॉ. पूनम तिवारी, अनामिका सिंह, डॉ. प्रशांत राय, डॉ. बीके सिंह, डॉ. राकेश यादव, डॉ. इंद्रजीत, डॉ. प्रवेश सिंह, समाजसेवी प्रवीण सिंह और अरविंद चित्रांश, शिक्षक नेता बृजेश राय,  बृजेश यादव आदि उपस्थित रहे। डॉ. लीना मिश्रा ने सभी आगंतुकों का आभार प्रकट किया।





    No comments